#Abhivyakti50

27 posts
  • rinki_writes 7w

    पहल

    खुशियां चाहता तो हर कोई है,
    चलो खुशियां बांटने की पहल करें,
    भूल गया है इंसान जिस इंसानियत को,
    हर कदम पर इंसानियत की चहल - पहल करें...

    चलो सब मिलकर खुशियां बांटने की पहल करें....

    ©rinki_writes

  • goldenwrites_jakir 7w

    Abhivyakti50

    अभिव्यक्ति पाठशाला में आप सभी का स्वागत दिल तहदिल से करता है --- आप सभी ने अपना कीमती समय देकर इस पहल को एक उम्मीद में बदल दिया ,, ये उपकार मेरे लिए अनमोल तोहफा आप सभी के प्यार का है जो हमेसा बना रहेगा ये दुआ करता हूँ ... और आगे इसी तरह राह दिखाकर इस समाज को खूबसूरत बनाने की पहल को आप सब आगे बढ़ाए रखेंगे .....
    #abhivyakti51 पाठशाला को आगे बढ़ाने के लिए @beautiful_feelings ko आमंत्रित करता हूँ
    उम्मीद आप सबसे यही है कल और हमेसा इस अभिव्यक्ति को आप लोग आगे बढ़ाते चलेंगे नय बिचार रचना से समाज कल्याण के लिए कलम की धारा को एक दिशा एक राह प्रदान करते रहोगे ...
    आप सभी का तहदिल से शुक्रिया


    ©goldenwrites_jakir

  • lazybongness 7w

    #Abhivyakti50 #Prayasss19
    @goldenwrites_jakir @misty_2004

    आज व्यस्तता के कारण कुछ लिख नहीं पा रही हूं ढंग से, बस दो - चार पंक्तियां ही सोच पाई। इसी कारण दोनों शीर्षकों को मिलाकर एक छोटी सी कोशिश की है।
    पहल मतलब शुरुआत , किसी भी बदलाव के लिए।
    ������


    किसी को तोड़कर नही,
    जोड़कर रिश्ते निभाते हैं।
    चलो मिलकर एक पहल करते हैं।
    किसी गरीब के घर में एक
    छोटी सी ज्योत जलाते हैं,
    आओ मिलकर हम पहल करते हैं।
    धर्मो को रंगों में नहीं,
    कर्मों से मिलकर सींचते है,
    चलो मिलकर एक पहल करते हैं।
    जाति भेद से ऊपर उठकर
    भारत की नई पहचान बनते हैं,
    आओ मिलकर हम पहल करते हैं।
    किसी के स्तर को पैसे से, ना नापकर
    उसके हृदय को समझते है,
    चलो मिलकर एक पहल करते हैं।
    सारी जिम्मेदारी सरकार पर ना उंडेलकर
    खुद से भी थोड़ा प्रयत्न करते हैं,
    आओ मिलकर हम पहल करते हैं।
    ©️ lazybongness

    Read More

    खुदगर्जी को छोड़ कर , मैं आशियाना बनाने चली हूं,,
    भरी दुनिया से अकेली ही, मुकाबला करने चली हूं!!
    ©lazybongness

  • _harsingar_ 7w

    उम्मीद बदलाव की
    #Abhivyakti50
    #Prayas20 @misty2004

    बदलना है दुनिया को गर
    शुरुआत तू खुद से कर

    सुबह जगाना है गर सबको को
    तो खुद पहले उठना होगा
    रौशन करना है गर पथ को
    मशाल तुम्हीं को बनना होगा

    नई पत्तियां लानी हैं यदि तो
    खुद पतझड़ बनना होगा
    मौसम बदला है, वो बदलेगा
    सावन तो इक दिन बरसेगा

    बदलाव कुदरत का है दस्तूर
    इससे कौन कब बचा है
    चट्टान भी बन जाती मिट्टी
    इक दिन हो कर चूर चूर

    याद करो वह भी इक दिन था
    हम सबके सब ही पराधीन थे
    आज़ादी के परवानों ने ऐसी अलख जगाई थी
    धीरे धीरे सभी जनों ने ली ऐसी अंगड़ाई थी
    गए फिरंगी आज़ाद हुए हम घर घर खुशियां अाई थीं

    फिर रूढ़िवादियों से देश घिरा था
    बाल विवाह और सती प्रथा का
    हर गांव शहर में कहर बड़ा था
    यदि बच गई कोई विधवा
    उसका जीवन श्राप तुल्य था

