• nikhiltripathi 14w

    .

    ✍✍✍✍
    *रखा करो नजदीकियां, ज़िन्दगी का कुछ भरोसा नहीं...*
    *फिर मत कहना चले भी गए और बताया भी नहीं. . . !*
    *बहुत ग़जब का नज़ारा है इस अजीब सी दुनिया का,*
    *लोग सबकुछ बटोरने में लगे हैं खाली हाथ जाने के लिये..!*