diksha_chaudhary

•DIKSHA• Due To Health Issue I'm Not Able To Commenting Anyone's Post ��

Grid View
List View
Reposts
  • diksha_chaudhary 1w

    रिश्तों की भीड़ है, मग़र तन्हा बहोत हूँ
    है मुट्ठी में दरिया, पर प्यासा बहोत हूँ!!
    ©दीक्षा चौधरी

  • diksha_chaudhary 2w

    @abhi_mishra_ Bhaiya �� I want to spend atlest one day in your home as your little sister or aapki maa ko apni maa khna chahte h....This is only for you my lifeline love you ❤ #adbs

    Read More

    महज़ कहने को हमारी, अलग जननी माँ है,
    पर मेरी माँ तेरी और, तेरी माँ मेरी भी माँ है!!
    ©दीक्षा चौधरी

  • diksha_chaudhary 3w

    टूट रही है साँसों की डोर चलते-चलते..
    मर ना जाऊँ कहीं शब के ढलते-ढलते!!
    ©दीक्षा चौधरी

  • diksha_chaudhary 3w

    सामने घटा है जो, लोग उसे भी झुठा करार देते हैं
    जिसको देखा नहीं आँखों से, उसे खुदा कहते हैं!!
    ©दीक्षा चौधरी

  • diksha_chaudhary 4w

    Irrfan Kahn One Of My Favorite Actor and One Of My Favorite Dialogue ��

    चाँद पे बाद में जाना जमाने वालो
    पहले धरती पर तो रहना सीख लो!!

    Read More

    लफ्ज भले तीखे थे उसके, लहज़ा था अदब का
    बनाने वाले ने बनाया था, उसे ऐसा गज़ब का!!
    ©दीक्षा चौधरी

  • diksha_chaudhary 4w

    उसकी यादों को अब हम भुला देगें
    सारे दर्द की जड़ को ही मिटा देगें!!
    ©दीक्षा चौधरी

  • diksha_chaudhary 4w

    किसी ओर से टूटा दिल
    अब हर किसी को चुभता है!!
    ©दीक्षा चौधरी

  • diksha_chaudhary 4w



    क्या इतना आसान होता है एक लड़का होना
    दिल में लाखों दर्द छुपा के लबों से मुस्कुराना!!

    जब भी कुछ गलत एक लड़की के साथ होता है
    मेरी भी माँ बहन है ये सोच उसका दिल भी रोता है!!

    एक लड़की विदा होकर अपनों से दूर हो जाती है
    सरहद पर आधी उम्र गुजारने वाले को भी ये दर्द होता है!!

    बालपन से सीख देते हैं उसे तू तो एक लड़का है
    एक लड़का थोड़ी ना अपनी आँखों को भिगोता हैं!!

    बचपन से साथ पली बहन जब उससे दूर जाती है
    ना चाहते हुए भी एक भाई ज़ज्बाती हो जाता है!!
    ©दीक्षा चौधरी

  • diksha_chaudhary 4w

    #adbs
    फ़लक - आसमान /sky

    Read More

    भीगी है पलकें और आंखों में नमी भी है..
    आज भी वो फ़लक और हम ज़मीं ही है!!
    ©दीक्षा चौधरी

  • diksha_chaudhary 5w

    दर्द-ए-जुदाई में आज, डूबी है फ़िजा ये सारी
    गम-ज़दा हम हैं आज, टूट गई बरसों की यारी!!
    ©दीक्षा चौधरी