• sanki_shayar 5w

    @hindiwriters बहुत दिनों बाद कुछ लिखा है...

    Read More

    ये नहीं कहता कि कितने नज़ारे देखे
    जितने देखे, तेरी आँखों के सहारे देखे ।।

    कोई कहानी मुझे रास क्यों नहीं आती
    अपने सिवा भी कई इश्क़ के मारे देखे ।

    यही हुआ है, तुझे इंसां से ख़ुदा बनाने में
    तुम्हें देखा और फिर ख़्वाब भी तुम्हारे देखे।।
    ©sanki_shayar