#2395

15084 posts
  • ranarahul 4h

    दो पल की ज़िंदगानी��

    Read More

    वक्त भी बदला और इंसान भी बदल गए,
    और एक हम हैं..! जो आज भी दिल मे पुराना दर्द लेकर घूमते हैं...

  • flame_ 6h

    वही आँगन काँटों से भरा,
    वही बंजर बगीचा था,
    वही सूखे पत्ते जो मेरे शिथिल मन और
    मंद गति के बहाव में
    चलते जीवन को दर्शाते,
    वही टूटा हुआ दरीचा था,
    इसके इलावा कुछ ना नज़र आता था,
    ये कैसा शंकाओं और निराशाओं ने घेरा था?!
    हर इक पल जो स्नेह से सींचा था,
    नफरतों का अंश कैसे उसने खींचा था?
    शोर था कुछ अंजाना सा,
    जानती थी उसे,
    नाजानें क्यों लगता था पहचाना सा,
    एकांत पसंद था इसके बावजूद भी
    अकारण ही,
    सब कुछ दूर जाने का लगता महज़ बहाना सा,
    हम्मम...पास में दरीचा था,
    पर वो प्रसन्नता का संसार ना अबतक रचा था,
    दुःखों से पीड़ित फ़कत सज़ा था।
    ©flame_

    Read More

    दरीचा

    ©flame_

  • purrienne_wings 15h

    #क़ुर्बत = नज़दीकी

    @mirakee @writersnetwork @hindiwriters
    #pod

    Read More

    इतनी दूरी पर भी क़ुर्बत का ये आलम , तौबा!
    पास ही दिल के कोई बोल रहा हो जैसे।

    ©sumaiya | ©purrienne_wings

  • drishtantyadav 16h

    कि वो मुझे कुछ ऐसे सताता है 
    पहले सिग्रेट जलाता है
    फिर मेरे जिस्म पे बुझाता है
    उसके बनाये निशान मैं सबसे छुपाती हूँ
    वो अच्छा है मैं सबसे यही बताती हूँ
    कि एक रिश्ता है जो मुझे निभाना है
    अर्धांगिनी हूँ उसकी तो उसे छोड़ के कहा जाना है
    हर दिन इस उम्मीद से मैं जीने लगती हूँ कि वो बदल जाएगा 
    वक़्त ही तो है थोड़ा ओर सही वो सवर जाएगा 
    मैं नही अकेली इस दौर में मेरी ओर भी सहेली है
    मैं तो एक हूँ उनमे ना जाने कितनी और पहेली है
    तुम्हे लगेगा मैं कमजोर हूँ जो ये जुल्म सहती हूँ
    मैं हरगिज़ नही हूँ ये बात सबसे कहती हूँ
    जब ब्याहा था बाबा ने बस इतना कहा था मुझसे 
    कि एक वादा कर मुझसे
    घड़ी कैसी भी क्यों न हो तुझे रिश्ता निभाना है
    गम कितने भी क्यों न हो तुझे सबसे गुज़र जाना है 
    बात मान कर उनकी बस रुक ही जाती हूँ .
    कभी कभी माँ को भी अपना हाल बताती हूँ
    ख़ौफ आता है कभी कभी ज़िन्दगी क्या नया लाएगी 
    माँ कहती है अक्सर ज़िन्दगी ही तो है गुज़र जाएगी 
    अब जो तू आई तो परिवार बिखरेगा 
    तू ही ना होगी तो वो कैसे संवरेगा...।।

    ©*Drishtant Yadav Amethi
    (Arpit)

    Read More

    अनकहे दर्द....

