Grid View
List View
Reposts
  • chaandan 1d

    Ek pal bahot kareeb se gujra wo pal
    Jis pal wo khoob kamaal tha.

    18:56 03:03:20

    ��

    Read More

    #115

    एक पल बहोत करीब से गुजरा वो पल
    जिस पल वो खूब कमाल था
    ©chaandan

  • chaandan 2d

    Udaas shaamo ka safar sath guzare koi
    Tanhaiyo chikh ke kahti hai ke pukare koi

    Tujh bin ye jindagi kis kadar srd hai..jaana
    Chahta hu Mujh bin bhi zindagi guzare koi

    Kyu nhi ye dil-dil sa dhadakta hai ab
    Thahrti dhadkno ka mukaam saware koi

    gumaan hai ke jee rhay hai tujhko tujh bin
    Aye khuda ab is taraah dil na hare koi

    14:55 03:02:20

    Read More

    #114

    उदास शामो का सफर साथ गुजारे कोई
    तन्हाईयां चीख कर कहती है कि पुकारे कोई

    तुझ बिन ये जिंदगी किस कदर सर्द है "जाना"
    चाहता हूं मुझ बिन भी जिंदगी गुजरे कोई

    क्यों नहीं ये दिल-दिल से धड़कता है
    ठहरती धड़कनों का मुकाम सवारे कोई

    गुमान है के जी रहे हैं तुझको तुझ बिन
    ए खुदा अब इस तरह दिल ना हारे कोई
    ©chaandan

  • chaandan 5w

    Mayne usey mere bina jeena nhi sikhaya
    Sayad mayne mohabbat ka aham farj nhi nibhaya..

    23:26 02:29:20

    Read More

    #113

    मैंने उसको मेरे बिना जीना नहीं सिखाया
    शायद मैंने मोहब्बत का अहम फर्ज नहीं निभाया
    ©chaandan

  • chaandan 6w

    Chaharo bhari duniya me
    Mujhe aine ki talaash hai..

    11:18 02:23:20

    Read More

    #112

  • chaandan 6w

    कैसे कहें?

    Samandar ek katre se kaise kahe
    Ke wo tanha bahot hai..

    00:38 02:22:20

    #hindiwriters #soulwriters #chaandan

    Read More

    #111

    समंदर एक कतरे से कैसे कहे
    कि वह तन्हा बहुत है
    ©chaandan

  • chaandan 6w

    इस बात का मतलब समझने में यकीनन उम्र गुजर जाएगी

    Usne Mere wajood ko charaag karke..
    Mere haq me sirf hawaaye mangi..

    00:20 02:22:20

    #Jaana��

    #hindiwriters #soulwriters #chaandan

    Read More

    #110

    उसने मेरे वजूद को "चराग" करके,
    खुदा से मेरे हक में सिर्फ "हवाएं" मांगी..
    ©chaandan

  • chaandan 6w

    Ek pal jo mud ke yaar dekha tha usne
    May barso se thahra hu usi jamane me..

    Ye gali husn-e-yaar ki gali hai doato
    Bahot waqt lunga gujar ke ghar jane me..

    Uske gesuo ki mahak faili hai fiza me is kadar
    Diwane hue ja rhay hai gulistaa us fasaane me..

    Kisi ke shurkh hotho ki nami ghuli hai isme
    Wrna wo baat kaha hoti hai paimane me..

    Wo kahtay hai mujhse kitna be-dil hu may
    Goya darta rahta hu khud ko aajmane me..

    Jo pee kar baitha hai dariya khud me bolta hai
    Yaha koi masla nhi hota doob jane me..

    Rkhta nhi koi malaal ab khud se "chandan"
    Sukoon milta hai har roj dil jalane me..

    9:29 02:19:20

    #hindiwriters #soulwriters #chaandan

    Read More

    #109

    एक पल जो मुड़ के यार देखा था उसने
    मैं बरसों से ठहरा हूं उसी जमाने में...

    ये गली हुस्न-ए-यार की गली है... दोस्तों
    बहुत वक्त लूंगा गुजर के घर जाने में...

    उसके गेसुओ की महक फैली है फिजा में इस कदर
    दीवाने हुए जा रहे हैं गुलिस्ता उस फसाने में...

    किसी के सुर्ख होठों की नमी घुली है इसमें
    वरना वो बात कहां होती है पैमाने में...

    वो कहते हैं मुझसे कितना बेदिल हूं मैं
    गोया डरता रहता हूं खुद को आजमाने में...

    जो पीकर बैठा है दरिया खुद में, बोलता है
    यहां कोई मसला नहीं होता डूब जाने में...

    रखता नहीं कोई मलाल अब खुद से "चंदन"
    सुकून मिलता है हर रोज दिल जलाने में।
    ©chaandan

  • chaandan 6w

    Kya kru..is dil ki zubaan ko iske siwa or kuch bhata hi nhi


    Ab to misri bhi neem ki dali lgti hai sahib
    Ye jo Ishq ka zayka hai..ye hai hi kuch ajeeb..

    01:26 02:19:20

    ��

    Read More

    #108

    अब तो मिश्री भी नीम की डली लगती है साहिब
    यह जो इश्क का जायका है, यह है ही कुछ अजीब।
    ©chaandan

  • chaandan 8w

    मैं आइना था वो मेरा ख्याल रखती थी,
    मैं टूटता था तो चुन कर संभाल रखती थी,

    हर एक मसले का हल वो निकल रखती थी,
    ज़हीन थी, मुझे हैरत में डाल रखती थी,

    मैं जब भी तर्क-ए-ताल्लुक की बात करता था,
    वो मुझे रोकती थी कल पे टाल रखती थी,

    बस एक वो थी जिसे गांव में देखा करता था,
    बस एक वो थी कह जो अंदमॉल रखती थी,

    वो मेरे दर्द को चुनती थी अपने पोरों से,
    वो मेरे वास्ते खुद को निढाल रखती थी,

    वो डूबने नहीं देती थी दुःख के दरिया में,
    मेरे वजूद की नाव उछाल रखती थी,

    दुआएं उसकी बलाओं को रोक लेती थी,
    वो चार सौ हाथों का ढाल रखती थी,

    एक ऐसी धुन कही नहीं फिर मैंने सुनी,
    वो मूनफरेद सी हँसी में कमाल रखती थी,

    उसे नदामतें मेरी कहाँ गवारा थी,
    वो मेरे वास्ते आसान सवाल रखती थी,

    बिछड़ के उससे मैं दुनिया की ठोकर में हूँ,
    वो पास थी तो मुझे लाजवाल रखती थी,

    सहर था नाम, उजाले गुलाम थे उसके,
    वो जिंदगी के अँधेरे उजाल रखती थी,

    वो मुन्तजिर मेरी रहती थी धुप में शायद,
    मैं लौटता था छांव निकल रखती थी...!!!

    Read More

    .

  • chaandan 10w

    Itni gaflat kyu mere bare me?
    Baat to bas itni si hai
    Kisi ne badi siddat se mera dil toda tha
    Badle me mujhd kisi ka dil to todna hi tha..

    7:33 01:23:20

    ��

    Read More

    #107

    इतनी गफलत क्यों मेरे बारे में?
    बात तो बस इतनी सी है
    किसी ने बड़ी शिद्दत से मेरा दिल तोड़ा था
    बदले में मुझे किसी का दिल तो तोड़ना ही था
    ©chaandan