• kavish_kumar 2w

    निष्कपट बचपन के दौर में,

    एक मलीन दर्पण होता है..

    जब नन्ही अंगुलियों की जकड़न में,

    किताब नही जूठा बर्तन होता है..

    © Aatish ��