    ©drishtantyadav

  • sanjay_writes 17h

    जुदा वो हुये पर हम क्यों नही हो पायें ।
    खफ़ा वो हुये पर हम क्यों नही हों पायें ।
    एक हंम ही थे जो उनसे प्यार करते रहे ।
    बेवफ़ा वो थे पर हम क्यों नही हों पाये ।

    दिल के करीब आके जब वो दूर हो गये ।
    सारे हसीन्ं खाब मेरे क्यों चूर-चूर हो गये ।
    हमने वफ़ा निभायी तो बदनामिया मिली ।
    जो लोग बेवफ़ा थे वो मशूर क्यों हो गये ।

    गुजरे दिनों की धुधली हुयी बात की तरहा ।
    इन आंखों मैं जागता है कोई सपनों की तरहा ।
    उस से ही उम्मीद थी के निभाएगी साथ वो मेरा।
    लेकिन वो भी बदल गयी मेरे हुस्न-ऐ-नूर की तरहा ।

    एक फरेबी से एक मुलाकत बहुत है ।
    जितना भी दिया हमने तेरा साथ बहुत है ।

    दूनियाँ को दिल के दाग़ों को दिखाये किस तरहा ।
    ऐ ज़िन्दगि ये राज छुपाउ तों छुपाउ किस तरहा ।
    अपनी तबाहियों में मेरा हाथ बहुत है ।
    जितना भी दिया हमने तेरा साथ बहुत है ।

    टूटा मेरे दिल का आईना जब टूटे सब ही भ्रम मेरे ।
    होती है उमर प्यार की जीने के लिये कंम।
    मरने के लिये दर्द की एक रात बहुत है ।
    एक फरेबी से एक मुलाकात बहुत है ।
    जितना भी दिया हमने तेरा साथ बहुत है ।

    जुदा होने का अन्धेसा हमें जुदा होने से पहले था ।
    वो मुझ से थे इतने खुश खफ़ा होने से पहले था ।
    जुनुन्ं का दौर गुजरा तो मुझे भी भुला बैठे वो ।
    नमाज ऐ इश्क़ था लेकिन वफा होने से पहले था ।

    फरेबियत उसकी मिटाकर आया हूँ ।
    सारे खतो उसके पानी मैं बहाकर आया हूँ ।
    कोई पढ ना ले उस फरेबी के वादो को ।
    इसलिये पानी में भी आज आग लगाकर आया हुँ।

    मेरा ताजुब अजब नही है ।
    वो शक्स पहले सा अब नही है ।
    वफ़ा का क्या गिला करु में उस से यारो ।
    वो मेरा था कब जो अब नही है ।

    Read More

    बदले हुए लोग

  • raman_writes 19h

    ना जाने मंज़िल कब मिलेगी, मिलेगी या नहीं !
    ________

    Follow for more amazing post..
    ________

    #follow #comment #share #like #tag
    ________

    Follow - @raman_writes
    Follow - @raman_writes
    Follow - @raman_writes
    Follow - @raman_writes
    Follow - @raman_writes
    ________

    Turn on the post notification
    ________

    Share and tag me
    ________

    Use - #raman_writes
    ________

    #shayari #shairi #shayri #hindiquotes #urdupoetry #poetic #poems #poem #poet #poetry #urdu #hindi #ghazal #ghalib #gulzar #rekhta #quotes #destination #time #faraway #handle #quote #atheist

    Read More

    वक़्त

    बड़ी दूर ले आया वक़्त मुझे संभालते - संभालते ।

    अभी और दूर जाना है मुझे इस वक़्त के साथ ।।


    ©raman_writes

  • its_gss 20h

    तुमसे हुए इश्क़ का,
    हर घर में चर्चा करता हूँ
    दो पल की ख़ुशी की याद में,
    आँखों में पानी भरता हूँ

    तेरे महबूब ने सवाल किया है मुझसे,
    जवाब तो दे दूं पर अंजाम से डरता हुँ,

    अरे कैसे बताऊं मेरी हालत उसे,

    बस जीने की चाहत लिए
    हर रोज़ यहाँ मैं मरता हूँ ।


    #hindi #poem #hindiwriters #shayar #urdu #ishq #love #shayari #loveshayari #pyar #life #sad @rnsharma65 @lazybongness @__dipps__ @pritty_sandilya @iamfirebird

    Read More

    इश्क़ ?