    राजा राम मोहन रॉय जैसे पुरुष थे तब
    इन कुप्रथाओं को दूर किया था
    सती प्रथा भी कहां रही अब
    कुछ पुरुषों में भी बसता रब

    नारी हैं हम जननी हैं
    हमको आगे बढ़ना है
    पुत्र अरू पुत्री में भेद न करना
    समान भाव अब रखना है
    नारी को सम्मान दिलाना
    हमसे ही वो सीखेंगे
    मां ही तो प्रथम शिक्षक है सबकी
    नींव हमीं को रखनी है।

    उम्मीद की किरण : > )

    स्थितियां काफी बदल गई हैं
    क्योंकि जननी जाग गई है
    सही गलत में भेद बताती
    फिर दुनिया से परिचय करवाती
    बालिका हो या फिर बालक
    भेद न करता आज का पालक

    कई बेड़ियां टूटी हैं
    आगे और भी टूटेंगी
    समय कभी वो भी आएगा
    मुरझाएगी नहीं कली जब
    परचम अपना वाह फहराएगी।

    डॉ सीमा अधिकारी

    #rajarammohanroy #socialreformer
    #childmarriage #traditionofsati #shackles
    #mirakee #mirakeepod #hindiwriteup #writersnetwork

    Read More

    उम्मीद बदलाव की

    ©_harsingar_

  • khayalaat_hamare 7w

    पहल

    सुनो चलो न एक नई पहल करते हैं
    बहू को बेटी की जगह देते हैं
    क्या हुआ जो उसे घर के काम नहीं आते
    चलो न उसकी माँ बन उसे सारे काम सिखाते हैं

    सुनो चलो न एक नई पहल करते हैं
    शादी में तो सभी तोहफे ले जाते हैं
    जब जाये कभी अस्पताल हम
    तो कुछ ही पैसे देके अपनो की मदद करते हैं

    सुनो चलो ना एक पहल करते है
    बहुत हो गयी जातिवाद और धर्म की लड़ाई
    चलो ना सारे भेद भाव दूर करते हैं
    और हम सब मिलकर आत्मनिर्भर भारत का निर्माण करते हैं

    सुनो चलो न एक पहल करते हैं
    अपनी बहन की रक्षा के लिये तो सब जिम्मेदार हैं
    चलो न दूसरे भाईयों की बहन को अपना माने
    और जरुरत आने पे एक बहन के पीछे सौ भाई खड़े रहें

    सुनो वो रास्ते में खुद को असुरक्षित पाती है
    चलो उसकी थोड़ी मदद करते हैं
    तुम लड़के हो न तुम्हे किस बात का डर
    चलो न रात बहुत हो जाये तो उस बहन को सुरक्षित घर छोड़ आते हैं

    सुनो चलो ना एक पहल करते हैं
    अगर किसी लड़की के साथ दुष्कर्म हो
    तो कसूरवार उसे ना समझे उसे नीचा ना दिखाएं
    अरे बहुत कुछ सहा था उस दिन उसने
    चलो न उसे फिर से पहले की तरह जीना सिखाते हैं

    चलो न एक नई पहल करते हैं
    और हर पहलू पर नया विचार करते हैं
    ©reenu312

  • maakinidhi 7w

    A big change requires bunches of small changes...if we can start it from today on individual level...we are no far from giving the world a right direction...so start it today because tomorrow is never promised����❤️❣️��������✌️����#abhivyakti50#prayasss19@goldenwrites_jakir

    Read More

    पहल/बदलाव

    पहल तो हमें करनी ही होगी!
    आज नहीं तो कल ही सही!
    पर सोच तो बदलनी ही होगी!

    रास्ते में छेड़खानी का शिकार होते किसी लड़की को देखकर!
    मुंह फेर लेते हो कि कौन सा हमारी बहन है,हम कर्मों बोलें?
    पहल करोगे जिस दिन हर लड़की में अपनी बहन को देखोगे!

    वृद्धाश्रमों में जो लोग होते हैं ना उनकी संतानें विदेश में हैं!
    क्यों ये संस्कार ये देश उनको‌ भाता नहीं है,क्यों है ऐसा?
    पहल करोगे जब अपनी संतानों को संस्कृति से जोड़ोगे!

    यूं तो बच्चों को हमारे, सुख और साधनों की कमी नहीं होने देते हम
    फिर क्यों यौवन की दहलीज पर कदम रखते ही कटने लगते हैं वो?
    पहल करोगे जब बचपन से ही प्रतिदिन कुछ समय उनको दोगे तुम


    सासों को बहुओं से शिकायत, बहुओं को है सासों से परेशानियां!
    कहने को तो मां और बेटी मान लिया है एक-दूसरे को,सच में क्या?
    पहल करेंगी जिस दिन निजी स्वार्थों को भूलकर अपनाएंगी दोनों!


