bannasahab

♥~ऊँBam bhole�� ��महाDeV का उपासक

Grid View
List View
  • bannasahab 6w

    शर्द हवाओ का दौर है तो मैने दिल से कहा अपनी तन्हाईयो को आग लगा कर जिस्म को सुकून दे दु।
    ©bannasahab

  • bannasahab 10w

    हम वो मुसाफिर नही जो मंजिलो को देख कर ख्वाबों को अपने दायरे में सिमेट ले,
    हम वो मुसाफिर है जो मंजिल के सिर पर चढ़ कर अपने ख्वाबों की ख्वाहिशो को चूमा करते है।
    ©bannasahab

  • bannasahab 10w

    वो सँवरगये हम बिखर गये,
    उनसे मोहब्बत कर के हम दुनिया की नजरों में निखर गये
    ©bannasahab

  • bannasahab 10w

    न शब्द हैं न प्रमाण है बस तू इस दिल का भगवान हैं।
    ©bannasahab

  • bannasahab 11w

    कितने आसानी से तूने मुझे बेवफा कह दिया,
    माना मेने मोहब्बत कर तुमसे शादी न कि लेकिन तुम्हे रोज अपने माता पिता की दुवाओ में ताने कैसे सुनने दे सकता हु
    आखिर मोहब्बत जो करता हु तुमसे।
    ©bannasahab

  • bannasahab 11w

    यू तो हजारों चलते है हर किसी को साथ लिये,
    पर वो बहुत खास होते है जो चलते है तम्हारे साथ अपने हाथों में तुम्हारा हाथ लिये।
    ©bannasahab

  • bannasahab 11w

    मोहब्बत में जिस्म किसी को मिले न मिले लेकिन रूह पर बस सिर्फ चाहने वाले का ही होता है।
    ©bannasahab

  • bannasahab 11w

    हम तो मोहताज ही नही रहे है मोहब्बत तेरे हाथों के जाम के
    तो कैसे आपकी महफ़िल में हम बेठ जाए
    मंजिल कर ली अलग आपने ये कैसे दिल को समझाये।
    ©bannasahab

  • bannasahab 12w

    बीते लम्हे...

    अदाएं आपकी यू दिल पर दस्तक दे गई,
    न जाने क्यो आपकी यादो में जीने की आदत हम में अब तक रह गई।
    ©bannasahab

  • bannasahab 12w

    अकेले तन्हा इन काली रातो में हम जिया करते है
    तेरे लॉट आने की चाहत में हम रोज पिया करते है।
    ©bannasahab