Grid View
List View
Reposts
  • aaditya 14h

    but i think i get a bit confused,
    am i seducing or being seduced?

    Read More

    love isn’t always sunshine
    or forehead kiss,
    pretty words in lover’s mouth
    or midnight bliss.

    when love creeps in slowly
    and knock at your door,
    you swim all the oceans
    but drown at the shore.

    when love stabs slowly
    and asks you to yield,
    you keep a smile in the eyes
    but scars concealed.

    when love leaves you hollow
    and haunts in the shadows,
    the roses in your heart
    dries in the meadows.

    when love wreaks havoc
    and breaks your heart,
    you search for its pieces
    till the sorrow departs.

    when love soars high
    hearts begin to shiver,
    the flayed vows start
    to rot and wither.

    when love leaves you cold
    its all despair,
    you weep for the warmth
    to the gods in the prayer.

    but wound love gives
    it heals with time,
    then you praise its glory
    with sugar-coated rhymes.

    you bleed all the hearts
    you’ve offered before,
    but it’s the love at the end
    so you never say, ‘not anymore.’

    ©aaditya

  • aaditya 3d

    इतनी गिरहें खोलें कैसे,
    इतनी गांठ लगाई क्यों।

    Read More

    तुम्हारे बाद मैंने पहली बार सोलो ट्रैवल करना शुरू किया है।
    इतने सालों बाद अनजाने शहर अकेले देखने का मौका मिला।
    हज़ारों पहाड़, नदियां, झील। हज़ारों लोग।
    मुझे लोगों से बात करना ज़्यादा नहीं पसंद है पर चुपचाप नोटिस करके
    उनके पीछे छुपी कहानियां खंगालने की कोशिश करता हूँ।

    बाहर देख ही रहा था की
    खिड़की के बाहर दूर पहाड़ों पर एक मंदिर पर आँख अटक गयी।
    क्यों? पता नहीं।
    हर चीज़ को मुट्ठी भर शब्दों में तुम्हें कैसे समझाऊं।
    शायद मेरा ईश्वर मुझे तुम्हारी याद दिलाता है।
    दोनों ही ने मुझे जवाब देना बंद कर दिया है।
    पर अभी भी मेरा पागल मन नास्तिक नहीं हुआ है।
    शायद कभी मेरी प्रार्थनाएं तुम तक पहुचें ईश्वर से होते हुए
    और तुम जवाब दे पाओ।

    खैर!
    मेरे बकेट लिस्ट के सारे शहर अब ख़तम हो रहे हैं।
    रास्ते में जितनी कविताएँ लिखी थी तुम्हें सोचते हुए
    उन्हें भी घर जाके जलाने का सोचा है।
    जानती हो
    कविताएँ दुःख का सेकंड हैंड वर्ज़न होती हैं।
    शायद उसके बाद मेरे सारे दुःख भी ख़तम हो जाएं।
    पर ट्रिप से काफी कुछ सीखने को मिलता है।
    इवन पोएट्री डाइज़ बट नॉट एक्सपीरियंस। यू नो।
    केरल में एक मंदिर है जहाँ के पत्थर लोग कहते हैं पानी पर भी तैरते हैं।
    कभी पता नहीं था की हिमाचल के बर्फीले पानी में पैर डुबोये रखने से भी
    गर्माहट महसूस हो सकती है।
    जब पहाड़ों में कार यूँ-यूँ-यूँ-यूँ कर के निकलती
    है तो तुम्हारा कन्धा मिस करता हूँ पर।
    कभी कभी ऐसे ब्रेक लगती है की जी सुन्न हो जाता है।
    काश ऐसा कोई रास्ता हो जो तुम तक लेके जाए तो मैं ब्रेक ही ना लगाऊं।

    ट्रिप अब ख़तम हो गयी है।
    घर आके देखा तो नज़र तुम्हारे साथ पिए
    आखरी सिगरेट के डिब्बे पर गयी।
    उस में एक अभी भी बची हुई है।
    सुनो!
    अब तुम जब अकेले में सिगरेट पीती हो
    तो मेरे नाम के कितने कश आते हैं?

    पर शायद अब जल्दी किसी ट्रिप की फुर्सत ना मिले।
    ना ही इश्क़ की।
    आज इतने दिन बाद घर आया हूँ फिर भी जाने क्यों
    तुम्हारे बारे में सोच रहा हूँ।
    शायद अभी भी अक्ल नहीं आयी है मुझ में।

    जानती हो
    इश्क़ में ठोकर लगने के बाद अक्ल नहीं
    मौत आती है।

    ©आदित्य

  • aaditya 4d

    i want you to notice,
    when I'm not around.