    तुमसे हुए इश्क़ का,
    हर घर में चर्चा करता हूँ
    दो पल की ख़ुशी की याद में,
    आँखों में पानी भरता हूँ ..

    Read caption..

    ©its_gss

  • shaayraa_28 1d

    दोस्ती ज़िन्दगी का एक सुहाना सा रिश्ता कहलाया है
    जिसने मेरी बेआवाज़ सी ज़िन्दगी मे एक सुरीला सा राग ठहराया है
    ज़िन्दगी अगर धूप है तो यह मेरे लिए एक घना साया बनकर सर पर छाया है
    जिसने हरदम मेरी मुश्किलों को मुझसे दूर भगाया है
    मे कभी अगर रास्ते से भटकु तो मुझे वापस राह दिखाने का ज़िम्मा इनने उठाया है
    कोई भी मुसीबत हों या परेशानी उसमे डट कर मेरा साथ निभाया है
    जब भी मायूस हुई मे अपनी ज़िन्दगी से तो दोस्तों ने खुशियों का झोला मेरी ज़िन्दगी मे फैलाया है
    मे अगर कभी रूठ जाऊ तो मुझे मनाकर मुझे फिरसे हसना खेलना सिखाया है
    इसलिए दोस्ती ज़िन्दगी का एक सुहाना सा रिश्ता कहलाया है |

    Read More

    सच्ची दोस्ती

    (Read caption)

  • shaayraa_28 1d

    दोस्ती ज़िन्दगी का एक सुहाना सा रिश्ता कहलाया है
    जिसने मेरी बेआवाज़ सी ज़िन्दगी मे एक सुरीला सा राग ठहराया है
    ज़िन्दगी अगर धूप है तो यह मेरे लिए एक घना साया बनकर सर पर छाया है
    जिसने हरदम मेरी मुश्किलों को मुझसे दूर भगाया है
    मे कभी अगर रास्ते से भटकु तो मुझे वापस राह दिखाने का ज़िम्मा इनने उठाया है
    कोई भी मुसीबत हों या परेशानी उसमे डट कर मेरा साथ निभाया है
    जब भी मायूस हुई मे अपनी ज़िन्दगी से तो दोस्तों ने खुशियों का झोला मेरी ज़िन्दगी मे फैलाया है
    मे अगर कभी रूठ जाऊ तो मुझे मनाकर मुझे फिरसे हसना खेलना सिखाया है
    इसलिए दोस्ती ज़िन्दगी का एक सुहाना सा रिश्ता कहलाया है |

    Read More

    सच्ची दोस्ती

    (Read caption)

  • delta 1d

    क्यों थी ये उलझन
    आखिर जानती क्या थी मैं उसके बारे में?
    बस उसका नाम और कूछ भी तो नहीं
    कैसे दिखता है कैसे बोलता है
    रहता कैसे है
    कुछ भी नहीं पता था
    बस पता था तो सिर्फ उसकी बातों का
    जो वो मुझसे किया करता था
    भीनि भीनि खुशबुओ में

    शायद उसे लिए ये महेज एक आम बात रही होगी
    पर मेरे लिए नहीं थी
    उसके लिए उसका सांसें लेना बेहद नोर्मल रहा होगा
    पर मेरे लिए अब अजाब बनता जा रहा था
    जाने क्या उलझन थी उस दिन
    उससे बात नहीं हो पा रही थी और मैं अंदर ही अंदर कुढ़ती जा रही थी

