#hindiwritersnetwork

646 posts
  • dil_k_ahsaas 4d

    #writersnetwork #writerstolli #mirakee #mirakeeworld #readwriteunite #hindiwrites #hindinetwork #hindiwritersnetwork
    @odysseus @trickypost @zacksparrow @malay_28 @jiya_khan

    #death # beauty #final_destination #nature #love #life #reality #birth #journey

    मौत : मन का पहला डर
    मौत : यही है अंतिम सत्य

    जन्म : जिंदगी के सफर की शुरुआत
    मौत : जिंदगी के सफर का अंत

    मौत : आज तक किसी मुर्दे ने उठ कर नहीं कहा कि ये बहुत खूबसूरत बला हैं
    मौत : जिंदा इंसानों से अक्सर सुना कि ये सुकून भरी होती हैं

    Read More

    मौत ....इक हसीन छलावा

    मौत तो है धड़कनों कि दिवानी,
    उसे भी दिल धड़कता ही चाहिए,

    मरे हुए को क्या मारेगी,
    उसे तो जिन्दा इंसान चाहिए,

    पहले उसकी इच्छा शक्ति हर लेगी,
    फिर अपनी ओर आकर्षित करेंगी,

    इन्सान कुछ समझ नहीं पाएगा,
    एक हसीन छलावे की ओर कदम बढ़ाता जाएगा,

    ऐसा क्या है इस के इश्क में,
    कि हर कोई सुध-बुध गंवाए है,

    इसका रंग रूप कुछ ऐसा है,
    जो देखे वो इसके मोहजाल में फंस जाए है,

    इक बार जो पकड़े हाथ इसका,
    फिर कभी दगा ना कर पाए है।

    इक दिन सारे रिश्ते नाते तोड कर,
    इस संग अटूट संबंध बनाकर सबको छोड़ चला जाएं है।

    ऐ मौत तू है इक ऐसी पहेली,
    जिसे कोई नहीं सुलझा पाए हैं।

    ऐ मौत तू है बला की खूबसूरत,
    जिसे ज़िन्दा लोग ही बताए हैं।

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 5d

    चारों तरफ प्रकृति का बिखरा हुआ बेपनाह हुस्न
    और बीच में खड़ा इक तन्हा अकेला मक़ान

    समेटे हुए है क‌ई राज़, अनगिनत एहसास
    सब कुछ दबा है इक धूल की परत के नीचे

    सदियों से पड़ा खाली मकान अब ढूंढता है
    अपने अंदर रहने वालों के निशान

    कर रहा इंतज़ार कभी तो कोई भूले-भटके आ निकले इधर भी
    हैं इंतज़ार कि फिर से कोई किलकारी गूंजें और तन्हाइयों से मिले निजात

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 5d

    @jiya_khan @vandi123 @malay_28 @trickypost @odysseus
    #mirakee #writersnetwork #writerstolli #hindiwrites #hindiwritersnetwork #readwriteunite

    #unknown_faces #love #soulmates #life #zindagi #connection #telepathy #fear #depth #poetry #passion #attraction

    कभी-कभी कुछ अनजान लोग जिंदगी में यूं शामिल हो जाते हैं जैसे सदियों से कोई पुराना रिश्ता है। कभी-कभी दिल एक ही झलक में किसी और का हो जाता हैं।

    और अगर वही अनजान व्यक्ति एक दिन‌ अचानक खुद ही दोस्ती का हाथ आपकी तरफ बढ़ा दें तो लगता हैं जैसे Telepathy हो हमारे बीच । हम ने उसके बारे में सोचा और देखो उसे पता चल गया ।

    सच्ची अगर ऐसा होता है तो आश्चर्य तो होता है पर साथ साथ खुशी भी मिलती हैं

    ��������������

    Read More

    मेरा और उसका रिश्ता, ना जाने कैसे बन गया
    देखा था उसे इक तस्वीर में और दिल में वो बस गया

