dinesh_bhardwaj

youtu.be/tiWMvrY9O7M

Co-Author #letters to self , story writer, quotes and poem lover, mirakee reader mention me #dks

Grid View
List View
Reposts
  • dinesh_bhardwaj 15w

    उसने कहा- हिसाब लगाओ हम कहाँ हैं...
    "मैं अकेला था मुझे तुम मिली, तुमसे मोहब्बत हुई, मोहब्बत में अपना दिल तुम्हें दे बैठा, धड़कनों पर तेरा हक़ हुआ और मैं, मैं से तुम हो गया.....

  • dinesh_bhardwaj 17w

    न जाने कैसी कशिश है तेरी अदाओं में
    एक बार जो देख ले तेरा होकर रह जाता है।

  • dinesh_bhardwaj 17w

    ज़रा देर हो गयी मुझे शायद
    हवाओं में घुली खुशबू बता रही थी
    वो आकर चली गयी....

  • dinesh_bhardwaj 29w

    खुवाबों में नज़र आते हैं वो
    छोटी छोटी आंखों को
    और छोटा कर मुस्काते है वो
    कुछ यूं मुलाकात होती है उनसे
    ख्वाबों में नज़र आते है वो

    वही रौनक उनके चहरे की
    वही ख़ुशबू उनके बालों की
    वही लालिमा उनके गालों की
    देख हमें फिर मुस्काते है वो
    कुछ यूं मुलाकात होती है उनसे
    ख्वाबों में नजर आते है वो

    बोली में इक रसधार घुली
    है मिठास बातों की बहुत घनी
    आंखों पर गिरती लट को
    जब कानों के पीछे छुपाते है
    फिर सरसरी नजर हम पर उनकी
    अमिट छाप छोड़ जाती है
    कुछ यूं मुलाकात होती है उनसे
    खुवाबो में नजर आतें है वो

  • dinesh_bhardwaj 32w

    छन कर आती धूप मुझे कुछ बता रही थी
    खिड़कियों के पर्दो पर आकर टकरा रही थी
    जाकर देखा खिड़की पर जब मैंने-
    वो मुझे-मेरे साय से मिला रही थी

  • dinesh_bhardwaj 32w

    .

  • dinesh_bhardwaj 32w

    सफ़र का जिक्र तभी होता है जब उसमें परेशानियां आती है....
    सीधे सरल रास्ते चल कर लोग भूल जाते है।

    ..DAS

  • dinesh_bhardwaj 33w

    दिल की दीवारों पर मोहब्बत की स्याही से एक नाम लिखा है। गैरमौजूदगी तेरी उन अक्षरों को सुन्हेरा कर रही है।
    ..DAS..

  • dinesh_bhardwaj 34w

    हर तमन्ना गर पूरी हो गयी होती
    तब जिंदगी ना जानें कैसी होती...
    यक़ीन से कह सकता हूं
    तब भी कहता -जिंदगी बेरंग सी है

    हर तमन्ना चूर होते देख रहा हूँ
    अपने सपनो के दर्द में तड़प रहा हूँ
    ख़ुदा कैसी खुदायगी है
    अब भी कहता हूं - जिंदगी बेरंग सी है

    ..DAS..

  • dinesh_bhardwaj 34w

    बावली मोहब्बत जब से हुई
    हम तुझे अपना खुदा मान बैठे...
    ये भूल गए थे-
    खुदा किसी एक का नहीं होता।