    प्रेमिका को पत्नी तो बना लिया है सारी दुनिया से लड़कर तुमने!
    पर अब बात उसी के मन की समझना है तुम्हें मुश्किल बड़ा!
    पहल करोगे जब समझोगे कि विवाह विश्वास पर ही टिकता है!

    समाज में रोज होती दुर्घटनाओं पर व्यथित तो होते हैं रोज हम!
    किंतु क्या केवल अफसोस जताने से हो गई जिम्मेदारियां पूरी?
    पहल करोगे जिस दिन सामने होते अन्याय को रोकोगे तुम!
    पहल करोगे जिस दिन मूकदर्शक नहीं बन जाओगे तुम!

    ये पहलें बहुत जरुरी हैं हमें करनी क्योंकि दुनिया को रहने के लिए
    एक बेहतर जगह हमें ही तो बनाना है,नया सवेरा भी तो लाना है!

    कब तक उम्मीद करेंगे कि बदलाव की शुरुआत कोई दूसरा करेगा!
    यह पहल तो हमें खुद ही करनी होगी परिवार और समाज में!
    तभी किसी बेहतर विश्व की परिकल्पना सार्थक हो सकेगी!
    ©maakinidhi

  • misty_2004 7w

    एकबार फिरसे सुक्र गुज़ार हु @maakinidhi जी का की उन्होंने मुझे ये मौका दिया कि मैं #prayasss19 का संचालन कर सकू।
    आज का विषय,"उम्मीद बदलाव की"।
    मैं आप सबको इस विषय पर लिखने के लिए आमंत्रित करती हूँ। आशा है आप सब इसको सफल बनाने में योगदान देंगे।��

    आजकी #abhivyakti50 का विषय,"पहल"।
    ये विषय @goldenwrites_jakir जी द्वारा निर्धारित है।��

    कोई भूल-त्रुटी हो तो मुझे माफ़ कीजियेगा।

    Read More

    *उम्मीद बदलाव की*

    दुनिया की तौर-तरीकों से शिकायत तो सब करते हैं,
    क्यो ना हम आज उम्मीद करे एक बदलाव की।
    चलिए आज आत्मदर्शन करते हैं अपना,
    ढूंढते हैं खुद में छुपी प्रयास में कमियों की।

    बंद आँखों से थे जो सपने देखे,
    चलिए आज उन्हें खुली दृष्टि से देखे।
    आत्मनिर्भर होके चलिए आज
    किसी भटके मन को राह दिखाएं।

    क्यो ना शिक्षन दे आज एक ज़रूरतमंद को,
    उस सरकार के भरोसे ना बैठके,प्रचार करे अपने ज्ञान को।
    ना हो लोभ, ना ही हो लिप्सा।
    अगर होनी है तो, हो बदलाव की प्रतीक्षा।

    चलिए आज एक पौधे को एक ज़मीन का तौफा दे,
    इस धुंए से भरी दुनिया को खुलकर साँस लेने का मौका दे ।
    चलिए हटा देते हैं दूसरों से बदलाव की उपेक्षा,
    चलिए आज कदम बढ़कर करे धरती माँ की सुरक्षा।

    चलिए आज एक साथ धूप में काम करे,अमीर और गरीब,
    चलिए आज गले लगाके मुस्कुराये सीख-ईसाई-हिंदू-मुसलिम।
    एकता की बाती जलाये साथ होकर औरत और पुरुष ,
    समाज मे परिवर्तन के लिए लड़ते हैं चलिए, दिलों को रखकर तन्दरूस्त।

    आज विचार धारा बदलने का समय है आया,
    ना जाना हो बृद्धाश्रम कीसी माँ को,जिसने ज़िंदगी भर आग में लिपट के आपको खिलाया।
    आज हर बेटी पढ़ेगी-लिखेगी जाएगी स्कूल,
    कोई बेटा आज नही बनेगा बाल-मज़दूर।

    चलिए आगे बढ़े, पीछे छोड़के डर को,
    रक्त दान करते हैं, बिना सोचे उच्च-नीच जात-पात के बिषय को।
    चलिए सुने उन खिलखिलाति मुस्कानों के आवाज़ को भी,
    ये भी समझे चलिए, की सिख मिलती हैं छोटो से भी।

