• shahi0 12w

    शब-ये- महताब की बेखुद चाँदनी सबने देखी।
    आसमां का स्याह हो जाना किसी ने नही देखा।