#Maut

398 posts
  • xykon_noir 2d

    ज़माना ख़राब है

    देख कर मुझे दर्द में, तुम जो हंस पड़े हो xykon...
    "क्यों समझूं इंसान इसे, जब अपना नहीं तो है कौन?"
    यही सोचते हो अगर, तो सोच यह लाजवाब है...
    और तुम कहा करते हो, कि ज़माना ख़राब है!

    •••••••••••••••••••••••••••

    देख समृद्धि को जिसकी, हो तपन में गुम...
    हुए उसके संग बड़े हो खेल-पढ़ कर तुम...
    क्यों दुखी हो तुम, जो साथी क़ामयाब है!
    और तुम कहा करते हो, कि ज़माना ख़राब है!

    •••••••••••••••••••••••••••

    वो लड़की जिसके साथ, कल हो गई बदसलूकी,
    सब से कहा तुमने, "उसे न हिस थी आबरू की...
    बद्चलन है हर वो औरत, जो बेनक़ाब है!"
    और तुम कहा करते हो, कि ज़माना ख़राब है!

    •••••••••••••••••••••••••••

    कह "हरिजन" चल दिये थे, जिसकी तुम चौखट से,
    वो दिलाता मुक्ति सब को, काशी के पनघट पे...
    जाति, रंग, धर्मों का तुमने, अच्छा किया हिसाब है!
    और तुम कहा करते हो, कि ज़माना ख़राब है!

    •••••••••••••••••••••••••••

    घर जला कर आये हो, तुम जिस मुहाजिर का...
    रब तुम्हारा भी वही है, जो था काफ़िर का!
    माथे पर, न इक शिकन, न नयन में आब है!
    और तुम कहा करते हो, कि ज़माना ख़राब है!

    •••••••••••••••••••••••••••

    क्या कहोगे चित्रगुप्त से, न रहोगे जब?
    हैं फ़रिश्तों के ज़हन, करतब तुम्हारे सब...
    तुम को पर मालूम बेशक़, यह भी जवाब है!
    कह देना, "क्या करें, ज़माना ख़राब है!"

    ©xykon_noir

  • xykon_noir 4d

    मुनासिब यही है, कि मर जाऊँ मैं अभी...

    फ़ुरक़त-ए-ग़म में, जी पाते कहाँ सभी...

    मिट्टी से उठा कर ढांचा अपना, जियुंगा दो पल को!

    दो पल ही सही, क़ब्र पर मेरी, तुम आना कभी-कभी...

    ©xykon_noir

  • ynandini_ 1w

    Junoon

    Jismein har pal maut ka ehsaas ho
    Aur har maut mein ek nayi zindagi ho..
    Usey junoon kehte hai!!
    ©ynandini_

  • ynandini_ 1w

    Pyar ki hadd

    pyaar ki hadd pta hai kya hoti hai..
    Jab mile to kashish..
    Kashish jo bandhan bn jata hai..
    Bandhan jo ishq ka rang leta hai..
    Ishq jo bharose pe tika hai..
    Aur bharosa jo ibadat se bhi badhkar hai.. Aur junoon jo maut tak pohcha deta hai..
    ©ynandini_

  • pyaar_hua_hai_tumse 2w

    मौत वो मंज़िल है,
    जहां ना चाहते हुए भी हमें एक दिन पहुंचना पड़ता है।
    (Meenu)
    Ig:- @ursmeenu
    ©pyaar_hua_hai_tumse

  • _direct2heart_ 2w

    Word Prompt:

    Write a 10 word micro-tale on Confusing

    #wordbattle #secondqoute #secondpost #maut #jaam #ishq

    Read More

    मौत

    मेरी मौत पर एक काम करना,
    अपनी एक शाम खराब करना,
    लेकर अपने हाथों में एक जाम ,
    उस शाम को मेरी मौत के नाम करना ।

    ©_direct2heart_

  • dil_k_ahsaas 4w

    मौत बांहे फैलाए जिंदगी को नए सपने दिखा कर लुभा रही है
    जर्जर शरीर के बदले में जवां शरीर के वादों से फुसला रही हैं।।

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • shushhh_writer 8w

    बेवजह क्यों उस नन्ही बच्ची को मौत के घाट उतार दिया? #sawaal #anjaana #maut #writeups #writingskills

    Read More

    सजा-ए-मौत।

    क्या कोई मुझे इस बात को समझा पायेगा
    के क्या गलती थी उस नादान बच्ची की,
    जिसे कुछ क्रूर लोगों ने
    सजा-ए-मौत सुना दी?
    ©shushhh_writer

  • princehamdard 8w

    रौशनी

    यह सांस जो चल रही हैं तो सब जगह है रौशनी
    और अगर यह रुक गयी है तो वीरान शहर है

    ©princehamdard

  • princehamdard 9w

    कोहराम

    फिरते है दर बदर यूं कोई पूछता नही हमदर्द
    और जो ही मर गए तो कोहराम मचा दे

    ©princehamdard

  • shaz03 9w

    Jabse uski mohabbat ne maut ko gale lagaya hai, use maut se mohabbat hogyi hai...
    ©sh_z_y

  • princehamdard 10w

    कफ़न

    कफ़न ओढ़ लेने दे हमदर्द इस खामोशी से
    नही तो यह दुनिया सुकू से मरने भी नही देगी

