Grid View
List View
Reposts
  • abhi0021 8w



    कमज़ोरियों के साथ इंसान को क़बूल करो
    पर्फ़ेक्ट मानकर निकलोगे तो
    दुनिया में कोई नहीं

  • abhi0021 8w



    रख सको तो एक निशानी हूँ मैं
    खो दो तो सिर्फ़ एक कहानी हूँ मैं
    रोक ना पाए जिसको ये सारी दुनिया
    वो एक बूँद आँख का पानी हूँ मैं

    सबको प्यार देने की आदत हैं हमें
    अपनी अलग पहचान बनाने की आदत हैं हमें
    कितना भी गहरा ज़ख़्म दे कोई
    उतना ही ज़्यादा मुस्कुराने की आदत हैं हमें
    इस अजनबी दुनिया में अकेला ख़्वाब हु मैं
    सवालों से ख़फ़ा छोटा सा जवाब हूँ मैं
    जो समझ ना सके मुझे उसके कौन
    जो समझ गए उनके लिए खुली किताब हूँ मैं

    आँख में देखोगे तो ख़ुश पाओगे
    दिल से पूछोगे तो दर्द का सैलाब हूँ मैं
    रख सको तो एक निशानी हूँ मैं
    खो दो तो सिर्फ़ एक कहानी हूँ मैं

  • abhi0021 8w

    Missing u

    I won't call but i care
    I won't text but i think
    Of you everytime
    I won't meet but i always
    Miss u.
    I won't say
    But i love you always.

  • abhi0021 8w



    पास आपके दुनियाँ का हर सितारा हो, दूर आपसे ग़म का हर किनारा हो,
    जब भी आपकी पलकें झपकें,
    सामने वही हो जो ..
    आपको दुनियाँ में सबसे प्यारा हो ।

  • abhi0021 8w

    Bus u hi

    ग़म चाहे जितना भारी हो।
    एक हल्की सी ख़ुशी की,
    गुंजाइश तो रहती है।

    रात चाहे जितनी सियाह हो।
    एक चमकती चांदनी की,
    गुंजाइश तो रहती है।

    हालात चाहे जितने नासाज़ हों,
    एक दिन सुधर जाने की,
    गुंजाइश तो रहती है।

  • abhi0021 8w

    सबसे अधिक वो प्रेम असफ़ल हुआ
    जो एकनिष्ठ रहा...

    सबसे अधिक वो भावनाएँ छली गईं
    जो निष्ठापूर्ण रहीं...

    सबसे अधिक वो आँखें रोयीं
    जो आस में रहीं...

    सबसे अधिक वो उम्मीदें ढहीं
    जो निश्छल रहीं...

    निष्कर्षतः
    छलयुक्त प्रेम से बेहतर त्याज्य होना है!

  • abhi0021 12w

    Naseeli ankhein

    कुछ तुम भूलीं कुछ मै भूला मंज़िल फिर से आसान हुई
    हम मिले अचानक जैसे फिर पहली-पहली पहचान हुई
    आँखों ने पुनः पढी आँखें, न शिकवे हैं न ताने हैं
    चेहरे पर चँचल लट उलझी, आँखों मे सपन सुहाने हैं.
    Abhi

  • abhi0021 12w

    Zindagi

    ज़िंदगी मे अभी तो बहुत चलना बाकी हैं
    अभी तो कई इंतेहनो से गुज़रना बाकी हैं
    हमे लड़ना हे ज़िंदगी की सभी मुश्किलो से
    हमने तो मुठि भर ज़मीन नापी हैं
    अभी तो हमे सारा जहाँ नापना बाकी हैं …

  • abhi0021 12w

    और मैं देखने में भी शर्माता हूँ

    Read More

    तू बडी मासूम है

    क्या लिखूं तेरी तारीफ-ए-सूरत में यार,
    अलफ़ाज़ कम पड़ रहे हैं तेरी मासूमियत देखकर।

  • abhi0021 12w

    अजी सुनती हो

    झुकी हुई पलकों से उनका दीदार किया,
    सब कुछ भुला के उनका इंतजार किया
    वो जान ही न पाए जज्बात मेरे,
    मैंने सबसे ज्यादा जिन्हें प्यार किया।