#2331

30902 posts
  • yuvrajnayak 1h

    छोटी छोटी खुशीयां
    हमे जिने का सलीका सिखाती है
    जिंदगी के हर मोड़ पर घर परिवार दोस्तों मे
    बस इसे सार्थक करना जरूरी है
    फिर पता नही इन्सान कयुं इतना मगरुरी है

    किसी दोस्त ने कहा आ यार बैठ
    अगर हम नही बैठे तो समझो
    हम ने एक छोटी सी खुशी को नजरअंदाज कर दिया

    इतनी भी कया जलदी है
    जो हमारे पास कोई आया
    तो हम ने कम वक्त का हवाला देकर टाल दिया
    अरे यार कुछ तो सोचो शायद
    उसकी मुलाकात मे कोई हमारी ही खुशी छुपी हो

    माहौल संगत हालात चाहे कैसे भी हो
    पर उसमे कही ना कहीं एक खुशी छुपी होती है
    जिसे हमे सिखने की जरुरत है

    हम ने अगर दो शब्द मुसकुरा कर बोल दिये तो
    समझो हम ने किसी को छोटी सी खुशी भेंट कर दी

    दोस्तों जब मै ये पंक्तियां टाइप कर रहा था
    तो मेरा एक दोस्त मेरे पास
    कोल्ड ड्रिंक लेकर आया खोलकर मुझे दी

    उस वक्त मै भी यह कह सकता था
    की मेरे पास वक्त नही
    पर नही हमे ऐसा नही करना है

    यही होती है वो छोटी छोटी खुशीयां

    तो मैने मुस्कुराहट के साथ उसका अभिनंदन किया

    उसके चहरे पर एक छोटी सी खुशी थी
    जिसने मुझे भी खुश किया . Next.... रिश्ता
    ������ ����������

    Read More

    #.umeed 53

    छोटी छोटी खुशीयां

  • syaahi_22 3h

    वह मुझसे अक्सर उसके कौरे सफहों पर रंग बिखेरने को कहता है फिर जब मैं उससे पूछती हूं क्यों तो वह मुझे स्याही के रंगों में मोहब्बत बताता है !
    फिर,
    मैं उसमें प्यार लिखती हूं
    उससे किया गया इजहार लिखती हूं
    मेरी स्याही से शब्दों का आकार लिखती हूं
    उसमें मेरा इरादा लिखती हूं
    उस से किया हुआ वादा लिखती हूं
    मेरी स्याही से इश्क का कायदा लिखती हूं
    मैं उसमे कुछ राज लिखती हूं
    उसी के कुछ अल्फाज लिखती हूं
    मेरी स्याही से मैं शफक की परवाज लिखती हूं
    मैं उसमें कुछ ख्वाहिशात लिखती हूं
    उससे बनी है जो मेरी कायनात लिखती हूं
    मेरी सही से अपने कुछ जज्बात लिखती हूं
    मैं उसमें हमको गुमनाम लिखती हूं
    उसे मेरी दुनिया का मुकाम लिखती हूं
    मेरी स्याही से मैं सदियों के इश्क का इंतजाम लिखती हूं
    मैं उसमें उस पर यकीन लिखती हूं
    उसे आकाश मैं अपने आप को जमीन लिखती हूं
    मेरी स्याही से मैं हमारी जिंदगी बेहतरीन लिखती हूं
    वह मेरे रंगों से मोहब्बत करता है
    मैं उसके कौरेपन से मिले सुकून से
    वह मेरे अश्कों से मोहब्बत करता है
    मैं उसकी जिंदगी की सादगी से
    वह अपनी स्याही से मोहब्बत करता है
    मैं जो मेरी किताब है उससे !!
    © स्याही_22

    Read More

    मैं उसकी स्याही , वह मेरी किताब सा!

  • kd15aug 3h

    कुछ इस कदर...
    बदनाम हुए हम इस ज़माने में...
    तुमको सदियां लग जाएंगी...
    हमें भुलाने में..

