#janmashtmi

25 posts
  • prakhar_kushwaha_dear 7w

    'जय श्री कृष्णा'

    छनकावत पैजनियां लट माथे पे डाल,
    सखि नैनन तीर बचावें पलकों की ढाल।

    कमर करधनी, हाँथ दूधियाँ रहि-रहि ख़ूब लजावें,
    बन मुख चंदा चमके ज्यों, धूमिल पड़ि-पड़ि जावें।

    मुख मक्खन सौंदर्य गढ़े, मोर पंख रति लावे,
    मुरली धुन माधुर्य चढ़े, झूमि-झूमि खग गावें।

    करि कोलाहल करतब साजे, बतियाँ भयीं चितचोर,
    ख़ूब रिझावत ग्वाला-गइयाँ, छलिया नंद किशोर।

    ध्यान धरे कर जोरि पड़ा मैं सेवक तेरे द्वार,
    सुधि सन्तन-भक्तन की राख्यो अलबेली सरकार।

    प्रखर कुशवाहा 'Dear'

  • jigna___ 7w

    #janmashtmi #badhaii ��������❤️❤️

    Read More

    गवाक्ष द्वारिका नगरी के एक कक्ष का, कक्ष महारानी रुकमिणी का, नेपथ्य में मोर गहक रहा है, मंच पे कृष्ण एवं रुकमिणी शोभायमान है, कृष्ण रुकमिणी के बालों को सहला रहे है.....,

    रुकमिणी:-
    एक बात बताओ हरि,
    तुम व्यक्ति बड़े विशेष,
    जो हस्त परास्त करे अरि,
    सहजता से सजाते केश?



    कृष्ण मंद मुस्कुराकर बोले:-
    सुनो मेरी हृदयप्रिया,
    प्रेम के सारे रूप,
    प्रेम स्वरूप बदल दे,
    सुंदर बने है कुरूप।

    रुकमिणी थोड़ा मुँह फुलाकर बोली:-
    एक बात बताओ मनमोहना,
    तुम बात बदल क्यों देते,
    मैं प्रश्न पूछूँ कोई अलग,
    तुम उत्तर और ही देते।

    कृष्ण मनुहार करते:-
    सुनो मेरी प्राणप्रिया,
    जो तुम ना समझो तो कौन?
    प्रश्न सहस्र हो या अधिक,
    मेरा उत्तर सदैव एक है न?

    रुकमिणी असहजता से:-
    मैं लक्ष्मी हूँ चंचला,
    स्थिरता की याचक,
    सरल उत्तर दो प्रभु,
    परम ज्ञान की याचक।

    कृष्ण सहसा खड़े हो अलौकिक आभा लिए:-
    मैं ज्ञान का सार, मैं सीधा सा ग्वाला,
    मैं विराट विश्व रूप, मैं प्यारा सा बाला,
    रुकमिणी का हृदय मैं, सत्यभामा का श्वास,
    अर्जुन का परम सखा ना करता हूँ परिहास,
    कुरुक्षेत्र में खोजोगे, मिलूँगा बन के काल,
    मथुरा या द्वारिका में क्षत्रिय और प्रतिपाल,
    मीरा सा समर्पण दोगे मैं प्रदान करूँ मुक्ति,
    राधा सा आत्मस्थ करो, बस सहेजो भक्ति,
    परम योद्धा को प्राप्य नहीं, गोपी की गाली खा लूँ,
    ईश्वर हूँ अपितु प्रिये भक्ति में परम सुख मैं पा लूँ,
    प्रेम हूँ, प्रेम दूँ, प्रेम लूँ,
    मिलता हूँ बस प्रेम में,
    व्रज की रज, द्रौपदी के वस्त्र, मोरपंख, मुरली ना कोई अस्त्र,
    जीवन सफल,
    बस एक तुलसी दल,
    जान लो यह रीत,
    कृष्ण बस परम प्रीत!!!!!

