• jazlyn_world 9w

    जीवन में एक पलड़ा होता है सुधार का
    और एक पलड़ा होता है स्वीकार का
    इन दोनों के तालमेल से ही
    जीवन चलता है इंसान का।

    ©jazlyn_world