    Read More

    बदनाम

    ©kd15aug

  • flame_ 5h

    वही आँगन काँटों से भरा,
    वही बंजर बगीचा था,
    वही सूखे पत्ते जो मेरे शिथिल मन और
    मंद गति के बहाव में
    चलते जीवन को दर्शाते,
    वही टूटा हुआ दरीचा था,
    इसके इलावा कुछ ना नज़र आता था,
    ये कैसा शंकाओं और निराशाओं ने घेरा था?!
    हर इक पल जो स्नेह से सींचा था,
    नफरतों का अंश कैसे उसने खींचा था?
    शोर था कुछ अंजाना सा,
    जानती थी उसे,
    नाजानें क्यों लगता था पहचाना सा,
    एकांत पसंद था इसके बावजूद भी
    अकारण ही,
    सब कुछ दूर जाने का लगता महज़ बहाना सा,
    हम्मम...पास में दरीचा था,
    पर वो प्रसन्नता का संसार ना अबतक रचा था,
    दुःखों से पीड़ित फ़कत सज़ा था।
    ©flame_

    Read More

    दरीचा

    ©flame_

  • jazbaat_30 5h

    दुनिया की इस भीड़ में
    न तू अपने अरमान रख
    भीड़ से हटकर छोटी ही सही
    पर अपनी एक पहचान रख ।
    अनीता

    Read More

    पहचान

    ©jazbaat_30

  • varun1143 7h

    चलते हुए वक्त को हम यूं ही नहीं रखते।
    जलते हैं हम के हम;
    अपने आप से के हम अपने आप को बदल नहीं सकता ;
    हम अच्छे पतों में जी ते हैं हम;
    मगर हम बुरे वक्त नहीं चाहते।

    Read More

    वक्त के पल

  • barbad 11h

    अभी चाहूँ तो भी खुद से मैं मिल नहीं सकता
    मैं जहाँ छूट आया हूँ मुझे किसी ने छोड़ा था

    Read More

    ईक रोज ऊठेगी लह़क मुझसे आ मिलने की
    तब तक मैं अपने आप को दरकिनार रखूँगा

  • kuchunkahibaatein10 12h

    सबसे खतरनाक होता है मुर्दा शांति से भर जाना -पाश

    पाश द्वारा लिखी गई यह कविता काफी है मन में लाखों सवाल पैदा करने के लिए।क्या चुप रहना इतना खतरनाक और बुरा है?
    जब बच्चा जन्म लेता है,वो रोकर खुद को अभिव्यक्त करता है।जब उसे भूख लगती है,असहज महसूस होता है,वह रोता है। अपनी पूरी शक्ति लगाकर,अपनी आवाज़ पहुंचाता है।फिर वो बड़ा होने लगता है,बोलना सीखने लगता है।पर इसी के साथ एक चीज और सीखता है,चुप रहना।घर से लेकर विद्यायल तक,वो चुप्पी की संस्कृति का शिकार बनता जाता है।'finger on your lips','keep silence',' मुंह बंद कान खुले','चुप रहो बड़े बात कर रहे है','ध्यान से सुनो',
    पर इसके आगे क्या?ध्यान से देखने और सुनने के बाद क्या करना चाहिए,शायद ही कोई बताता है।
    क्या हमने बोलना सिर्फ इसीलिए सीखा कि जरुरत आने पर चुप रह सके?
    सवाल करने और बोलने वालो के लिए समाज ने कुछ उपनाम बना रखे है,मूर्ख,बिगड़ैल,बदतमीज और ना जाने क्या क्या।इन उपनाम को पाने का 'डर ' चुप्पी तोड़ने नहीं देता।हम डर से हार जाते है और अंत में मर जाते है।यही चाहता है समाज,हम डरे रहे और घुटने टेक दे उन प्रथाओं के सामने जो गलत है,उन
    चीज़ों के सामने जो गलत है।हां,हम डर से हार जाते है और मृत्यु से पहले ही मर जाते है।अगर ज़िन्दगी को असल में जीना है,तो बोलना सीखना होगा।
    जबतक चुप्पी है,अत्याचार होते रहेंगे।जो जैसा चल रहा है वैसा चलता रहेगा।सच ख़ामोश रहेगा और अन्याय दिनोदिन बढ़ता जाएगा।इसलिए जरूरी है इस चुप्पी को तोड़ना।
    चुप्पी हमें तोड़े इससे पहले हमें चुप्पी को तोड़ना होगा।
    अंत में फ़ैज़ अहमद फ़ैज़ साहब की कुछ पंक्तियां ही कहना चाहूंगी
    बोल कि लब आज़ाद है तेरे
    बोल कि सच ज़िंदा है अब तक
    बोल जो कुछ कहने है कह ले
    बोल कि लब आजाद है तेरे

