• limitloss 6w

    ज़िद

    ज़िद है यहां कुछ के झूठे अहम की...
    सपना अगर ना टूटे दिल से अलग
    तो ख़्वाबों के साथ
    रूह की भी हस्ती मिटा दी जाती हैं यहां...

    ©limitloss