    ना जान ना पहचान, बस कहीं किसी तस्वीर में देखा था इक नज़र
    शायद खुदा ने मोहब्बत की नींव का पत्थर, तस्वीर बना रखा मेरे दिल पर

    फिर ना जाने कैसे और क्या हुआ, इक दिन दोस्ती का हाथ उसका अपनी तरफ बढ़ता दिखाई दिया
    मन झूम गया और थाम लिया, इस तरह वो जिंदगी में शामिल हुआ

    धीरे धीरे बातों का दौर बढ़ा, उसे मुझ से मोहब्बत हैं जान कर अच्छा लगा
    वो मेरे दिल की हर धड़कन में, कब्ज़ा ना जाने कैसे कर रहा

    दिल की गहराइयों में उतर कर, मुझे बेचैन करता है बड़ा
    ना जाने क्या होने लगा हैं, मोहब्बत से जितना दूर भागती हूं

    वो उतना ही मुझे खींचता है, मोहब्बत कि गलियों में
    जानती हूं मेरा नहीं है, पर सोचती हूं तो सिर्फ मेरा हैं किसी और का नहीं

    हां मोहब्बत हैं मुझे उससे, पर शायद कहीं मुझे अपना बनाने को
    और गहरा उतरना होगा उसे मेरे दिल में

    शायद इतनी बेइंतहा मोहब्बत के बाद भी इक डर सा है दिल में मेरे
    वो डर उसे दूर कर मेरे दिल में मोहब्बत बन खुद बैठना होगा

    वो मेरी जिंदगी बनता जा रहा हैं धीरे धीरे
    हां बेइंतहा मोहब्बत हैं मुझे उससे

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • kewalsingh 2w

    हलचल

    रातें जब सोती हैं..!!
    एक आँसू जगता है..!!
    देखता है इधर-उधर..!!
    एक ख्याब सजाता है..!!
    बन परिंदा स्वच्छद ..!!
    सपनों की उड़ान भरता है..!!
    बादलों की बूंदों से मिल..!!
    एक से दो से तीन..!!
    फिर आसमां में छा जाता है..!!
    फिर कोई 'हलचल' यादों से..!!
    गले मिलती है..!!
    फिर वो बहुत बरसता है..!!

  • dil_k_ahsaas 3w

    शायरी

    मैंने भी ‌शायरी करना सीख लिया,
    मन की अनकही बातों को,
    शब्दों में पिरोना सीख लिया,
    शायरी तो है बस शब्दों का खेल,
    जो दिल में उतर जाते हैं अक्सर,
    कुछ शब्द दिल को करते हैं गमगीन,
    तो कुछ खुशियों की लहर बनते हैं,
    कुछ हकीकत बयां करते है,
    तो कुछ ख्वाबों की दुनिया सजाते हैं,
    कहते हैं हर शायर का दिल टूटा होता है,
    उसके अन्दर इक राज़ गहरा होता है,
    उसकी कलम में स्याही की जगह दर्द होता है,
    जिससे वो अपने ग़म को शब्दों में ढालता है,
    लिखता है वो हरपल दर्द अपना,
    और पढ़ने वाला " वाह-वाह " है करता,
    क्या हम सब में संवेदना मर गई हैं,
    जो दर्द पर किसी के,
    " आह " की जगह " वाह " कहते हैं।
    शायर भी इक " वाह " का " प्यासा "
    सुनते ही सब दर्द भूल है जाता,
    " आह " की जगह " वाह " का " लुत्फ " है ‌उठाता,
    शायरी भी इक नशा है,
    जो शायद मुझको भी होने लगा है,
    मेरे अन्दर भी शायरी का कीड़ा है कुलबुलाता,
    और शब्दों के इस खेल में मुझको है उलझाता।।

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 3w

    चलों भाई तैयार हूं Photo session के लिए
    इससे ज्यादा अकड़ दिखाने के लिए फूला तो फट जाऊंगा

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 5w

    जख्म़

    मेरी कलम से ....... दिल के एहसास

    " जख्म़ "