    कुछ गलत लिखा गया हो मुझसे,तो उसके लिए माफ़ी।
    आशा है,आप मेरी गलती मुझे बताएंगे,चुप नहीं रहेंगे।
    गलती सुधारने से ही इंसान सीखता है,मै भी सीखूंगी।

    #hindiurduwriters #humdekhenge #bolkelabaazad haitere #hindiwriters #aawazuthao #du #breakthesilence
    @naman_khandelwal @jayraj_singh_jhala @shiv__ @vandna

    Read More

    चुप्पी

    चुप्पी बढ़ा देती है शोषणकर्ता की हिम्मत और शोषित की विवशता
    चुप्पी खत्म कर देती है मनुष्य के सोचने - समझने की शक्ति
    एक चुप्पी खत्म कर देती है उन तमाम विचारों को
    जो ले सकते है एक जन आंदोलन का रूप
    जो ला सकते है समाज में बदलाव
    जो आवाज़ दे सकते है अत्याचार को सहती ख़ामोशी को
    जो बदल सकते है तुम्हारी,मेरी और हम सबकी ज़िन्दगी को।

    इसलिए जरूरी है इस चुप्पी को तोड़ना।
    चुप्पी हमें तोड़े इससे पहले हमें चुप्पी को तोड़ना होगा।
    ©kuchunkahibaatein10

  • mrpushpendrayadav 12h

    जो सूख जाते है लेकिन छलक नहीं पाते..
    उन आसुओं को मोहब्बत सलाम करती है....

    Read More

    छलक

    जो सूख जाते है लेकिन छलक नहीं पाते..
    उन आसुओं को मोहब्बत सलाम करती है....
    ©mrpushpendrayadav

  • sramverma 14h

    Date 24/09/2020 Time 12:00 AM #SRV

    ज्यादा पढ़ी लिखी
    कहाँ होती है आज भी माँ,

    पर अपनी संतान
    की भृकुटि पर उभर आए,

    आलेखों को अच्छी तरह
    पढ़ लिया करती है माँ,

    लड़ना नहीं आता उसे
    पर अपनी संतान के लिए,

    पुरे समाज से
    लोहा ले लेती है माँ !

    शब्दांकन © एस आर वर्मा

    Image's taken from Google/Facebook/pinterest credit goes to It's rightful owner.

    Read More

    ,

  • rashmi_sinha 15h

    मुझे शराब से महोब्बत नही है
    महोब्बत तो उन पलो से है
    जो शराब के बहाने मैं
    दोस्तो के साथ बिताता हूँ.

    ����
    शराब तो ख्वामखाह ही बदनाम है.
    नज़र घुमा कर देख लो इस दुनिया में
    शक्कर से मरने वालों की तादाद बेशुमार हैं!

    ����
    तौहीन ना कर शराब को कड़वा कह कर,
    जिंदगी के तजुर्बे, शराब से भी कड़वे होते है.