    मैंने भी सोच ही लिया
    उसे फ़िक्र नहीं जब कोई तो मैं क्यों दिखाऊं की मेरे मन में क्या है?
    दिन जैसे तैसे बीत ही गया
    तो अब रात ने तंज कसना शुरू कर दिया
    आंख लगी जब तो पहली बार उसे ख्वाबों में देखा
    आचानक से आँख खुली तो
    लगा सीने से दिल निकल लिया हो किसी ने
    वो मुझे छोड़ने वाला था
    ख्वाँब में
    इतना असर कैसे हो सकता है किसी गैर शक़्स का
    मिली नहीं कभी देखा तक नहीं सामने से
    और हक़्क़् इतना गहरा की शादीशुदा जोड़ा भी सुन के शर्मा जाए मेरे दिल की बेवकूफी पर
    नम आँखें लिए मैं बिस्तर से उठी
    पानी पिया और फिर यादों की गहराई में डूबती चली गई
    कहीं सच में यही वो शक़्स् नहीं जिसके बारे में लोग कहते हैं की उसके आने पर सब कुछ बादल जाता है
    यहाँ तक की खुद को आईने में देखने का अंदाज़ भी
    दिल को थोड़ी तसल्ली देकर मनाया
    और फिर खुद सो गई

    और ये कम्बखत रेडिओ वालोंं को गाने की लिस्ट कौन देता है?

    ��।।दो नैनो में आंसू भरे हैं।।
    ।।निन्दिया कैसे समाये।।��


    #adhoori_mohabbat_p3

    @eunoia__ this is thr leftover ������
    body limitation isn't allow me to post it whole

    Read More

    अधूरी मोहब्बत

    सुबह वहीं ख्याल
    कल सारा दिन बात नहीं हुई
    उसे याद तक नहीं आई मरी?
    हुह्
    किसी और से बात कर ली होगी उसने
    और भी फ्रैंड्स होंगे उसके
    बातें ही इतनी अच्छी करता है
    कैसे न हो कोई
    फोन वापस रख के मैं स्कूल के लिए निकली
    पिछली रात वाली थकान साफ चेहरे पर झलक रही थी
    मन बहुत उदास था
    और नज़र बार बार मोबाइल फोन पर जाकर रुक जाती

    तभी एक दोस्त ने पीछे से कहा
    कहाँ गुम हो?
    मैंने नहीं में सर हिला दिया

    ऐसे ही होता है क्या?
    जब कोई खामोश होता है तो बोलने का सारा सबब कहीं पुरानी पोटली में बंद कर के दूर तालाब में फेक देता है?
    ये ख़ामोशी पहली बार महसूस की थी मैंने

    बदरंगी समेटे शाम की रौशनी कमरे में दस्तक दे चुकी थी
    फिर से एक पूरा दिन ढलने को था और रात आने को बेबाक
    मायूसी संजोये उँगली पर मैंने उसे मेसज कर ही दिया
    और फोन रख के किचन में आगई

    रात को मेसज देखा उसका
    पर मैंने आज अपने पुराने प्रेमी से मिलने का मन बना
    रखा था
    वो भी नाराज़ सा था थोड़ा मुझसे
    मैंने भी सोचा क्यों ना उसे आज जलाया जाए

    उससे उसी के रक़ीब की बातें की जाए
    पर आज वो थोड़ी देर से आया
    मानो जैसे तापा हुआ बैठा हो
    मेरे प्यार की खबर हो चुकी थी उसे
    तभी बादलों की आड़ में छुपा छुपा फिर रहा था
    नजरें मिली तो ठहेर सा गया वहीं
    लुका छीपी देर तक नहीं चल पाइ उसकी

    कितना सुकून है ना इन खामोश हवाओ में?
    मैंने बातें शुरू की और अंत तक सब कह दिया
    एक आंसू पलके भीगाने को तैयार जाने कब से बेचैन था

    दोनों हाथों से चेहरा छुपाये मैं रोने लग गई
    आखिर गलती है क्या मेरी?
    मैंने नहीं मांगी थी कोई ऐसी दुआ जिसकी आजमाइश में मेरी जान निकले...

