• ripudamanjhapinaki 16w

    चार दिन की जो ज़िंदगानी है
    उसमें दो दिन की ही जवानी है
    जी ले जी भर के ज़िंदगी का मज़ा
    लौटकर फिर से न ये आनी है।
    "पिनाकी"

    Read More

    चार दिन की जो ज़िंदगानी है
    उसमें दो दिन की ही जवानी है
    जी ले जी भर के ज़िंदगी का मज़ा
    लौटकर फिर से न ये आनी है।
    "पिनाकी"
    ©ripudamanjhapinaki