    You're welcome @writersnetwork.

    Read More

    three words or a dagger?
    or my little heart?
    kiss me and tell which leaves
    a long-lasting scar.

    but scar i leave
    will pierce more than skin,
    the bones of your rib
    and deep within.

    you’ll remember the divinity
    laid upon my lips,
    and the blur of the past
    upon fingertips.

    the melancholy in eyes
    and hues of my touch,
    the abyss of my arms
    but none too much.

    so when scar i gave
    will no longer hurt,
    you will bury my love
    like a diamond in the dirt.

    the vows you pushed
    soon very far,
    will heal with time
    but not the scar.

    and this is the tragedy
    despite us being apart,
    i flow in your veins
    you beat in my heart.

    ©aaditya

  • aaditya 19w

    Part of the journey is the end.

    Read More

    how many times have you died?
    do you remember all of them?
    i remember the day i did.
    barely. but i do.
    actually i remember all the times i died.

    the first time it happened when i was young.
    skinny kid. who used to stutter a little.
    i was raised in many cities and towns.
    with cunning but kind people.
    and parents with love to offer but
    no time to give.
    my father and i only talked if we made eye contact.
    which more than often we didn't.
    i came home after getting involved in a fight.
    i had blood on my left knee and scar over right of my forehead.
    my father didn't see all those things but
    he heard cuss words behind my screams.
    since i wasn't supposed to do these things
    he locked me in the room.
    i slept with my eyes half shut
    on a broken sofa. in the dark.
    the cracks of the windowpane allowed the wind
    to give me chills which ran down my spine.
    since then i've neither been afraid of cold.
    nor dark.

    second time i died was during early days of my school.
    it was in the north of the city. but my life there always went south.
    i was soft, skinny, innocent, gawky,
    eager to swallow my whole childhood with open mouth
    and looked younger than children of my age.
    friends fooled me from time to time.
    their definition of warmth never reached me.
    the hole in my heart grew larger and
    toxic days were habitual of my taste buds.
    bullying, betrayal, and lies.
    they choked me while i tried to spit them out
    but i realised it was too late.
    they already made a mark on me.
    since then i have never been afraid of
    earthly creatures called people.

    last time i died recently. worse kind death of all.
    but i was filled with joy while dying.
    in past i had bled often but never in love.
    i used to wait for hours just to talk for seconds.
    you never asked why i became numb in front of you
    but i guess you already knew the answer.
    you kept your hand for yourself but
    offered me your heart.
    your eyes had someone's name but it angered me
    as i was never able to decipher that secret.
    i wanted to love you. feel your olive skin
    and trace your collarbones under the pale moonlight
    just to know you were really mine.
    i wanted to keep you safe.
    dry your tears from a piece of paper,
    turn them into paper boats and
    sail them into ocean with all my love written over it.

    i don't remember how we ended up
    but i remember you were tired of my sadness.
    you appalled my constant melancholy
    which wasn't worthy of you.
    i came home that night with my heart ripped
    and blood on my hand.
    i was just a broken street light
    guiding a stranger disguised as love home.
    my love was infinite. but forgettable.
    since then i've been running from love.
    it is like an enemy i can't see but will get me
    today or tomorrow.
    but i don't like corpse of your love breathing in my poetry
    and your illusion running in my mind.
    i have died enough. number of times.
    so hopefully someday
    you stop walking barefoot upon my grave

    i don't like the sound.

    ©aaditya

  • aaditya 19w

    you kissed me with love but left with a wound,
    like a leaf kisses the air before it decays on the ground.

    ©aaditya

  • aaditya 19w

    The problem with being a poet is that by the time you get well-known you can't write anymore.
    ~Bukowski

    Read More

    these are my last words to you.
    last. after millions i said.
    this is the last winter
    that will snow on you.
    last summer
    that will keep you warm.
    last monsoon
    that will rain on you.
    this is the last sip of wine that you will taste
    from my tongue.
    you will be drunk in future too.
    but dazed. never again.

    this is the last song about you.
    last poem that i will lend your name.
    your backstory. your eye colour.
    your tears. your smile.
    after this you will never know
    the purity of words.
    these are the last lilies that you will harvest
    from a vast white field.
    trying to savour the essence of every petal
    just to crush them later.

    how painful you won't be from now
    in the blue of my bruises
    and pink of my smile.
    in the last pages of notebook
    roughly etched.
    in the crying of the cloud.
    in the bloom of spring
    to the october's fall.
    you won't be in the colour of the days
    to the darkness of night.
    you have transcended from
    a happy memory from my childhood
    to a sorrow
    that has settled into my bones.

