• mohini_uvaach 24w

    कहते जाना और है, करके दिखाना और है;
    रिश्ते बना करके यहाँ रिश्ते निभाना और है!
    ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
    जो कह रहा है तेरे दर पे मर मिटेगा, हाँ, उसीका,
    अगली गली में एक ठिकाना और है !
    ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
    ढूंढना बेकार है अब खेल बचपन के वो सब,
    वो ज़माना और था, ये ज़माना और है !
    ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
    एक झूठ ही पकड़ा गया है आज उसका, देख लेना
    पास उसके एक बहाना और है !
    ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
    बिना बोले साथ देना मुश्किल है बड़ा,
    हाँ, काम करके फिर जताना और है!
    ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
    चीखकर कब्रें ये सारी कह रही हैं,
    "जा, खाली अभी एक कत्लखाना और है !! "
    ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
    अपने घर की मैं ज़रा खुशबू बटोरूँ, इस शहर में
    कुछ दिन अपना आब-ओ-दाना और है !
    ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
    यूँही नहीं टूटते नाते यहाँ पर आज भी,
    रूठ जाना और है, छोड़ जाना और है !
    ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
    यार ने देखा है जो चुपके से मुड़कर,
    हो चला ये दिल दीवाना और है !
    ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
    बंद दरवाज़े किसी दिन तो खुलेंगे,
    अभी इस तरफ़ आना-जाना और है !
    ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
    © मोहिनी_उवाच ��

    #hks @hindiwriters @hindikavyasangam @shriradhey_apt @writersnetwork @kmeenutosh @almitraa @smriti_mukht_iiha @vikram_sharma @sakshi_sharma @kavyodaya @mushaaiir @anjalitushir @feelingsbywords @monikakapur @asma7khan @baanee @adi_inscriptions

    Read More

    कहते जाना और है, करके दिखाना और है;
    रिश्ते बना करके यहाँ रिश्ते निभाना और है!

    जो कह रहा है तेरे दर पे मर मिटेगा, हाँ, उसीका,
    अगली गली में एक ठिकाना और है !

    ढूंढना बेकार है अब खेल बचपन के वो सब,
    वो ज़माना और था, ये ज़माना और है !

    एक झूठ ही पकड़ा गया है आज उसका, देख लेना
    पास उसके एक बहाना और है !

    चीखकर कब्रें ये सारी कह रही हैं,
    "जा, खाली अभी एक कत्लखाना और है !! "

    अपने घर की मैं ज़रा खुशबू बटोरूँ, इस शहर में
    कुछ दिन अपना आब-ओ-दाना और है !

    यूँही नहीं टूटते नाते यहाँ पर आज भी,
    रूठ जाना और है, छोड़ जाना और है !

    यार ने देखा है जो चुपके से मुड़कर,
    हो चला ये दिल दीवाना और है !

    बंद दरवाज़े किसी दिन तो खुलेंगे,
    अभी इस तरफ़ आना-जाना और है !

    © मोहिनी_उवाच