anushka_singh_panchhi

www.instagram.com/22panchhi22/

7teen�� free to fly in my own world of thoughts #introvert

Grid View
List View
Reposts
  • anushka_singh_panchhi 1d

    बात इतनी सी है कि बस
    विचारों का मतभेद है
    जहाँ मेरे लिए मेरी पूरी कहानी लिखी है
    बस वही पन्ना उसके लिए सफेद है....

    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 2d

    Lockdown day 8
    Ab bhi nahi sune to jindagi kho baithenge support modiji please����
    @dr_seema @malay_28 @sanawrites_ @saifwrites @suryarock @shrutiiyadav

    Read More

    अगर परिवार से प्यार है जनाब तो
    घर पर ही रहे
    क्योंकि मैंने सुना है दुनिया की खबर रखने वाले अब
    दुनिया में नही रहे

    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 3d

    की अब भी नही सुन रहे है ,मेरे मोहल्ले के कुछ नौजवान
    यही प्रार्थना है कि घर में रहिए
    यहाँ किसी के पास नही है जिंदगी का जाकी मकान

    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 3d

    मैं इश्क़ करने का अंजाम खुले आम लिखती हूँ
    जब टूटता है दिल तो ......
    वो बरसात भरी शाम भी लिखती हूँ
    उस दर्द को भुलाने के लिए ....
    पिये गए अनगिनत जाम लिखती हूँ
    तुझे याद न करूँ ,कही व्यस्त रहूँ .......
    उसके लिए किए गए बेतुके काम भी लिखती हूँ
    कभी अगर मन करे तो मेरी डायरी के पन्ने पलट कर देखना
    मैं आज भी हर पन्ने पर सिर्फ तुम्हारा ही नाम लिखती हूँ


    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 4d

    मैं अपने गम कुछ इस तरह भूला देती हूँ
    की आँखो में समुंदर भर कर ......
    अपनी माँ के आगे खिलखिला देती हूँ
    वो सब जानती है,मैं कमज़ोर न पड़ जाऊँ इसलिए ......
    मुझे देखकर वो भी मुस्कुरा देती है
    बस उसकी वो मुस्कुराहट मेरी हर उलझन मिटा देती है

    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 1w

    शांत हूँ अभी मुझे शांत ही रहने दो
    कुछ नही बोल रही , चुप हूँ
    तो मुझे चुप ही रहने दो
    इतनी उंगली मत करो मुझे की जब मेरा मुँह खुले तो तो तुम कहो
    "बस करो अब रहने दो"

    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 1w

    Aap sabhi ko shahadat diwas ki hardik shubkamnaye
    @dr_seema @malay_28 @sanawrites_ @praphullkharwalwrites

    Read More

    शहादत दिवस

    जब चढ़ रहे थे फाँसी वो नौजवान , रो रही थी धरती माँ भी
    सब उनके जख्म देख कर हैरान थे, उनके मुँह से निकली न 'आह' भी

    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 1w



    The beautiful the SMILE is
    The deepest the PAIN is.......

    The mesmerizing the EYES are
    The painful the WOUNDS are.....

    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 1w

    मेरे रूप से उसे कोई फर्क नही पड़ता
    इस तरह रूहानी मोह्हबत है उसकी

    उसका याद करना तुरंत पता चलता है मुझे
    ऐसी शिद्दत भरी चाहत है उसकी

    ©anushka_singh_panchhi

  • anushka_singh_panchhi 1w

    सब कुछ तो मिल गया तुमको
    अब ये मलाल कैसा है?
    हमे बर्बाद कर के पूछ रहे हो कि
    मेरा हाल कैसा है?

    मेरी आँखो में ये रंग लाल कैसा है?
    सारे दुख तो तुम्ही ने दिए है
    तो ये सवाल कैसा है?

    ©anushka_singh_panchhi