Grid View
List View
  • abdulramiz 11w

    सख्तियों के झेलने को चाहिए पत्थर का दिल



    हाथ भर का कलेजा हो दिल लगाने के लिए
    ©abdulramiz

  • abdulramiz 11w

    तबाही भी है एक निशान-ए-हिदायत



    लुठे इस क़दर रहनुमा हो गए हम

  • abdulramiz 11w

    दर्द को मौज पे आने दीजिए


    जान जाती है तो जाने दीजिए
    ©abdulramiz

  • abdulramiz 11w

    हमारी हाल को बड़ी नाराजगी है हमसे


    हमारी माज़ी से बड़ी गुफ्तुगु रहती है
    ©abdulramiz

  • abdulramiz 11w

    जब घाव सभी दस्त-ए-मसीहा से मिले हों



    तो फिर किससे गले लगें, किसे रो के दिखाएं
    ©abdulramiz

  • abdulramiz 11w

    आप करेंगे मेरी ज़ात पे तब्सिरे??



    आप कबसे इस क़ाबिल हुए??
    ©abdulramiz

  • abdulramiz 11w

    लफ्जों ने जरूर कहा था अलविदा



    मगर मेरे लहजे ने हाथ जोड़े थे

  • abdulramiz 11w

    जुस्तुजू लेके तेरी शहर की सड़के नापूँ



    और ये ङर भी रहे तू न दिखाई दे दे

  • abdulramiz 11w

    कहाँ किसी से मोहब्बत निभाने वाला हूँ


    मैं बद लिहाज बिल्कुल जमाने वाला हूँ
    ©abdulramiz

  • abdulramiz 11w

    बड़े शौक से तर्क-ए-तअल्लुक करो लेकिन



    शर्त है तुम भी मुझे याद न करना
    ©abdulramiz