aashitkumarsinha

Sinha Ji अ shy boy. crazy fan of comedian Zakir Khan.

Grid View
List View
Reposts
  • aashitkumarsinha 1w

    कोशिश कीजिए अपनी बात मनवाने को वर्ना
    Blackmail करने को पूरी दुनियां बैठी है !
    ©अshyboy

  • aashitkumarsinha 3w

    मुझे mother's day पे कोई आपत्ती नहीं है,
    भला ये क्या हुआ हुआ आज के नए नवयुवकों को जो सिर्फ़ एक ही दिन मनाते है। जरा ये सोचों उन्होंने आपको प्यार करने के लिए ना रविवार मनाया ना दीवाली, ना होली, ना दशहरा फ़िर उनके लिए सिर्फ़ एक ही दिन। मुझे तो समझ नहीं आ रहा कि क्या बोलूं बाकी आप तो समझदार तो है।
    ©अshyboy

  • aashitkumarsinha 3w

    बड़े चलाक निकले वे,
    ख़ुद अपने यादों में उलझाकर चल दिए !
    ©अshyboy

  • aashitkumarsinha 4w

    आज कल के इश्क़ में
    अल्फ़ाज़ की जगह
    कलम की स्याही ख़त्म होने लगे है !
    ©अshyboy

  • aashitkumarsinha 4w

    छोटे लोग से ज्यादा तकलीफ़ तो बड़े देते है!
    © अshyboy

  • aashitkumarsinha 4w

    हर गहरी चीज शांत लगती है
    चाहें वो इश्क़ हो या समुंद्र !
    ©अshyboy

  • aashitkumarsinha 5w

    कर्म

    मेरे विचार से ये बेकार शब्द है जो की हम जैसे लोगों को ग़लत करने से रोकता है।
    जिसे जो करना है वो करते है चाहे वो ग़लत हो या ना ।
    जैसे कि आप अपने को ही ले लो आपने ऐसा क्या किया था जों आप अपने ही घरों में कैदी की तरह रहा रहे हो, फिर बताओ इसमें कर्मा कहा है।
    ©अshyboy

  • aashitkumarsinha 5w

    नशा जाम में हैं और तेरी आंखों में भी,
    बस समझ नहीं आ रहा डूबना कहां है !
    ©अshyboy

  • aashitkumarsinha 5w

    ये ज़माना ही जालिम है गालिब,
    लैला को मजनू से मिलने को रोकती है !
    ©अshyboy

  • aashitkumarsinha 5w

    सच्ची मोहब्बत देखनी हो तो इतिहास के पन्नों में मिलेंगे,
    और जो हक़ीक़त में लगे वो फरेबी है !
    ©अshyboy