Grid View
List View
Reposts
  • deewani 3w

    Kbhi kbhi hmara mind itna block ho jata h ki__

    Hme idea v nhi hota h ab aage kya kre...

    Us waqt kuch v krne se phle apni seene pr hath rakho or ...

    Socho ki Mai ab jo v aage krne wala hu .. Kya usme mere maa-papa , or jitne v log mujhse jude huye h ...vo sb sath denge...

    Agar aapka dil ek baar hichkichaya h to... Us kaam ko mat krna ee dost... Bhut logo ka visvaas tut jayega tum pr se

    ©deewani

  • deewani 14w

    Pyar se doshti kro..

    Lekin dosti se pyar kbhi na krna

    Qki jab dil tut jata h to pyar to chla jata h ..

    Lekin dost hmesha sath m stand krta h...

    (This is real fact)


    ©deewani

  • deewani 14w

    जब से आँखे खुली है, होश सम्भाला है..

    हर स्थिती में मां-पापा ने हमें सहारा दिया है..

    सिखाया है कि कब, क्या और कैसे करना है..

    परिस्थिती का सामना कैसे किया जाये..

    आज हम जो भी है उनके आशीष से हैं...

    तो उनकी इज्जत और खुशी के लिए हमारा भी

    फर्ज बनता है.. अब उस फर्ज को निभाने का समय है
    ©deewani

  • deewani 14w

    खुशी तब है __जब मां-पापा कहे_..

    गर्व है तुम जैसी औलाद पर ___

    लेकिन ये सुनने के लिए...

    हमारी कितनी खुशियां नीलाम हो जाती है..__


    ©deewani

  • deewani 14w

    हमारा आवारपन भी सिर्फ उनके सामने था___

    अब तो लोगों का दिल जीतने में ...

    कितनी भी शराफत दिखा दो___

    कम ही रह जाती है..__


    ©deewani

  • deewani 14w

    Mujhe to har insaan me tum or tujhme Ram dikhta tha...__


    Achanak ak tufaan aaya or hmara baham v tut gya...__

    Na to yha koi tum thee..or na tujhme Ram...__


    ©deewani

  • deewani 14w

    Subh ki chay se lekar......__

    Raat k dinner k pullav tk....__

    Konse waqt me tumhe yaad na kiya jaye...__

    Khabar krva dijiyega ...__


    ©deewani

  • deewani 14w

    Pyar bhut kambakhat cheez h____


    Jo ak atut dosti ko v nigal gya__


    ©deewani

  • deewani 28w

    बदलना उसका

    मैं चाहती तो मना लेती उसने__

    पर वो रूठा नहीं था...

    बदल गया था__

    AARVi

  • deewani 28w

    सितम

    सोचा था हमने कोई बहोत टूटकर चाहेगा हमें__

    लेकिन ये क्या सितम हुआ..

    सोचा भी हमने,

    चाहा भी हमने,

    टूटे भी हम_और बिखरे तो ऐसे बिखरे की__

    आज तक खुद को ना समेट पाये हम

    AARVi