    जख्म़ हूं क्या मुझ में झांक कर नहीं देखोगे गहराइयों को मेरी
    अरे इक बार झांको तो सही ।

    देखो तो सही कितनी गहराई में जड़ें फैलती हैं किसीके जिस्म में मेरी
    तुम तो बिना सोचे समझे ही मुझे किसी को भी दे जाते हों ।

    वादा हैं इक बार देखोगे तो डूब जाओगे
    तर नहीं पाओगे, बस अंदर ही अंदर धसते जाओगे ।

    मैं वो दलदल हूं जो अच्छे भले को भी अपने में समा
    जिंदगी से विमुख कर तन्हाइयों का साथी बना देता हूं।

    ना-ना खून नहीं रिसता इन ज़ख्मों से
    मैं तो मुझमें झांकने वाले का भी खून जमा दूं ।

    क्यूं मुझमें झांकने से डरते हो तुम
    जब किसी को देने से डरते नहीं मुझे तुम ।

    कितना आसान होता है ना किसी को भी मुझे देना
    फिर खुद मुझे झेलने से क्यूं डरते हो ।

    जख्म हूं फिर भी नहीं चाहता किसी को भी परेशान करूं
    जबकि फितरत मेरी जिसे भी मिलूं उसकी ही जिंदगी तार - तार करूं ।

    दिल के एहसास। रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 6w

    रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 6w

    रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 6w

    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 6w

    दीवारें

    कमरें की दीवारें रोज़ मुझे देखती है
    वो ज्यादा बेबस है यां मैं हूं ये सोचती है
    अक्सर अपने ऊपर लगे निशान देखतीं हैं
    उस पर घाव ज्यादा है यां मुझ पर , ढूंढती है
    उसका अकेलापन और मेरी तनहाई एक ही हैं
    दोनों अकेले अपनी अपनी जगह स्थिर है
    ना वो हिलती है ना मुझे दर्द में हिलता देखती हैं

    रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • hindikavita 6w

    माना कि सर टूटा है
    पत्थर से मेरा भिड़कर
    माना घूटना भी फूटा है
    राहों पर मेरा घिसकर
    लो मान लिया उड़ा गयी तूफ़ाँ
    स्वाभिमान को झोंकों में
    और छोड़ गयी मुझको रहने
    इन आलापों में शोंकों में

    पर याद रखो यूँ गिर गिर कर
    जब इक बार खड़ा हो जाऊँगा
    है सीने में जो आग दफ़न
    मैं वो तुमको दिखलाऊँगा
    जो लिख सके मेरी क़िस्मत
    ऐसा अभी महंत नहीं
    चाहे सौ बार गिरा लो तुम
    गिर जाना मेरा अन्त नहीं
    चाहे सौ बार गिरा लो तुम
    गिर जाना मेरा अन्त नही
    ©hindikavita

  • dil_k_ahsaas 6w

    तेरा साथ

    इक तेरा साथ हो
    हाथों में हाथ हों
    समन्दर का किनारा
    लहरों का साथ हो

    और

    पैरों तले गीली रेत हो
    तेरे कदमों के निशान पर
    मेरे कदम के निशान हो
    लहरों का इक रेला आए

    और

    उन्हें बहा ले जाएं
    अपने विशाल हृदय में
    हमारे निशान समा कर
    हमारे प्रेम को अमर कर जाए।

    रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • hindikavita 6w

    छोड़ दे सारी दुनिया किसी के लिए
    ये मुनासिब नहीं आदमी के लिए
    चाँद मिलता नहीं सबको सँसार में
    है दिया ही बहुत रोशनी के लिए

  • dil_k_ahsaas 6w

    मेरी कलम ✍️ से ...... दिल के एहसास

    दिल की गलियां

    जिस्म जिस दिन जलेगा, दिल भी संग जल जाएगा
    सोचता हूं कई बार इसमें रहने वाला किधर जाएगा