    चलिए आज अहंकार को सहनशीलता में बदले,
    चलिए दूसरों की सोच भी आगे बढ़ाएं, हर विचार को बढ़ावा दे।
    धरती घर हैं मेरा ,समाज मेरा कमरा हैं,
    इस सोच को लेकर आज हमे समय को बदलना हैं।

    चलिए आज अपना नज़रिया बदले,एक विधवा को भी दे रंगों की खुशहाली,
    चलिए आज एक दुनिया सजाये जहा हर सड़क फूलों से भरा बाग़ नज़र आये।
    चलिए आज हम सब करे एक सुरुवात नई,बदलाव लाये कुछ इस प्रकार,
    हमारी अगली पीढ़ी इस सोच की सराहना करे, हर रोज़ मने खुशियो का त्यौहार।

    ~स्वर्णाली
    ©misty_2004

  • sweta_singh99 7w

    पहल

    अभिव्यक्ति की 50 वी श्रृंखला का उत्साह मनाएं
    स्वतंत्र हम यहां अपने भावों के उल्लेखो की
    इस श्रृंखला को और आगे बढ़ाएं
    समाज के उत्थान में कुछ हिस्से हम भी बन जाएं
    नहीं पावंदी है किसी का
    कुछ ग़ज़ल गीत लिख जाएं
    साफ दर्पण चित्रांत करें
    सरल भाषा हिंदी का उत्थान करे
    एक अनोखा बंधन है यहां
    सब रिश्ता है अनमोल जहां
    ऐसे मंच का सदा गुणगान करें
    आज हम कल तुम नए विषय देकर
    अभिव्यक्ति के संचालन का शुभारंभ करें
    एक से एक बढ़कर दिग्गज हैं सब यहां
    ऐसा मंच मिलेगा हमें कहां
    भाई बंधु सब मिले यहां
    दिल की बात हम कहें जहां
    शब्दों को सजाया हमने
    एक दुसरे का हाल सुना हमने
    कोई सरल सहज उपाय बताएं
    दुविधा चुटकी में खत्म हो जाएं
    पढ़ कर मन मस्तिष्क दुरुस्त हो जाएं
    अभिव्यक्ति 50 वी श्रृंखला का उत्साह मनाएं
    ©sweta_singh99

  • piu_writes 7w

    छोटी छोटी बातों में खुशियां ढूंढने के करो पहल तो गम हो कम और जिंदगी हो जाये सफल
    ©piu_writes

  • neha_ek_leher 7w

    #abhivyakti50 #prayasss19
    आज की अभिव्यक्ति का शीर्षक कुछ अलग है और प्रयास श्रृंखला से जुड़ा शीर्षक है।
    खुद के द्वारा पहल किए बिना बदलाव की उम्मीद करना व्यर्थ है।
    पहले प्रयास करे खुद पहल करें तभी बदलाव की उम्मीद करें।

    ,@goldenwrites_jakir,@rnsharma65,@vipin_bahar,@lazybongness,@misty_2004

    Read More

    पहल

    खुद को खुद से बेहतर बनाने की
    हर दिन नई पहल करो
    जीवन की कठिनाई से लड़ने की
    हर दिन इक पहल करो
    ना हारो ना ही डरो
    खुद को मजबूत बनाने की
    खुद से ही शुरुवात करो।

    हो पहल इक ऐसी भी
    रहे संग अपने सभी
    हो पहल कल को अपने
    आज से बेहतर बनाने की
    पहल करो नारी को
    उसका सम्मान लौटाने की
    पहल हो इक राष्ट्र को
    फिर से महान बनाने की।

    पहल करे हम सभी आज
    मिलकर भेदभाव मिटाने की
    नही चाहिये कोई ऊंच नीच
    नही चाहिये कोई जाति पांति
    सभी धर्म रहे एक समान
    यही हो पहल का लक्ष्य महान।

    हो पहल हर दिन यही
    धरा को पुनः स्वर्ग बनाने की
    आओ मिलकर प्रण करें
    धरती हरियाली बनाने की।।
    ❤️❤️
    ©neha_ek_leher

  • cruxoflife 7w

    पहल/बदलाव

    दूसरों में बदलाव की उम्मीद करते, उनके कर्तव्य की याद दिलाते
    क्यों ना इस बार बदलाव की पहल हम खुद से करें।

    दूसरों के बिगड़ते रिश्तों विवादों पर नजर टिकाए बैठे हैं
    क्यों ना पहले घर में बिगड़ते रिश्तों को सुधारने की पहल की जाए।

