alonia

A chaos within calmness. A secret hideout of emotions and reality for life.

Grid View
List View
Reposts
  • alonia 4w

    कुछ बातें अधूरे हैं।
    कई सफर साथ पूरे होने हैं।
    कुछ मुलाकातें और ढेर सारी यादें।
    कुछ लम्हों में जीने की आस बाकी है।
    यह आज का वक्त है, गुज़र जाएगा।
    आने वाला वक्त, उम्मीदों की नई शुरुआत लाएगा।

    ©alonia

  • alonia 7w

    Chords have started to hit me differently,
    I have changed so much yet everything around still the same,
    Every new day feels like a fresh start and the night sings for all the yearning.
    There are few dreams to conquer, few experiences to claim, few choices to live for, few memories captured for lifetime and leaving few marks to rewind these all at the end.
    I feel so much yet have too little to display.
    Holding on to everything that could make me feel alive.
    For all the years to come by.



    ©alonia

  • alonia 8w

    Dear You,

    You lead me to discover the other side of mine, which I never would have ever known even existed.

    ©alonia

  • alonia 10w

    क्या लिखें या न लिखें,
    ये कैसी मुसीबत हाय!
    शब्द तो कई, बस उन्हें पिरोने का मन नहीं भाए।
    धड़कने चल तो रही हैं तेज़, जैसे किसी रेस का हिस्सा हो।
    बस जान थक सी गई है, जैसे थोड़ी सी सुकून की इच्छा हो।

    ©alonia

  • alonia 13w

    एक बेचैनी सी, वो बेख़ौफ सा।
    यह खामोशी, वो आवाज़ सा।
    बंजारन सी यह, अपनी ही धुन में।
    उसके दस्तक ने घर बना दिया।

    ©alonia

  • alonia 14w

    हाल कुछ यूँ है आज का कि अब खुश होने से डर लगता है।
    मानो खुद के लिए खुशी भी पिंजरे में बंद,
    घुटन से तड़प रही हो।

    ©alonia

  • alonia 15w

    Selenophile

    ©alonia

  • alonia 18w

    एक ख्वाब सा हो तुम।
    चलता, फिरता, सबके लिए हंसता-मुस्कुराता, सबको हँसाता।
    एक ऐसा ख्वाब जिसके टूटने से कई ज़्यादा मुझे उसके खोने का डर है।
    ©alonia

  • alonia 21w

    कुछ तो है तेरे और मेरे दरम्यान महफूज़ सा, जो छूट के भी न छूटे।
    कभी मुस्कुराहटों तो कभी बेपरवाह अश्कों में बहता हुआ।
    कभी कड़ी धूप की रौशनी में झुलसता हुआ। तो कभी बिन मौसम बरसात की बूँदों में भीगता हुआ।
    कभी खुद को खुद ही से दूर करता हुआ। तो कभी खुद को एक नए खुद में जीता हुआ।
    कुछ तो है महफूज़ सा, इन लम्हों में जीता हुआ।
    ©alonia

  • alonia 24w

    It takes a moment and a perspective of an individual to misunderstand a whole scenario without even considering the insights of one's self conscious mind. Don't jump into conclusions before knowing the depth of one's intuitions.

    ©alonia