    ©aaditya

  • aaditya 19w

    बनारस का घाट हो तुम,
    तुम्हें छूने के लिए मुझे गंगा होना होगा।

    Read More

    आज रात भर सोया नहीं।
    घडी देखा तो 5:30 हुए थे।
    सोचा सालों से उगता हुआ सूरज नहीं देखा है। आज देख लूँ।
    छत पर गया तो सूरज आधा निकला था।
    नारंगी।
    बिलकुल उसी शेप में जैसा तुम अपने सीनरी में बनाती थीं।
    पहाड़ों के बीच से उगता हुआ।
    और वी के आकार वाली चिड़िया को देखते ही
    मैं तुम्हें छेड़ने लगता था।
    और तुम्हारा मेरे छेड़ने बाद गुस्सा। ओफ्फो!
    कितने पन्ने तुमने यूँ ही डस्टबिन के हवाले कर दिए थे।

    अक्टूबर ख़तम ही है लगभग।
    अब तो तुम्हारे उधर ठण्ड भी पड़ने लगी होगी।
    रुमाल रखना स्टार्ट किया? या फिर अभी भी मेरी शर्ट ढूंढती हो?
    वो कोचिंग बाद पार्क में बैठ घंटों बातें करना इस मौसम में आज भी मिस करता हूँ।
    तुम्हारा मेरे आवाज़ से ज़्यादा सोनू निगम और शान के गानों पर मुस्काना
    बिलकुल अच्छा नहीं लगता मुझे।
    पर तुम्हारी स्माइल के लिए इतनी क़ुर्बानी दी जा सकती है।

    तुम हिंदी फिल्म की हीरोइन की तरह नहीं थी।
    बर्फ में लाल साड़ी पहन के गाना गाने का शौक मुझे तो नहीं लगता तुम्हें था कभी।
    पर हाँ, तुम्हारा मिलते ही ठंडा हाथ गालों पर मेरे लगा के परेशान करना
    किसी रोमांटिक गाने से कम नहीं था।
    ड्रेसिंग सेंस तो काफी सिंपल।
    मेकअप के नाम पर एक बिंदी। और कभी बहुत मन हुआ तो लिपस्टिक।
    पर इन सब से ज़्यादा तुम्हारा खुले बाल करके मेरे तरफ बढ़ते ही
    घंटी बजने लगती थीं।
    संगीत की समझ भले ना हो
    पर बोर होने पर जब टेबल पर तुम्हारी उँगलियाँ थिरकती थीं
    तो अपने आप कोई ना कोई धुन बन जाती थी।
    भले किसी काम में मन ना लगता हो पर
    तुम्हें चाय बनाते हुए देखने का सुकून
    अलग ही था।

    खैर! ठण्ड क़रीब आ रही है तो इस सीजन की पहले मूंगफली लायी है।
    तुम्हारी फेवरेट। हरी चटनी नहीं है। काला नमक दिया है।
    हाँ पता मुझे तुम्हें नमक से ज़्यादा नहीं पसंद।
    मौसम हर रोज़ बदल रहा है। कभी ठंडी। कभी गर्मी।
    पंखा 3 पर रहेगा या 4 पर लड़ने के लिए तुम भी नहीं हो।
    तुम्हारी आवाज़ सुने भी काफी अरसा हुआ है।
    कितनी नज़ाक़त थी। मुझे बातें सुनना नहीं पसंद।
    पर तुम बोलती तो लगता बोलते ही जाओ।
    अच्छा हुआ तुम मास्टरनी नहीं हो।
    वरना सबसे शरारती बच्चे को डांटने पर बुरा ही नहीं लगता।
    'सुनिए, आप आज फलाने सब्जेक्ट का होमवर्क करके क्यों नहीं आए'
    या फिर
    'आपने श्रीमान से लड़ाई क्यों की'
    लइके सोचते कल एक दो को और कूट देंगे।
    मैडम कम से कम डाँटेंगी तो।

    अच्छा सुनो! इस बार आते टाइम एक स्वेटर लेती आना।
    खरीद कर नहीं। वो तो अभी बिग बिलियन डे से ही ले लेते खरीदना होता तो।
    बुन कर। पुराना वाला ढीला हो गया है यू नो।
    तुम्हारे मोटापे वाले तानों बाद जिम ज्वाइन कर लिया था।