    अभी तो जिंदा हूं तो दिल की गलियों में बसेरा है उसका
    गर मर गया तो बसेरा उसका उजड़ जाएगा

    रेखा खन्ना


    #mirakee #hindiwriters #writersnetwork #writerstolli #readwriteunite #saifwrites #sanawrites #atticoftheheart #thoughtfull_writer #hindiwritersnetwork

    Read More

    दिल की गलियां

    जिस्म जिस दिन जलेगा, दिल भी संग जल जाएगा
    सोचता हूं कई बार इसमें रहने वाला किधर जाएगा

    अभी तो जिंदा हूं तो दिल की गलियों में बसेरा है उसका
    गर मर गया तो बसेरा उसका उजड़ जाएगा

    रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 6w

    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 6w

    हादसे

    हादसे यूं ही नहीं होते हैं जिंदगी में
    हमारी गलतियों की रफ्तार देखकर
    हादसे हमें सोच समझ कर चुनते हैं
    हम अनजाने में हामी भर हादसों को अनुमति देते हैं


    रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 6w

    सुकून और जाम

    जज्बातों ने मेरा सुकून हराम किया
    दिल भी वहां लगा जिसने मेरा रूख मयखाने को किया
    जाम में भी दिखती हैं तस्वीर उस संगदिल की
    जिसको भुलाने को जाम पे जाम पिया

    रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 6w

    दिल में खारापन जब भर जाता हैं फिर धीरे-धीरे दिल की दीवारों पर इक काला रंग चढ़ता जाता हैं। जैसे काई सी जमती जा रही हैं । शक्ल और सूरत भी फिर चमक खोती चली जाती हैं।

    खारापन भी ऐसा जो दिल की जमीं को धीरे धीरे बंजर बनाता जाता हैं। जहां फिर से विश्वास और मोहब्बत के बीज नहीं पनपते। पनपता हैं तो सिर्फ उदासियों और निराशाओं को पौधा जो बीते वक्त के साथ मजबूत जड़ों का पेड़ बन जाता हैं।

    #writerstolli #hindinetwork #odysseus #thoughtfull_writer #unspokengirl #hindiwritersnetwork #vishalkr #saifwrites #atticoftheheart #hidden_emotions #soulfulstirrings

    Read More

    दिल का खारापन

    दिल में जब खारापन भर जाता हैं
    हर जख्म पर नमक चुभता नज़र आता हैं

    कभी-कभी कुरेद-कुरेद कर देखती हूं मैं
    अभी भरने में और कितना वक्त बाकी हैं

    जो दिल की गहराइयों में बसता था कभी
    क्यूं अब वो अनजान नज़र आता हैं

    बेरूख़ी की इंतेहा तो देखो
    अब पहचानने में भी वक्त लगाता हैं

    जिस्मानी नजदिकियो को मोहब्बत कहने वाला
    पूछता हैं ये रूहानी प्यार क्या होता हैं

    मन खुद को ही धिक्कारता हैं अपनी ही पसंद पर
    दिल में फिर खारापन भर जाता हैं

    जो भी हाथ लगाने की कोशिश करेगा
    मेरे अंदर का खारापन तेजाब बन उसे जला देगा

    खुद को खुद में ही समेट कर यूं महफूज कर लेती हूं
    जैसे इक कवच खारेपन का हर पल ओढ़े हुए हूं

    जिसे भेद कोई मुझ तक पहुंच नहीं सकता
    कुछ यूं अपनी तल्ख़ियों के संग जी लेती हूं

    रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas

  • dil_k_ahsaas 6w

    तजुर्बा

    अक्सर दिल की बातें यूं ही लिख जाती हूं
    दुनिया के दिए तजुर्बों को शायरी में कह जाती हूं
    कड़वाहट भरी सच्चाई को खूबसूरत जामा पहनाती हूं
    पढ़ने वाला सिर्फ अक्षर ही हैं पढ़ता
    और एहसासों से कोसों दूर ही हैं रहता।

    रेखा खन्ना
    ©dil_k_ahsaas