    ����
    कर दो तब्दील अदालतों को मयखानों में साहब;
    सुना है नशे में कोई झूठ नहीं बोलता!
    l����
    बर्फ का वो शरीफ टुकड़ा जाम में क्या गिरा
    बदनाम हो गया".
    "देता जब तक अपनी सफाई वो खुद शराब हो गया".

    ����
    ताल्लुकात बढ़ाने हैं तो
    कुछ आदतें बुरी भी सीख ले गालिब,
    ऐब न हों तो
    लोग महफ़िलों में नहीं बुलाते.


    ����
    अभी तो सेनेटाइजर का जमाना है
    वो भी शराब का ही भाई है.
    फर्क बस इतना है
    शराब अंदर से साफ करती है.
    और सेनेटाइजर बाहर से.

    ����
    सभी बेवड़े मित्रों को समर्पित
    ������������

    Read More

    एक ही विषय पर 6 शायरों का अलग नजरिया...

    1- Mirza Ghalib: 1797-1869

    "शराब पीने दे मस्जिद में बैठ कर,
    या वो जगह बता जहाँ ख़ुदा नहीं।"

    - इसका जवाब लगभग 100 साल बाद
    मोहम्मद इकबाल ने दिया......

    2- Iqbal: 1877-1938

    "मस्जिद ख़ुदा का घर है, पीने की जगह नहीं ,
    काफिर के दिल में जा, वहाँ ख़ुदा नहीं।"

    - इसका जवाब फिर लगभग 70 साल बाद
    अहमद फराज़ ने दिया......

    3- Ahmad Faraz: 1931-2008

    "काफिर के दिल से आया हूँ मैं ये देख कर,
    खुदा मौजूद है वहाँ, पर उसे पता नहीं।"

    - इसका जवाब सालों बाद वसी ने दिया......

    4- Wasi:1976-present

    "खुदा तो मौजूद दुनिया में हर जगह है,
    तू जन्नत में जा वहाँ पीना मना नहीं।"

    - वसी साहब की शायरी का जवाब साकी ने दिया

    5- Saqi: 1986-present

    "पीता हूँ ग़म-ए-दुनिया भुलाने के लिए,
    जन्नत में कौन सा ग़म है
    इसलिए वहाँ पीने में मजा नही।"

    - 2020 में हमारे एक शराबी मित्र के हिसाब से -

    "ला भाई दारू पिला, बकवास न यूँ बांचो,
    जहाँ मर्ज़ी वही पिएंगे, भाड़ में जाएँ ये पांचों"
    ©rashmi_sinha

  • drishtantyadav 15h

    कि वो मुझे कुछ ऐसे सताता है 
    पहले सिग्रेट जलाता है
    फिर मेरे जिस्म पे बुझाता है
    उसके बनाये निशान मैं सबसे छुपाती हूँ
    वो अच्छा है मैं सबसे यही बताती हूँ
    कि एक रिश्ता है जो मुझे निभाना है
    अर्धांगिनी हूँ उसकी तो उसे छोड़ के कहा जाना है
    हर दिन इस उम्मीद से मैं जीने लगती हूँ कि वो बदल जाएगा 
    वक़्त ही तो है थोड़ा ओर सही वो सवर जाएगा 
    मैं नही अकेली इस दौर में मेरी ओर भी सहेली है
    मैं तो एक हूँ उनमे ना जाने कितनी और पहेली है
    तुम्हे लगेगा मैं कमजोर हूँ जो ये जुल्म सहती हूँ
    मैं हरगिज़ नही हूँ ये बात सबसे कहती हूँ
    जब ब्याहा था बाबा ने बस इतना कहा था मुझसे 
    कि एक वादा कर मुझसे
    घड़ी कैसी भी क्यों न हो तुझे रिश्ता निभाना है
    गम कितने भी क्यों न हो तुझे सबसे गुज़र जाना है 
    बात मान कर उनकी बस रुक ही जाती हूँ .
    कभी कभी माँ को भी अपना हाल बताती हूँ
    ख़ौफ आता है कभी कभी ज़िन्दगी क्या नया लाएगी 
    माँ कहती है अक्सर ज़िन्दगी ही तो है गुज़र जाएगी 
    अब जो तू आई तो परिवार बिखरेगा 
    तू ही ना होगी तो वो कैसे संवरेगा...।।

    ©*Drishtant Yadav Amethi
    (Arpit)

    Read More

    अनकहे दर्द....