  • clustered_shots 1d

    It seems शौक बड़ी चीज़ है��✨

    Read More

    चुना,मक्खन और ताऊ से सब की ज़िन्दगी अच्छी चल रही थी
    फिर न जाने कम्बख्त दिल का आना जरुरी क्यों था
    ©clustered_shots

  • smart_word_ 1d

    हवा ए रुख के अंचल मे कभी,
    हम खुद को उड़ाना सिख लेंगे,
    माना की बच्चे है अभी इस दौर मे,
    हम दौड़ने का बहाना ढूंढ लेंगे,


    खैर इस बात से आ जाती है खुशी,
    कल के लिए अपना नया ज़माना ढूंढ लेंगे,
    लब सुर्ख, ऑंखें नशीली, बस कुछ अंदाज़,
    ए वक्त लबों पर वह प्यारी सी मुस्कान सिख लेंगे,


    चलते चलते वह बचपना वाला अंदाज़ ए हवा,
    उसी पल का नज़राना ढूंढ लेंगे,
    मालूमात है तूफ़ान से टकराना खतरा है,
    हम उसी तूफ़ान मे जीने का बहाना ढूंढ लेंगे,


    हर्फ़ कच्चे है अभी अपने थोड़ा सब्र कीजिये,
    धार करने वाले अल्फ़ाज़ों का वह इशारा ढूंढ लेंगे,
    माना की ज़िन्दगी आज़माती है बहुत,
    ज़िन्दगी छोड़ कर अपना ज़माना ढूंढ लेंगे,

    Read More

    सिख -लेंगे

    अदब ए आईना सिख लेंगे ,
    बुरे हालातों पर भी मुस्कुराना सिख लेंगे,

  • ishu_deepthinker 1d

    कभी - कभी
    रिश्तों की नज़दीकियां समझने
    के लिए दूरियों का होना बहुत मायने रखता है...!
    -Deepthinker

    Read More

  • aparnamemoir 1d

    वक़्त की परछाई मे
    ना जाने कितने लोग आते हैं
    जाते हैं,
    जिन्दगी के इस मंज़र मे
    कई हमसफर हर मंज़िल पर
    बस यूँ ही मिल जाते हैं,
    कुछ खुशियों से, कुछ आंसुओ से
    आँखें हर बार यूँही नम कर जाते हैं,
    कहने को तो लोग इस दिल
    को बहलाने के लिए ना जाने कितने
    किस्से खुद को सुनाते हैं,
    कभी किस्मत की तो कभी खुदा
    की रज़ा का हवाला देकर अपने मन
    को फुसलाते हैं,
    चाहे जितना समझा ले इस दिल को
    की जिन्दगी अकेले हैं खुद ही
    बितानी हैं,
    पर कुछ लोगों के नाम लब पर आकर
    यूँही नहीं रुक जाते
    बात तो कुछ होंगी वरना
    यूँही नहीं यहाँ पत्थर दिल भी
    मोम की तरह पिघल जाते हैं.......


    #mirakee #writersnetwork @mirakee @writersnetwork

    Read More

    वक़्त की परछाई मे
    ना जाने कितने लोग आते हैं
    जाते हैं,
    जिन्दगी के इस मंज़र मे
    कई हमसफर हर मंज़िल पर
    बस यूँ ही मिल जाते हैं,
    कुछ खुशियों से, कुछ आंसुओ से
    आँखें हर बार यूँही नम कर जाते हैं,
    कहने को तो लोग इस दिल
    को बहलाने के लिए ना जाने कितने
    किस्से खुद को सुनाते हैं,
    कभी किस्मत की तो कभी खुदा
    की रज़ा का हवाला देकर अपने मन
    को फुसलाते हैं,
    चाहे जितना समझा ले इस दिल को
    की जिन्दगी अकेले हैं खुद ही
    बितानी हैं,
    पर कुछ लोगों के नाम लब पर आकर
    यूँही नहीं रुक जाते
    बात तो कुछ होंगी वरना
    यूँही नहीं यहाँ पत्थर दिल भी
    मोम की तरह पिघल जाते हैं.......