    सरकार से अपनी मांगों को पूरी करने की आस लगाए बैठे रहते हैं
    क्यों ना इस बार खुद ही कुछ मांगों को पूरी करने की पहल की जाए।

    ©cruxoflife

  • dil_k_ahsaas 7w

    पहल

    समाज को सुधारने की जगह
    खुद में सुधार की पहल होनी चाहिए।

    दूसरों में गलतियां ढूंढने की जगह
    खुद की गलतियों को ढूंढने की पहल होनी चाहिए।

    दूसरों की नकारात्मक सोच को बदलने की जगह
    खुद में सकारात्मक सोच के संचार की पहल होनी चाहिए।

    औरों को ग़लत ठहराने की जगह
    खुद को भी ग़लत कहने की पहल होनी चाहिए।

    दूसरों को राक्षस प्रवृति का ठहराने की जगह
    खुद के अंदर के राक्षस को मारने की‌ पहल होनी चाहिए।

    यूं तो पहल करने के लिए है अनगिनत रास्ते
    खुद के लिए उन रास्तों को ढूंढने की पहल होनी चाहिए।

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • goldenwrites_jakir 7w

    .

  • rnsharma65 7w

    पहल

    आज होगी पढ़ाई की पहल
    सुनाकर एक मज़ेदार ग़ज़ल ।
    ©rnsharma65

  • beautiful_feelings 7w

    #abhivyakti50
    @goldenwrites_jakir ��

    #pahal #umeed

    ����������������

    Read More

    पहल

    ऐसी हमारी पहल हो

    कि खुद से या औरो से
    नहीं कोई छल हो

    उम्मीद जो जगाए मन में
    वो आज हो
    उसका नहीं कोई कल हो

    हो जो परेशानी कोई
    उसका उचित हल हो

    खुदा ऐसी आशीष देना
    सही दिशा में
    बुद्धि और बल हो

    करे जो मेहनत मन से
    उसका उचित फल हो

    दूसरों को दे खुशियां
    ऐसा हर पल हो

    ऐसी हमारी पहल हो

    ©beautiful_feelings

  • priya_sandilya 7w

    पहल

    मैं खुद पहल करूँ या उधर से हो इब्तिदा;

    बरसों गुज़र गए हैं यही सोचते हुए.....
    ©priyasandilya

  • prakhar_kushwaha_dear 7w

    "पहल"

    हालत-ए-मज़लूम हम ख़ुदा को रहे तकते,
    उसने निवाला खिला वाज़िब पहल कर दी।

    प्रखर कुशवाहा 'Dear'

  • dil_ke_alfajj 7w

    #abhivyakti50 @goldenwrites_jakir
    यह 'पहल' का संदेश उन इंसानों के लिये जो औरों पर बदलाव के लिये अपनी सोच थोपते है पर खुद को नही बदलते। कुछ त्रुटि हो तो क्षमा चाहते है।

    Read More

    सरकार कहती है कि 'स्वदेशी अपनाओ देश बचाओ'
    तो जनाब आप भी समर्थन में केवल नारे ना लगाओ
    पहले अपने घर में बसाया सारा विदेशी सामान तो हटाओ
    और जो बहिष्कार ना कर सको तो यूं तुम नारे ना लगाओ
    नारे हर किसी को लगाने है पर जरा 'पहल' करके तो दिखाओ
    लेकिन जो खुद न कर सको तो औरों को आईना ना दिखाओ
    MRJ
    ©dil_ke_alfajj

  • goldenwrites_jakir 7w

    पहल

    बस एक छोटी सी पहल
    फिर देखो आसमां पर जमीं

  • vipin_bahar 9w

    मेरी ये पहली पहल,पसन्द आएगी,
    मैं लिख रहा हूँ गजल,पसन्द आएगी,
    चंद शेरों में तुझे बांध दिया...
    मुझे इतनी सी हैं अक्ल,पसन्द आएगी,
    कला नही जानता लिखता हूँ...
    तुझे तेरे चेहरे कि नकल,पसन्द आएगी,
    न कोई शौक रहा,न नशा रहा...
    तुम्हे मुझमे ये हुई बदल,पसन्द आएगी,
    बंद कमरे में ही सुकून हैं अब...
    कहाँ मुझे ये चहल-पहल,पसन्द आएगी,
    कोई कुछ भी कहे मेरे "बहार"...
    जो गजल है सीधी-सरल,पसन्द आएगी,
    विपिन"बहार"
    ©
    ©vipin_bahar