    कृष्णार्पणमस्तु, जन्माष्टमी की बधाइयाँ।

    Jignaa
    ©jignaa__

  • krati_sangeet_mandloi 7w

    #krati_mandloi #Repost #3sept_2018 #11thaug_2020 #janmashtmi

    ��������������������������������

    आप सभी को श्री कृष्णजन्माष्टमी के पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं����

    ��������������������������������

    Read More

    कान्हा से प्रीत

    कान्हा, तुमसे जो है प्रीत लगाई,
    मन ने है एक आस जगाई,
    कंठ को मेरे कर दो निर्मल,
    जिससे दूर हो सारी रुखाई।।१।।

    द्वेष और दोष से मुक्त कर दो,
    जिसने है तुमसे दूरी बढ़ाई,
    सामूहिक सागर में विलीन कर दो,
    जिससे दूर हो भ्रम की परछाई।।२।।

    प्रेम की परिभाषा हो तुम,
    जिसकी है अनंत गहराई,
    उस प्रेम के रंग में मुझे भी रंग दो,
    जिससे दूर हो ह्रदय पे जमी काई।।३।।

    हाँ, अज्ञानी हूँ मैं,
    नहीं है मेरे अंदर कोई चतुराई,
    वह ज्ञान भी कैसा,
    जिससे मैं तुम्हारी आवाज ना सुन पाई।।४।।

    मुक्त कर दो उन बंधनो से मुझे,
    जिससे करना पड़े मुझे तुमसे जुदाई,
    तुम्हारे बंधन में ही रखना सदा मुझे कान्हा,
    जिससे दूर हो मेरी सारी कठिनाई।।५।।

    ©Krati_Sangeet_Mandloi
    (3-09-2018)✍️
    (11-08-2020)

  • ishanvisingh 7w

    #janmashtmi#shriradhekrishna#krishna#radha
    देवकी सूत गोविंद बासुदेव ,देहिं तनयम
    कृष्णा त्वा महम, शरणमगतः।।����
    Happy janmashtami to all..
    माथे मोर मुकुट साजें
    अपनों गोबिंद पधारें
    द्वेत कहाँ कृष्ण-राधे ,
    एक दूजे में ऐसे समाए।
    राधा बनें श्याम सुंदर वस्त्र साजें।
    माथे बिंदी हाथे कंगन मनभावन लागें।
    निधिवन की मनहोर दृश्य देख ,पंछी भी गावें।
    राधा बिनु पलक झपकावे, श्री बृंदावन बिहारी को निहारें।
    अश्रु से प्रेम की धारा बहा रे,
    कहत मुख से धन्य हुए भाग हमारें।
    रूप श्लोना तेरा श्याम ,मोहे रोम-रोम में समाएं।
    राधा रानी के वश में हुए गिरधारी हमारें।।
    जयश्री कृष्ण -जय श्री राधे����

    Read More

    रूप श्लोना तेरा श्याम,मोहे रोम-रोम में समाएं।
    राधा रानी के वश में हुए गिरिधारी हमारें।।
    जयश्री कृष्ण-जयश्री राधे
    (Please read the caption)
    ©ishanvisingh

  • tenaciouswork 7w

    जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ
    #mirakee @mirakee @mirakeeworld #pod #kavita #hindi #pod #shayari #janmashtmi

    Read More

    श्रीकृष्ण

    श्रीकृष्ण ने सिखाया
    कर्म करो फल की चिंता मत करो
    सही का साथ दो, गलत के खिलाफ लड़ो
    जो जैसा कर्म करता है, वैसा फल पाता है
    इंद्रियों पर नियंत्रण रखो
    मन चंचल है, इसे काबू में रखो
    क्रोध विनाश का कारण है
    ©tenaciouswork

  • ariprakashyap 7w

    अगर बुरे लोग समझाने से समझ जाते, तो वो बांसुरी बजाने वाला कभी महाभारत होने ही नहीं देता|

    जय श्री कृष्णा❣️
    ©ariprakashyap

  • diksha_verma 50w

    किसने किसको देखा है,
    किसने किसको बाँधा।
    मीरा को ना कृष्ण मिले,
    ना पा सकी उन्हें राधा।