  • rangkarmi_anuj 1d

    "आओ नशे करें"

    आओ नशे करें
    सब कुछ बेच कर
    खुद को नीलाम करके,
    शर्म हया को
    मसल कर रख दें
    अंगूठे से हाथ की
    हथेली में दबा के
    ज़र्दे खैनी के साथ।

    चरस के लिए
    खून बेच देते हैं,
    और खून कर दें
    चिलम की उस
    कश के लिए जो
    ज़िंदगी में पछतावे का
    अक्स बार बार दिखायेगा
    किसी गंदे पानी में।

    उबलती हुई जवानी
    मय में डुबकी लगाएगी,
    फिर चढ़ेगा मांस में
    ऐसा बेहूदा जोश जो
    तलब कम करने के लिए
    जिस्म ढूंढेगा उस घर में,
    जहां पर सो रही होगी
    अनेक रिश्तों के चादर
    को लपेटे हुए
    नाज़ुक सी लड़की।

    एक नशा वहां करें
    जहां पर जल रहे हैं
    वक़्त से पहले मरे
    लोग जो नशे में चूर थे,
    उनकी धधकती आग से
    बीड़ी सिगरेट जलाकर
    अपनी बारी का इंतजार
    करते हैं, बिना इंतेज़ाम के
    बिना कंधे सहारे के
    आओ नशे करें।
    ©rangkarmi_anuj
    PC- Google/RightfulOwner

    Read More

    "आओ नशे करें"

    ©rangkarmi_anuj

  • nishurastogi 1d

    ओ रे नसीबा, क्यों है तू इतना खफा?
    है अगर कोई रंजिश, आ मिलकर बता।

    माना अज़ीय्यते सहने वालो पर, तू होता है फ़िदा,
    हूँ मैं अगर उस काबिल, तो तू तकलीफें और बढा।

    न जानूँ मैं, है ये मेरा दोष, या तेरी मर्ज़ी,
    इस राज से पर्दा, अब तू उठा।

    देख तेरा ये इम्तिहान, अपने तो क्या,
    मेरा ख़ुदा भी है, आज मुझसे जुदा।

    तेरे उफनते तूफान में, मेरे चंद ख्वाब है,
    डगमग सी राहें, और कोशिशें बेहिसाब है।

    अनजान नही है तू मेरे हालातों से, किस तरह से जीती हूँ,
    मैं, जल रही ख्वाहिशों में भी, मंद मुस्कान लिए फिरती हूँ।

    #avai #kuch_bhi #bekar_sa��

    Read More

    ओ बेदर्द, दर्द को मुझमें बेहिसाब न कर,
    दे अज़ीय्यते पर इसकदर बर्बाद न कर।
    ©nishurastogi

  • wearyearl 1d

    Read All Parts Of उलझन ( ULJAHN ) = #weary_s5

    ������������������������������������

    -----/// PART- 2 ///-----

    महज 10 साल की उम्र में मुझे चार दिवारी में बंद कर दिया गया था ,मेरे साथ बेरहमी हई थी, मेरे साथ छेड़खानी हुई थी।
    दुनियादारी, अच्छा बुरा इस सबसे दूर मै अपने ही ख्वाब देखने वाली ,अब एक कमरे में बंद रहने लगी थी। मेरे साथ क्या हुआ था किसने क्या किया क्या था मुझे इस बात का थोड़ा भी एहसास नहीं था। पर ना जाने क्यों मेरे मोहल्ले के दोस्त, अब मुझसे मिलने नहीं आते थे।
    मेरी मोहल्ले की वो औरतें जो मुझे देख कर मुस्कुराती हैं वो अब मुझे देखती भी नही थी। वो अब मेरे करीब भी नहीं आती थी। मेरी माँ भी अब मुझसे घर के कामो में व्यस्त रखने लगी थी।
    मैंने अपनी मां और दोस्तो को तो परेशान भी नहीं किया था। फिर भी ना जाने क्यों सब मुझसे दूर रहने लगे थे। मेरी मां मुझे अब मुझे कम बात करना सिखाने लगी थी , पर इस सबके बीच मेरे पापा ने मेरी मा और समाज से लड़ कर मेरा दाखिला एक बार फिर स्कूल में करा दिया था।
    नहीं ऐसा नहीं था कि मेरी माँ मुझसे प्यार नहीं करती हैं, पर वो थोड़ा डरती थी समाज से,ना जाने किस बात का डर था उन्हें।