    ©drishtantyadav

  • badluckboy 16h

    याद रखना मित्रों

    जिनकी सबसे बनती है
    वो भरोसे लायक नहीं होते ।

    Good night #fake_peoples ������
    मेरी पीठ पीछे बुराई करने वालो की #मा_का_भरोसा कोलगेट ��

    Read More

    Fake_relation

    घर से लड़ , दो पल शुकून के बिताने बाहर निकला तो पता
    चला, आजकल लोग दिलों में भी दिमाग लिए फिरते है
    ©badluckboy

  • sabarmati_thakur 16h

    #mirakee #hindiwriters

    किसी ने छुआ ना था ऐसे मेरे बदन को,
    ये हवा जो जुल्फों से खेलने लगी आज
    तो हमसफ़र की कमी महसूस हुयी.

    Read More

    शरारती हवाएं

    ©sabarmati_thakur

  • sanjay_writes 17h

    जुदा वो हुये पर हम क्यों नही हो पायें ।
    खफ़ा वो हुये पर हम क्यों नही हों पायें ।
    एक हंम ही थे जो उनसे प्यार करते रहे ।
    बेवफ़ा वो थे पर हम क्यों नही हों पाये ।

    दिल के करीब आके जब वो दूर हो गये ।
    सारे हसीन्ं खाब मेरे क्यों चूर-चूर हो गये ।
    हमने वफ़ा निभायी तो बदनामिया मिली ।
    जो लोग बेवफ़ा थे वो मशूर क्यों हो गये ।

    गुजरे दिनों की धुधली हुयी बात की तरहा ।
    इन आंखों मैं जागता है कोई सपनों की तरहा ।
    उस से ही उम्मीद थी के निभाएगी साथ वो मेरा।
    लेकिन वो भी बदल गयी मेरे हुस्न-ऐ-नूर की तरहा ।

    एक फरेबी से एक मुलाकत बहुत है ।
    जितना भी दिया हमने तेरा साथ बहुत है ।

    दूनियाँ को दिल के दाग़ों को दिखाये किस तरहा ।
    ऐ ज़िन्दगि ये राज छुपाउ तों छुपाउ किस तरहा ।
    अपनी तबाहियों में मेरा हाथ बहुत है ।
    जितना भी दिया हमने तेरा साथ बहुत है ।

    टूटा मेरे दिल का आईना जब टूटे सब ही भ्रम मेरे ।
    होती है उमर प्यार की जीने के लिये कंम।
    मरने के लिये दर्द की एक रात बहुत है ।
    एक फरेबी से एक मुलाकात बहुत है ।
    जितना भी दिया हमने तेरा साथ बहुत है ।

    जुदा होने का अन्धेसा हमें जुदा होने से पहले था ।
    वो मुझ से थे इतने खुश खफ़ा होने से पहले था ।
    जुनुन्ं का दौर गुजरा तो मुझे भी भुला बैठे वो ।
    नमाज ऐ इश्क़ था लेकिन वफा होने से पहले था ।

    फरेबियत उसकी मिटाकर आया हूँ ।
    सारे खतो उसके पानी मैं बहाकर आया हूँ ।
    कोई पढ ना ले उस फरेबी के वादो को ।
    इसलिये पानी में भी आज आग लगाकर आया हुँ।

    मेरा ताजुब अजब नही है ।
    वो शक्स पहले सा अब नही है ।
    वफ़ा का क्या गिला करु में उस से यारो ।
    वो मेरा था कब जो अब नही है ।