    आज रात फिर नहीं आयी नींद। लगता है फिर सीनरी वाला सूरज देखूंगा।
    लगे हाथ चाय भी बना लूंगा।
    पर तुम्हारे हाथ की बनी हुई पीने को मन होता है।

    चाय चढ़ा दी है। नाश्ता भी लगभग तैयार है।
    जल्दी आना।
    और स्वेटर भी लिए आना।
    अकेले चाय पीने से मन दुखता है।

    ©आदित्य

  • aaditya 20w

    and long after you're
    gone, gone, gone.

    Read More

    'they say they love you and to stay by your side'
    but then you see their eyes and feel like
    they are already gone.
    you were the same.
    the goodbye i never really said.

    it was hard for me to swallow your absence.
    initially you sat by my side
    by my heart. making me hollow from inside.
    i screamed 'i am full'
    but you didn't stop feeding your lies.
    after few days your love started bleeding from my mouth.
    painting the home red where you used to stay.
    burning each brick.
    while i just tried to search you in the ashes.

    have you ever loved someone so much
    that carried the aftermath as guilt?
    their promises feel like a lump in the throat
    and you swallow it with sadness like
    drinking sweetest poison ever.

    but you were different.
    always there, weren't you?
    even after those unsaid goodbye.
    you were hiding neath the dirt in my fingernails.
    draped in the sheets after i made love with strangers.
    smiling on the edge of my lips
    and exactly on the tip of my tongue when i said
    'i love you' to all the people who came after you.

    now i close my eyes and try
    to carve the path from my eyelids
    to your heart.
    rebuilding the burnt home in your iris.
    getting drunk in your every detail
    till i am dizzy.
    but all i am able to do is hide inside
    my cold heart, where the grasses are yellow
    and skin is bare. where birds are singing
    the song about sorrow.
    and finally you walk towards me. one step at a time.
    and death never looked more beautiful than
    those remorseful eyes.

    ©aaditya

  • aaditya 20w

    खालीपन बताता है, जगह कितनी दे रखी थी।

    Read More

    आज शाम सालों बाद देखा उसे।
    पहली नज़र में तो पहचान नहीं पाए। सोचे ये यहाँ कैसे।
    फिर कनॉट प्लेस के सफ़ेद पिलर के पीछे छुप के उसकी रेकी कर ही रहे थे
    की पीछे से एक जानी पहचानी हथेली पीठ पर पड़ी। धप्प!
    'हैलो, किधर हो इतने साल से?'
    और उस आवाज़ के साथ मानो टाइम मशीन से पीछे चले गए। सालों पीछे।

    हम दोनों एक ही स्कूल में पढ़ते थे। वो नया एडमिशन थी।
    साल के बीच में के.वी. और नवोदय में नया स्टूडेंट आना उतनी ही आम बात होती है
    जितना बैंगलोर में हर शाम बारिश आने की।
    क्लास के सारे लड़कों के रंग मिला लिए जाए तो भी वो सबसे 3-4 शेड गोरी थी।
    जैसे ही क्लास में आयी सारे लड़कों की गर्दन उसके साथ साथ उसके सीट तक गयी।
    हमारे बगल वाले रो में ही आके बैठी।
    बैठने के बाद अपना बैग एडजस्ट कर ही रही थी की नज़र मिली।
    शायद तभी प्यार हो गया था। या फिर नहीं।
    पर जो भी हुआ था खतरनाक था।

    क्लास के सभी पागल लड़कों तरह हम भी उससे बात करने का बहाना ढूंढने लगे।
    लंच में हम उसका लंच करना नोटिस करते थे। और वो हमारा नोटिस करना नोटिस करती थी।
    एक रोज़ क्लास के बीच में प्यास लगी और हम
    'मैम मे आई गो टू फिल माय बोतल' बोलने ही वाले थे के पीछे से वो आ गयी।
    मैडम ने कहा कोई एक ही जाएगा। तुम जाओ। और उसकी बोतल भी लिए जाओ।
    हमने उसके हाथ से बोतल ली और एक सेकंड के दसवें हिस्से जितना हमारा हाथ पहली बार उनसे छुआ।
    छूते ही हमने उनको देखा और शायद उन्होंने हमारे आँखों में बने दिल वाले इमोजी को।