    ©diksha_verma

  • jignaa 57w

    #janmashtmi

    "मैं" की मटुकी फोड दे,

    जीवन में मक्खन, मिश्री घोल दे।

    कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाईयां।।

    jignaa
    ©jignaa

    Read More

    "मैं" की मटुकी फोड दे,

    जीवन में मक्खन, मिश्री घोल दे।

    कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाईयां।।

    jignaa
    ©jignaa

  • skd_says 57w

    ❤️krishna ❤️

    Happy birthday to the most ideal son and naughty brother..
    'krishna' an awesome friend and great lover..❤️
    ©skd_sensation

  • swapnilsinghparth 57w

    Happy Janmashtami

    Kanha ki Bansi or Radha ka pyar,
    sbhi Ko Mubarak ho
    Janmashtami ka tyohar.

    By -S.S.P
    ©swapnilsinghparth

  • rohitteotia_rt 57w

    ज्ञाता भी है, वो विधाता है
    बिगड़ी भी वो बनाता है
    उगते सूरज को डुबाता है
    हारते को वो जिताता है

    बंसी भी उसने बजायी है
    बिगुल भी रण का उसने फूंका
    चक्रधारी भी है, वो है ग्वाला
    जल भी है, वो है ज्वाला

    स्वरूप है वो सत्य का
    न्याय सदा उसने किया
    नाम है उसका सबसे बड़ा
    कहते हैं उसको गोविंदा

    @rohitteotia_rt

  • intoxicating_zinx_words 57w

    तुम माधव मैं मीरा हो जाऊँ

    कैसे करूँ विच्छेद
    इस सम्बध का!
    कैसे सामना करूँ
    इस प्रबन्ध का!
    तुममें ही अपना संसार देखा है।
    तुम्हारे दृग दीपों से
    रौशन ब्रह्माण्ड देखा है।
    कामना नहीं कि रुक्मिणी बनुँ
    राधा बनकर तुमसे प्रेम करूँ।
    बस तुम्हारे ध्यान में खो जाऊँ
    तुम माधव, मैं मीरा हो जाऊँ।

    -@शालिनी
    ©intoxicating_zinx_words

  • vinuspeaks 57w

    Janmashtmi

    Radha ko chhod wo gopiyo se milne jata hai,
    Mata yashoda ko chhod wo maakhan khane jata hai ....
    Mira ki chaah thi wo par rukmani ka ban aata hai ....
    To kyu na kahe mera KANHA natkhat ban jata hai !!!

    Hai apno se pyaar par mama KANS ko hara aata hai ....
    Kehne ko bhola par puri GITA keh jaata hai ....
    Aise to hai bhagwan par ARJUN ka saarthi ban jaata hai....
    To kyu na kahe mera KANHA natkhat ban jata hai !!!!


    ©vinuspeaks

  • vaibhavsaluja 57w

    तुम धुन मुरली सुन संग ग्वालिनें थिरक उठोगी प्रिय राधे
    जब यमुनातट से प्रेम आसक्ति का विश्व सन्देश जाएगा
    ©vaibhavsaluja

  • connecting_stories 57w

    बीत गयी उस सदी मे जो प्रेम तुमने नीभाया
    उसकी पूजा आज भी विश्वास से हो रही,
    तुम्हारे होने का तुम और क्या पैमान दोगे "कान्हा"।

    ©connecting_stories | Poorvi garg

  • nighttimestranger 57w

    Krishna

    नाम श्यामसुंदर था। उस बावले का जो रंगो का बेध-भाव मीटा गाया ...।
    नाम चीतचोर था । हमरे गवले का जो पूरि दुनीया को प्यार करना सिखा गया ।

    ©candyboy

  • krati_sangeet_mandloi 57w

    #krati_mandloi #23rdaug_2019 #yourquote #janmashtmi #hindiwriters #hindilekhan #hindikavyasangam @hindiwriters @hindilekh @hindilekhan @hindikavyasangam

    ��������������������������������

    आप सभी को श्री कृष्णजन्माष्टमी के पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं ��������

