Grid View
List View
  • akshraa 11w

    AND HE FINALLY KILLED HER ..
    THAT GIRL WHO WAS STRUGGLING HARD BECAUSE SHE WANTED TO SEE LIGHT
    NEVER IN HER LIFE SHE WAS ACCEPTED ..AND
    SHE FINALLY ACCEPTED IT ..
    SHE WAS FINDING NEW WAYS TO LEAD HER HOME..SHE WAS TRYING TO FIND AND PUT ALL BROKEN AND LOST PIECES ..
    SHE WAS TRYING TO BREATHE ON SURFACE OF WATER ..SHE WAS PUTTING WET STRIPES ON HER WOUNDED WINGS ..
    CONGRATULATIONS!!
    YOU KILLED THAT GIRL..
    CONGRATULATIONS ..YOU GRABBED HER ..CUT HER WINGS MERCILESSLY .. TWISTED HER NECK ..AND PUT A SHARP KNIFE THROUGH HER HEART ..
    NOW SHE LAYS ON GROUND ..NOW SHE CRIPPLES ..NOW SHE HAS BECOME TRASH ..

    MANY MANY
    CONGRATULATIONS ..!!

  • akshraa 12w

    उसकी हैं ज़मीं आसमां भी उसका
    ये गली भी उसकी वो शहर भी उसका
    किसी सफ़र की शाम भी उसकी
    मंजिले भी उसकी कारवां भी उसका
    कहीं भी जाऊ उससे टकरा जाऊ में
    देश नए चेहरे नए ख्वाब नए पर वहीं ek' चांद पुराना

  • akshraa 12w

    Maa baap ka chehra
    Khuda se kuchh to milta hoga
    Ya
    khuda hi hain vo
    Jo in chehro ke pichhe basta hoga ..

  • akshraa 12w

    Truth

  • akshraa 12w

    होशियारो की दुनियां में ये बेवकूफ क्यों पैदा होते हैं
    विज्ञान की दुनियां में ये शायर क्यों पैदा होते हैं
    पेसो की दुनिया में प्यार वाले क्यों हुआ करते हैं
    यूं ठुकराए जाना दिल तोड़ता हैं साहब ..
    ये दिमाग वालो की दुनिया में दिल वाले क्यों पैदा होते हैं

  • akshraa 12w

    वो चांद हैं ना बादलों के पीछे
    वो तड़पाता बोहोत हैं
    देखना मुस्कुराना फिर छुप जाना
    सताता बहोत हैं
    किसी तरह उसके साथ होले
    मन घबराता बोहोत हैं
    धोखा हैं सच है फसाने बोहोत हैं
    मन को भिगाया हैं उसने जबसे और कहीं चैन मिलता नहीं
    दर दर फिरू उसे पाने के लिए उसका साथ भाया बोहोत हैं
    वो लोग भी केसे लोग थे जो दर से बेदर हो गए
    अब उन्हीं में अपना नाम भी आता बोहोत हैं

  • akshraa 12w

    होली खेलने का शौक है तुम्हे जाना
    तो खेलने से परहेज़ तो हमे भी नहीं
    रंग लगाने का शौक है तुम्हे जाना
    तो रंगो से गुरेज़ तो हमे भी नहीं

    पर कुछ शर्ते हैं हमारी
    तबियत से कुछ अलग जो हैं
    हम वो नहीं जो रंगो को धो देना चाहते हैं ..एक खेल की तरह..
    'जाना 'तुम रंग लाना तो ऐसा लाना की वो कभी उतरे ही नहीं
    चमड़ी जल जाए पर लाल रंग मिटे नहीं ..
    कच्चे रंगो की होली हम पसंद नहीं जाना
    तो मेरी बात सुनो तुम रंग ऐसा लाना
    वो नसो में उतर जाए वो खून में मिल जाए
    वो सांसों को और आंखो को लाल कर जाए ..
    सुनो 'जाना' रंग ऐसा लाना
    लोग रोक कर पूछे हमे ये क्या खेल खेल कर आयी हो
    देखकर पहचानी नहीं जाती हो
    ये किसने तुम्हें रंगा हैं कुछ इस तरह
    नख से शिख तक उसी में घुल आयि हो
    कुछ होश नहीं तुम्हे ये किसने तुम्हे पिलाई है
    हमारा मान नहीं रखती किसकी इज्ज़त बन आयी हो ..
    तो जाना तुम रंग ऐसा लाना ।दुनिया देखे और कहे हमे भी ले चलो रंग लगवाना ...!!

  • akshraa 12w

    उससे देख कर तो लगता नहीं वो बेतकल्लुफ़ हैं पूरी तरह
    हमे और हमारी बेचैनी का उसे कुछ पता नहीं..
    लोग कहते हैं संभल के चलना इन राहों पर
    जो भी यहां से गिरा उसका कुछ पता नहीं..
    गिर जाएंगे मर जाएंगे तो शायद नजर भर देख ही ले हमे
    ये सोच कर तो हमने.. ख़ुद का सोचा नहीं ..

  • akshraa 12w

    ख़ूबसूरती में उसका मुकाबला हम क्या करेंगे
    वो तो चांद को पैरो तले रखता है
    बातो में उसका मुकाबला हम क्या करेंगे
    वो तो आंखो से सब कुछ कहता है
    वो बाग हैं गुलाबो से भरा की एक पत्ती का उसे क्या वास्ता
    वो सागर हैं मोती भरा की एक बूंद का उसे क्या वास्ता ..
    डूब के उस में पा लेते उसको.. एक बार तो देख लेता हमे
    पर वो तो शम्मा हैं की उसको अंधेरों से क्या वास्ता ..

  • akshraa 12w

    रोशनी ऐसी की चांदनी जैसी
    जलाती नहीं भिगाती है
    यारी भी ऐसी निभाने वाली
    हम भूल जाए पर वो भुलाते नहीं
    सोचा था दूर निकल आएंगे उससे
    नज़रे छुपाते बचाते किसी तरह
    वो साए की तरह साथ रहा मेरे अंधेरे में भी मंज़िलो में भी
    वो किसी तरह मिल जाए तो हमे सब्र का सिला मिले
    वो खो जाए तो ..ये दुनिया.. लगती हमे किसी काम की नहीं