ankushdubey

it is what it is.!!

Grid View
List View
  • ankushdubey 3d

    ऊम्मीद छौढ़ी है तुमसे.
    मगर मोहब्बत नहीं.!!

  • ankushdubey 1w

    प्यार कितना भी सच्चा क्यो ना हो.
    बात जिस्म तक आही जाती है.!!

  • ankushdubey 1w

    हमेशा के लिए बिछड़ा है कोई.

    जुदाई गूंजती है जिस्मों-जाँ में.!!

  • ankushdubey 1w

    जिन्हें नीद नहीं आती.
    उन्हें ही पता है.
    सुबह होने में कितने जमाने लगते है.!!

  • ankushdubey 2w

    तुमने उस शख्स को खो दिया मोहतरमा
    जो खुदा से तुम्हारी बातें किया करता था.

  • ankushdubey 2w

    वो साथ मेरे बैठी थी.
    पर किसी और के करीब थी

  • ankushdubey 2w

    तुम्हें रात भर ऐसे याद करता हूँ.
    जैसे कल इग्ज़ाम हो मेरा.!!

  • ankushdubey 2w

    मुझे छौढ़ने की वजह तो बता देते.
    मुझसे नाराज़ थे,या मेरे जैसे हज़ार थे.!!

  • ankushdubey 2w

    ये मोहब्बत का हफ़्ता है.
    या
    हफ़्ते भर की मोहब्बत है ??

  • ankushdubey 2w

    कितनी आसानी से छौढ दिया उसने.
    जैसे बरसो से बौछ थे, उसपे.!!