• pinkspreet 6w

    वजूद

    मिट्टी के बने हैं हम....
    गर टूटकर बिखेरेंगे..
    तो फिर से बन सकेंगे..!!
    हम कांच के नहीं हैं....
    जो समेटने लगोगे..
    तो तुमको ही जख्म देंगे..!!