    ��������������������������������

    Read More

    कृष्णदासी

    दिल पर तारी प्रेम-खुमारी,
    तोरे रंग में रंग गई मैं तो,
    भूल गई दुनिया सारी,
    इधर उधर तुझको मैं ढूँढू,
    बनके जोगन थारी।

    जन्म-जन्म की दास हूँ थारी,
    सुन लो विनती म्हारी,
    तोरे बिन कैसे मैं जियूँ री,
    तू है दुनिया म्हारी।

    बंसी बजैया, मोरे प्यारे कन्हैया,
    पार कर दो मोरी नैया,
    तुम ही इसके खेवैया,
    रोम-रोम में भर दो मोरे,
    प्रेम के धुन की धारा,
    प्रेम की धुन पर छम-छम नाचूँ,
    बनके मोर मतवाला।

    हर लो हरि सब दुःख तुम मोरे,
    नयन भीगे अश्रु से मोरे,
    कोई ना जाने पीड़ा म्हारी,
    तोरे लिए मैं दुनिया से हारी।

    तुझ संग जो है प्रीत लगाई,
    तुझ संग खुद से मिल मैं आई,
    दुनिया क्या जाने पीड़ पराई,
    जब से हूँ तोरी शरण मैं आई,
    छोड़ आई दुनिया की सिखाई,
    कान्हा रखना हमेशा चरणों में थारे,
    तोरी कृपा परम सुखदाई।

    ©Krati_Mandloi✍️
    (23-08-2019)

  • khush4bharat 57w

    🌸जन्माष्टमी पर्व पर आप सभी को बधाई🌸
    🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳


    🌺श्रीकृष्ण का जन्मदिवस, उत्सव है चहुँ ओर🌺
    🌼इस खुशी में नाचें सब, नाच रहे हैं मोर🌼

    🌹🌹🌹🌹🌹चौपाई🌹🌹🌹🌹🌹🌹
    जन्म हुआ मथुरा में कान्हा। पहुँचा गोकुल नंद के धामा।
    बारह बजे रात अन्धेरी। बिजली चमके गगन घनेरी।
    कारागार के संकल टूटे। कंस के समझो भाग फूटे।
    पहरेदार भी कोई न जागा। वासुदेव कान्हा ले भागा।
    तेज वेग से बरखा बरसे। कृष्ण दर्श को यमुना तरसे।
    तारनहार अजब ये लीला। नजर न आये नभ भी नीला।
    जयजयजय श्रीकृष्ण मुरारी। हम सभी हैं तेरे पुजारी।
    कृपा सब पर करना सदा ही। धर्म कर्म पर चलें सदा ही।

    🌷श्रीकृष्ण मुख से बोले, मैं ही हूँ भगवान💐
    🌷जिसने भी संशय किया, मिला न मेरा धाम💐
    जयश्रीकृष्ण🌻🌻जयश्रीकृष्ण🌻🌻जयश्रीकृष्ण
    🥀🥀🥀🥀🥀
    महेन्द्र खुश मेरठी✍️
    लेखक-पटकथा,कहानी,गीत,कवि व हास्य-व्यंग्यकार।
    ©khush4bharat

  • abhi_mishra_ 57w

    आदिदेव यूँ ही नहीं महान हैं ��

    श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की आप सभी को शुभकामनाएं।

    #hindi #hindiwriters #abhimishra #janmashtmi

    Read More



    सखा भी हैं, हैं अनुज, मैया की वो जान हैं,
    परमावतार हैं, हैं श्रेष्ठ, रिश्तों की पहचान हैं।

    ©abhi_mishra_

  • agarwal_gaurav 108w

    प्यार के प्रकार

    प्यार को जाने दिया
    उस पगली ने प्यार में
    खो कर भी पा लिया कृष्ण को
    राधा ने संसार में

    एकतरफा प्यार मीरा का
    समर्पण इससे सीखें
    जहर प्याला पकड़ कर बोली
    यो खीर जैसा दिखे

    कृष्ण हुऐ हैं रुक्मणी के
    फिर भी कैसी बेबसी है
    पूजा हो रही कृष्ण की
    साथ में राधा प्रेयसी है

    ©agarwal_gaurav