    मै अब 12 साल की हो गई थी। मै अब कक्षा 7 में पढ़ रही थी। थोड़ी थोड़ी समझ भी मुझे आने लगी थी। मै चीज़ों को समझने लगी थी। लेकिन मेरे साथ जो पिछ्ले 2 सालो से चला आ रहा था, उसे मै अब तब नहीं समझ पाई थी। क्योंकि शायद किसी ने मुझे उस बारे में बताने, उस बारे में मेरी समझ खोलने से जायदा मुझे नज़रबंद करना सही समझा था।
    खैर, एक बार फिर मै अपने सपने बुनने लगी थी। अब वो पिछड़ा साल अब मेरी लिए कोई कहानी सी बनने लगा था। मुझे डाक्टर बनना था। और मै उसी सपने को बुना करती थी। लेकिन मेरी माँ ये सब समझाती ही नहीं थी। उन्हें बस मुझसे रोटियां बनवानी थी। अब सब कुछ ठीक हो गया था। लेकिन शायद मेरी किस्मत को मेरी खुशी मंजूर नहीं थीं।

    क्यों रुकना हैं, क्यों झुकना हैं,
    बेड़ियों को पार कर मुझे तो अपना आसमां भी खुद बनाना हैं,
    ज्वाला बन मुझे तो खुद में आग भी लगानी हैं और शीतल जल बन मुझे जिंदगी में ढहराव भी खुद ही लाना हैं।

    To Be Continued....������

    Read More

    PART- 2

    // I will keep updating all the information related to the story in my bio. //

  • ravinderkandari 1d

    ❤ ज़ालिम ऐ ज़िन्दगी ❤️
    .
    .
    Thank you for reading ��

    Share, Like and comment if you like this ✌✌
    __________________________________________
    Follow @ravinderkandari for more writings
    __________________________________________
    .
    .

    #TBRFORLIFE #KARAV #VRAB ❣️

    Read More

    .

  • raman_writes 1d

    क्यों मेरा मन हर नई चीज़ से भर जाता है ?
    ________

    Follow for more amazing post..
    ________

    #follow #comment #share #like #tag
    ________

    Follow - @raman_writes
    Follow - @raman_writes
    Follow - @raman_writes
    Follow - @raman_writes
    Follow - @raman_writes
    ________

    Turn on the post notification
    ________

    Share and tag me
    ________

    Use - #raman_writes
    ________

    #shayari #shayri #hindipoem #hindi #poetic #poems #poem #poet #poetry #alone #writingcommunity #urdu #ghalib #rekhta #relatable #relationships #new #things #writer #write #old #quote #atheist

    Read More

    मोहब्बत

    अभी - अभी लिखना शुरू किया था और अभी - अभी मन भर गया ।

    और जो मोहब्बत है इतनी पुरानी उसे अभी भी करने को जी चाहता है ।।


    ©raman_writes

  • backbench 1d

    बड़ी मुद्दत्तों बाद आये हो मेरा हाल पूछने
    ठीक हूँ!कहे तो दिया यही सुन्ना था ना !!!!
    दहलीज़ कभी हाल नहीं बताती मकां की
    दरो दीवार से वाकिफ होना जरुरी होता है!!!
    #life #friendship #poetry

    Read More

    बड़ी मुद्दत्तों बाद आये हो मेरा हाल पूछने
    ठीक हूँ!कहे तो दिया यही सुन्ना था ना !!!!
    दहलीज़ कभी हाल नहीं बताती मकां की
    दरो दीवार से वाकिफ होना जरुरी होता है
    ©backbench