    Read More

    बदले हुए लोग

  • dr_rustom 17h

    लिखता हूँ एहसास दिल के आज कुछ यूँ,
    खुदा का भेजा फरिश्ता है तू।
    मेरे ऊपर हुई उसकी रहमतों की पहली बारिश है तू।
    जैसे कभी देखे थे ख्व़ाब,
    उनका ही आइना है तू ।

    होता हूँ जब भी मैं उदास,
    अपनी मुस्कुराहट से मुझे खुशी देता है तू ।
    कैसे कह दूं फिर बता कि पराया है तू।

    सुबह उठने पर पहली सोच और रात होने पर आखरी ख्वाब है तू।
    भरोसा, रिश्ते, प्यार, दोस्ती जैसे शब्दों के मायने,
    बिन बोले समझाने वाला है तू ।
    बता फिर कैसे कह दूं मेरा अपना नहीं है तू।

    रूठ जाता है मुझसे बार-बार न जाने क्यूँ,
    मनाता हूँ तुझे हर बार जाने मैं इतना क्यूँ।
    एहसास है दोनों तरफ सच्चाई, परवाह, भरोसे और दोस्ती के,
    क्या नहीं जानता है ये तू।

    थी मेरी जिंदगी वीरान मरुस्थल-सी,
    फिर उसमें तूने चाहत के फूल खिलाए यूँ, सावन आने पर मन-मयूर झूमता है ज्यूँ।

    दुनिया की भीड़ में न जाने मुझे ही क्यूँ मिला है तू,
    कितना खुश हूँ तेरे आने से मैं,
    क्या ये नहीँ जानता था तू।
    आना चाहिए था तुझे बहुत पहले,
    झल्ला-सा मेरा दोस्त इतनी देर से क्यों आया बता फिर तू।
    अब आ ही गया है तो कह दे अकेला छोड़ मुझे कभी नहीं जायेगा तू।

    तू खुश रहे हमेशा, सोचता हूँ आज भी पल-पल मैं यूं, न जाने क्यू।
    था क्या कोई रिश्ता पुराना या खुदा ने मेरे लिए ही बनाया है तू।

    Read More

    फरिश्ता

    ©dr_rustom

  • khayalaat_hamare 18h

    @mittal_saab #prayasss52
    समय के अभाव में छोटा सा प्रयास ।।

    Read More

    हैं तकलीफें में बेहिसाब
    पर अभी भी समाधान की तलाश जिन्दा है
    है निराशा से भरे लोग यहां
    किन्तु अभी सकारत्मक प्रयास जिन्दा है
    हाँ गिरि हूँ रास्ते में कई बार
    फिर उठी चली और दौड़ी हूँ
    कही ना कही आज भी सफलता की आस जिन्दा है
    ©khayalaat_hamare

  • yuvrajnayak 18h

    मुस्कुराहट तुम्हारी इतनी प्यारी
    जैसे किसी बगीचे की फुलवाड़ी
    जो है इस जग से न्यारी


    मै आइना तो नही
    पर बनने की कोशिश करूंगा
    तुम जब बेठो उदास मायूस
    चहरे पर तुम्हारे
    मुस्कुराहट लाने की कोशिश करूंगा

    फिर से वही हंसमुख बन जाऔ तुम
    साथ तुम्हारे रहेंगे रुह मे हम
    कया लिखुं इन शर्मिली अदाऔं पर
    जो कभी चलती थी हवाऔं पर
    मुस्कुराते हुऐ लगते हो जैसे पुष्प कमल

    सुख दुःख तो जीवन के साथी
    क्यों उदासी चहरे पर रखते हो
    मुस्कुराते हुऐ खुबसुरत लगते हो