    उसके बाद से मानो हम बहाने ढूंढने लगे उनके पास जाने की।
    हमारी फिजिक्स अच्छी थी। और उनके सारे सब्जेक्ट।
    और सबसे ज़्यादा तो इंग्लिश।
    ऐसे ऐसे शब्द बोलती जो सुने ना हो।
    जब हमारी मुलाक़ातें होने लगी तो बोलती
    'तुम्हारी अंग्रेजी में पास जितने नंबर भी आ जाएं तो गनीमत समझना।'
    आज जब लड़के फैन हुए जाते हैं हमारी पोएम पढ़ तो सबसे पहले उन्ही की याद आती है।
    और फुल 'ठुकरा के मेरा प्यार,मेरा इन्तेक़ाम देखेगी' बैकग्राउंड में बजता है।

    स्वाति मैम साइंस पढ़ाती थीं। हम दिखने में भोले थे तो बेटा जैसा मानती थीं।
    क्योंकि वो साल के बीच में आयी थी तो नोट्स कम्पलीट करने के लिए मेरे पास भेज दिया।
    हम छुट्टी में हुड़दंग करते घर जा ही रहे थे की सामने से आते दिखी।
    लेडी-बर्ड साइकिल से डोलची में बैग रखे।
    जोश के शाहरुख़ तरह खड़ा हुआ कॉलर हमने नीचे किया और तुरंत शरीफ बन गए।
    'स्वाति मैम बोल रहीं थी तुम्हारी साइन्स अच्छी है। नोट्स दे दोगे। हम कल लौटा देंगे।'
    ' ह....ह...हाँ। लो।'
    जाने क्यों हकलाने लगे और शर्म के मारे मन किया पूरा बैग ही छोड़ के चले जाएँ।
    मेरी कॉपी उसने रख ली।
    और उसकी स्माइल हमने।

    नोट्स जब लौटाए तो कार्टून बना के लास्ट वाले पन्ने पर
    'थ...थ...थैंक यू ' लिख के दिया। साला उस पन्ने को फाड़ के तकिये के नीचे रख के सोए।
    जब इतनी बातें बन ही रहीं थी तो उसके मन में क्या है जानने खातिर
    स्लैम बुक फिल करवाने वाली बेवकूफी भी करे।
    ज़िन्दगी में बहुत चुतियाप करे हैं पर रिग्रेट बस इसी से है।
    पर हमारी भी गलती नहीं थी।
    इंस्टाग्राम और फेसबुक पर टैग करने का ज़माना आने में अभी कुछ साल था
    और हमारी जवानी और हॉर्मोन्स दोनों आ गए थे।

    धीरे-धीरे बोर्ड्स करीब आए। और साथ में फेयरवेल भी।
    हम दोनों पार्टी में साथ एंटर हुए।
    डांस वगेरा से नाता हमारा उतना ही था जितना राहुल गाँधी का समझदारी से है।
    पर उनके डांस करते देख मन हुआ की स्टेज पर काश हम भी आग लगा पाते।
    उसके कमर में उसकी साड़ी का पल्लू फंसा था।
    और उसके पल्लू में हमारा दिल।
    हाँ फिर भैया पार्टी ख़तम हुई।
    हम दोनों निकल ही रहे थे की हमने किनारे बुलाया
    'आई लव यू।'
    'क्या?'
    ' आई लव यू। प्लीज बात करना बंद ना करना वरना स्कूल बिल्डिंग से कूद जान दे देंगे।'
    'आज हकलाए नहीं ?'
    'आज हकलाते तो फिर सारी ज़िन्दगी नहीं बोल पाते कुछ।'
    ये बोलते ही हंसने लगी।
    उस दिन उसने कुछ नहीं बोला पर अगले दिन कॉपी पर हमारे फ्रेंडशिप लिख के
    बेस्ट फ्रेंड वाला लॉलीपॉप पकड़ाया। और हमने भी दौड़ के लपक लिया।
    दोस्ती से ही तो प्यार बनता है। जो ऐसा ना कर पाए किस बात का आशिक़।
    स्कूल के आखरी दिन सबसे बड़ा फेयरवेल गिफ्ट मिला।

    फिर बोर्ड्स ख़तम हुए। और फिर प्यार के साथ दोस्ती।
    बोर्ड से रिजल्ट के बीच का जो टाइम होता है उस बीच ही उसके पापा का ट्रांसफर हो गया।
    और उसके बाद सीधा आज मिले।
    गुडबाय कभी किया नहीं था और आज 'हाय' भी नहीं किया।