    ©princehamdard

  • springblossoms 10w

    Sab apni muskan ke piche apna hi lash chupa ke chal rahe hai

    #dard #pyar #maut #lash #muskan

    Read More

    Sach toh ye hai pyar ke
    Nam pe maut deke jate hai sab
    Warna itni lashe nahi hoti
    Wo juthi muskan ke piche.
    ©springblossoms

  • hamu_ansari 11w

    ज़िंदगी और मौत

    किसी ख़ुश्की पर रहो या किसी समुंदर में
    एक दिन तुम इसी मिट्टी में मिल जाओगे
    अभी ज़िंदा हो भूले हुए हो रब को तुम
    बाद मरने के तुम निजात कहां पाओगे
    ©hamu_ansari

  • mujahid_awfully_awkward 11w

    Maut

    Kya sach mein maut muqarrar hai?
    Hai to phir kyu uski fikr mein roz marte hai kuch log?
    ©mujahid_awfully_awkward

  • tejasvianant 12w

    मौत आती मुझे अगर बता कर
    मैं उसे चूम कर गले लगा लेता
    कितनी इंतज़ार के बाद आयी हो
    जो कसता उसे बाहों में उसके होश उड़ा देता
    ©tejasvianant

  • mayank_333 12w



    कभी किसी ने इसे बड़े करीब से देखा है
    तो किसी के लिए ये एक हवा का झोंका है

    इसका ना किसी को संदेशा है
    इसका ना किसी को अंदेशा है

    इसका ना कोई बाप है ना बेटा है
    इसने फिर भी सबका दर्द समेटा है

    कोई इसे याद करने से भी डरता है
    कोई इसे सच समझ कर हंसता है

    किसी के लिए ये एक धोखा है तो
    किसी ने इस पर सारा दम झोका है

    किसी का दर्द इस पे जाया है
    तो किसी के लिए राहत की छाया है

    इस पर वश किसी ने नहीं पाया है
    ये मौत है जनाब इसने सबको बुलाया है
    ©mayank_333

  • nafrat 14w

    फ़ायदा...

    पहले ज़िंदगी छीन ली मुझसे,
    अब वो मेरी मौत का भी फ़ायदा उठाती है,
    मेरी क़बर पे फूल चढाने के बहाने,
    वो किसी और से मिलने आती है..!

  • preranarathi 14w

    मौत का धंधा

    जब मौत को गले लगाया,
    तब दुनिया का एक और सच सामने आया।
    सुना था, मरने के बाद सारी परेशानियाँ खत्म हो जाती हैं,
    सुकून होता है और रुह को जन्नत मिल जाती हैं।
    मैं भी चढ़ा था उस खुदा के घर की सीढ़ियाँ,
    पर न आया वो बाहर, न खोली उसने खिडकियाँ।
    फिर कही से एक आवाज़ आई-
    तु तो मर कर भी नहीं मर पाया,
    इस दुनिया ने तुझ पर मुकदमा हैं चलाया।
    जा पहले उन से अर्जी लेकर आ,
    इस दुनिया से मुक्ती लेकर आ।

    तुझे अपने घर में पनाह नहीं देनी तो मत दे, नाटक क्यों करता है,
    जिन्होंने मेरी मौत का षड़यंत्र रचा, उन्हीं से भीख माँगने को कहता है।
    क्या फर्क पडता हैं, मैने खुदखुशी कि या उन्होनें मुझे मार डाला,
    दोनों ही तस्वीरो में, कीचड़ मुझ पर ही तो उछाला।
    मेरे शरीर को कभी नहीं अपनाया,
    और आज मेरी रूह पर भी है दाग लगाया।
    और तु कहता है कि इन फर्जी लोगों कि अर्जी लेकर आऊ,
    मुकदमा जो चलाया इन्होनें मुझ पर, उसमें बेकसूर साबित होकर आऊ।
    ओ मेरे खुदा, तु कितना भोला है, जाकर नीचे तो देख,
    नरक से भी बत्तर सर्वग, इंसान ने खोला हैं।
    पर तुझसे क्या शिकायत करू, तु तो अपना काम कर रहा है,
    जन्नत मिले उसी को, जो बेगुनाह है।
    बर्बाद तो मुझे तेरी बनाई दुनिया ने कर दिया,
    छीन ली मेरे पैरों से जमींन, अब आसमान भी ले लिया।
    पर अगर तु चहाता हैं, तो थोड़ा और भटक लूगाँ, थोड़ा और तड़प लूगाँ,
    जब तक बेगुनाह साबित नहीं हो जाता, बर्बादी का दर्द थोड़ा और सह लूगाँ।
    पर तुझसे एक वादा मैं लेना चहाता हुँ,
    होगा इस मुकदमे का अंत, बस इतना यकीन दिला दे तू।
    क्योंकि मुझे इस दुनिया पर पूरा भरोसा है, ये मुझे कभी रिहा नहीं होने देगें,
    मेरी मौत को धंधा बनाकर हर रोज बाजार में बेंचेगे।

    - प्रेरणा राठी
    ©preranarathi

  • muska_ein_alfaaz 57w

    "Haal-e-dil"

    Zindagi, Zaleem hai !
    Khushi, Bewafa hai !
    Waqt, Bura hai !
    Naseeb, Ruthi hai !
    Mohabbat, Badnam hai !
    Raastein, Anjaan hai !
    Manzil, Lapata hai !
    Bharosa, Tuta hai !
    Dil, Sachcha hai !
    Dard, Sukun hai !
    Maut, Khwaish hai !

    ©muska_ein_alfaaz