    मुरझाये हुऐ रहना अच्छी बात नही
    कया तुम्हारे साथ किसी का साथ नही

    गुनगुनाते रहो मुरली वाले के प्रेम को ........... Next ..रिश्ता

    Read More

    मुस्कुराहट

  • sabdokbanse 19h

    फिर से नारी का अपमान।
    युद्ध होगा अब घमासान।।
    देख दुर्योधन तूने कर
    दिया कैसा दुर्व्यवहार।
    अब विनाश का तांडव होगा,
    नष्ट होगा तेरा कुल परिवार।।
    पँचाली के पाँच पाण्डव
    देखते रहे होकर मौन।
    द्रौपदी बोली पाँचो है
    एक से बढ़कर एक
    फिर भी जवाब देगा कौन।।
    फिर पँचाली बोली अरे
    जागों भीष्म पितामह।
    तुम्हारी लाज लूट रही
    ,हँसी उड़ाता स्वयं जहाँ।।
    दुस्साहस करता फिर
    दुःसाशन चिर बदन खिंचने लगा।
    तभी क्या अग्नि क्या वायु
    सबका मन तमतमाने लगा।
    अरे कोई तो मेरी लाज बचाओ।
    अरे कोई आवाज उठाओ।
    भरी सभा में अपनी माँ के
    दूध का कोई तो शौर्य दिखाओ।
    देखते रहे मौन होकर सारे
    के सारे ज्ञानी यौद्धा पण्डित।
    किन्तु अत्याचारी खेलता रहा
    बनकर सबके समक्ष ढीठ।
    तभी विदुर ने रोकने को आवाज उठाया।
    किन्तु कर्म का अँधा उसको तुरन्त धमकाया।।
    ये सुनते ही विदुर बोला इससे पहले की
    कायर की सभा में स्वयं के नजर मर जाऊं।
    इससे बेहतर होगा कुछ ना करू तो कम
    से कम इस दागी सभा से चला जाउ।।
    अब द्रोपदी के सामने केवल
    कृष्ण ही एक आस बचा।
    कृष्ण ही पालनहार आयेंगे जरूर
    ये ही आखिरी मन में विस्वास जगा।
    कृष्ण ही है सबके रक्षक
    बुलाने पर आना उनका तय रहा।
    कृष्ण को मन ही मन उन्होंने फिर याद किया।
    आओ गिरधर लाज बचाओ
    ये मन से फरियाद किया।
    फिर क्या था चिर खींचते
    खींचते दुःसाशन हुआ परेशान।
    आखिर हार गया टूट गया
    मन से झूठा अभिमान।।
    अब तो मानो सभी हो गए पानी पानी।
    सभी लगे बोलने पक्ष में
    क्या ज्ञानी क्या अज्ञानी।।
    फिर सभी लोग सहित दुर्योधन
    दुःसाशन का विनाश हुआ।
    और देर सही सम्पूर्ण सत्य
    नीति का विकास हुआ।।

    Read More

    नारी का अपमान

  • hhebwbennejy 21h

    बालपणापसून माझ्या सोबत असणारी,��✌️��
    नेहमी छोट्या छोट्या कारणावरून माझ्याशी भांडणारी,����
    राग नाकावर पण नेहमी माझ्याशी प्रेमाने बोलणारी,��
    नेहमी मला हसवणारी, सुखं दुःखात साथ देणारी,����
    मी न बोलता माझ्या मनातलं ओळखणारी,☺️��
    आणि मला नेहमी समजून घेणारी...!��
    माझी मैत्रीण..माझी best friend ( Bestie)❣️
    या आयुष्याला तुझ्या मैत्रीची जोड कायम हवीच असणार आहे..��✌️❣️
    ... So never live me alone..
    Always there with me...✌️����
    Wish you a very happy birthday... ������������������Meri jann..����❣️
    Happiest birthday dear bestie,������
    Stay blessed..������may all your dreams come true..��☺️
    Party hard.. enjoy your special day..
    Always keep smiling..☺️����❣️
    ��Your bff.. Manni��‍❤️‍����‍❤️‍��‍��

    Read More

    These one is for you dear bestie ❣️