    'हैलो, किधर हो इतने साल से?'
    'अरे तुम यहाँ कैसे? इतने सालों बाद'
    'मुझे लगा हकलाओगे। ठीक हो गया क्या अब'।
    'चुप करो। बीमारी नहीं मुझे । '
    'किसी सोशल मीडिया पर क्यों नहीं। मैं सबसे कनेक्टेड हूँ बस तुमसे नहीं।'
    ' यूँ ही। मन नहीं लगता उधर। नॉट माई टाइप ऑफ़ प्लेस यू नो।'
    'मारेंगे मुंह टूट जाएगा। बड़े आए नॉट माई टाइप ऑफ़ प्लेस। '
    'वो छोडो तुम यहाँ कैसे?'
    'अरे कबसे यहीं हूँ। मेरे पति यहीं काम करते। और तुम?'
    पति सुनते ही मानो हकलाने ही वाले थे की खुद को रोका
    'मैं भी बस यहीं काम से आया था।'
    'पागल अच्छा ये बताओ कल का क्या प्लान?'
    'कल....कल तो फ्लाइट मेरी। वापस घर'।
    'धत ये भी कोई मिलना हुआ। फ्लाइट व्लाइट बेकार सब। कल का डिनर मेरे साथ प्लीज '
    'सॉरी। मेरा यहाँ आना जाना लगा रहता है। फिर कभी प्लीज। बॉस नहीं मानेंगे '
    'ओफ्फो ! अच्छा नंबर तो लाओ। या वो भी नॉट माई टाइप'
    'पागल। लिखो। 94545***** '
    'घर पहुंच के मैसेज करते '
    उसके बाद एक फ्रेंडली हग।
    जिसके साथ शादी करने का सोचो उसके साथ फ्रेंडली हग सबसे अजीब होता है।
    'अच्छा सुनो '
    'हाँ '
    'कुछ नहीं। छोडो '
    ' भक्क पागल। सुधर जाओ '
    और फिर पहले वो गयी। फिर उसके पीछे पीछे उसकी खुशबू।

    हम आज तक इंफैचुवेशन को प्यार समझ सिंगल थे।
    और ये बियाह रचा के बैठी हैं।
    खैर! हमारे लिए आज भी सबसे खूबसूरत कोई है तो वही।
    और उसकी अंग्रेजी तो शशि थरूर की भी बोलती बंद कर दे।
    जब हंसती थी तो खिलखिलाहट नहीं वायलिन की आवाज़ आती थी।
    स्कूल के प्रेयर में हम उन्हें देखा करते थे।
    और प्लेज में 'ऑल इंडियन आर माय ब्रदर्स एंड सिस्टर्स ' के आते ही
    मन में उनका नाम लेके 'एक्सेप्ट' लगा दिया करते थे।

    कभी कभी प्रेम का धोखा प्रेम से लम्बा चलता है।
    शायद वही हुआ।
    कुछ रिश्तों का साथ रहना नहीं बस होना भर ज़रूरी होता है।
    पर शायद उनका रहना ज़रूरी था। शायद नहीं।
    जिन लोगों का नसीब से जाना लिखा होता है
    वो अगर रुक भी जाएँ तो लगता है दिल में फ़ालतू की जगह घेर रखी है।
    खैर अगले महीने मैंने शहर बदल दिया। जॉब तो हमारी भी वहीँ ही थी।
    शहर छोड़ने से पहले आखरी बार कनॉट प्लेस पर ठीक उसी जगह गए
    जहाँ आखरी बार मिले थे और ये लाइन याद आयी-
    'बैठे हैं रहगुज़र पर दिल का दिया जलाये,
    शायद ये रात बीते, शायद तू लौट आए '

    हालांकि ये रात ख़तम होने वाली नहीं थी इस ज़िन्दगी में।
    और फ़ोन पर मैसेज आना भी नामुमकिन ही था।
    गलत नंबर दे कर मैसेज आने की उम्मीद लगाना बेवकूफी होती है।

    'वो अफ़साना जिसे अंजाम तक लाना ना हो मुमकिन
    उसे इक खूबसूरत मोड़ देकर छोड़ना अच्छा'

    और तुम
    तुम मेरी ज़िन्दगी के सफर का सबसे खूबसूरत मोड़।

    ©आदित्य

  • aaditya 20w

    Mere marne par lakh royengye,
    Mere rone par kon marta hai?
    ~Jaun Elia