#mirakeelife

416 posts
  • none_ever_thee 2d

    #धन
    #धूल
    #मृत्यु
    #घुन्न
    #lifelesson
    #व्यर्थ
    #mirakeeworld
    #mirakeenetwork
    #mirakeelife

    Read More

    "धूल है धन"

    धन-धन घूमें बवंडर बन,
    यूँ बन-बन धूल हो जैसा!
    धन-दौलत है घुन्न, जलता,
    जलाता हर घर हो जैसा!
    मृत्यु जनमती, अंकुर के संग।
    जीवित है जब तक जीवन कैसा!
    निष्क्रिय हो जाता जब जीवन,
    मृत्यु भी जी पाती न!
    ख़नक रही है सिक्कों की बोरी,
    क्या उम्र खरीद पाती ये!
    घर की खिड़कियों में उग रही है क़ाई,
    खड़खड़ाती तन्हा रूह,
    अकेला शरीर मात्र हाड़-मांस का।
    अपनों का साथ रहता तब तक,
    जब तक नोटों की बारिश होती।
    पाँव से मार कर लात,
    यूँ उड़ती है गगन में जैसे।
    लपटें उठीं हैं जलन की,
    मरभूमि में मृत्यु जागी है।
    अब नयन में उग गए हैं काँटें,
    नींद कहाँ, अब नीर हैं सूखे।
    जीवन जी-जी सोच रहा मन‌,
    न जाने कब मृत्यु हो!

    ©none_ever_thee

  • none_ever_thee 3d

    #दुनिया
    #झूठी
    #माया
    #चेहरे
    #mirakeeworld
    #mirakrenetwork
    #mirakeelife
    #lifelesson

    Read More

    *दुनिया*✍️

    कितनी झूठी है ये दुनिया,
    झूठी मोह-माया, झूठी क़वायतें हैं,
    न प्रेम सच्ची लगे, न रोष सच्ची है।
    सब नज़रों का धोका है,
    या झूठी काया है!!

    ©none_ever_thee

  • tehminbhat_ 1w

    Joray Aasmaan Pe Bante Hai
    Mera Wala Aasmaan Se Girra Aur Margaya
    Intiqaaaaal
    ©tehminbhat_

  • tehminbhat_ 1w

    I want to spend hours beside a rushing river, feeling the wind in my hair and listening to the secrets hidden in the waves
    ©tehminbhat_

  • none_ever_thee 2w

    #हद्
    #विस्तार
    #selfego
    #attitude
    #आन
    #अपने_बेगा़ने
    #आईना
    #जीवन
    #mirakeelife
    #lifelesson
    #समाज

    Read More

    "हद् - विस्तार"

    (मर्द जब कुछ न कर पाता, तो उसका सबसे बड़ा हथियार नारी के चरित्र पर वार करना है। चरित्र पर वार होता देख नारी के हृदय में असहनीय पीड़ा होती है। यह पीड़ा प्रसव पीड़ा से भी अधिक दयनीय होती है। ऐसा मेरा मानना है। नारी सब कुछ सहन कर सकती है, मगर, उसके चरित्र पर आक्रमण जब किया जाता है, वो भी उसके अपनों के द्वारा, तब वह बहुत आहत् होती है। पल भर में जैसे, हज़ार बानों ने उसके हृदय, मान-सम्मान, प्रतिष्ठा को एक साथ छितिर-बितिर कर दिए हों।

    एक ओर मर्द ख़ुद को गौरवांवित महसूस करता है कि, वह नारी को हराकर, बहुत बड़ी जीत हासिल की। यहीं पर वह सबसे बड़ा पाप कर‌ बैठता है। नारी का अपमान, मर्द के अस्तित्व का अपमान है। यह मर्द समझ नहीं पाया।

    आपकी माता, बहन, पत्नी, सभी आदरणीय हैं। दूसरों की माँ, बहनों के मान का क्या!!
    नारी भावनाओं में आकर, कुछ बातें कहे, तो नर रह रहकर उन्हीं बातों का बतंगड़ बना कर, अपना हथियार बनाकर चरित्र पर आक्रमण करने लगते हैं। ऐसी विचारधारा वालों के लिए मेरे पास कोई शब्द नहीं है। बेहतर है चुप रहा जाए।

    ऐसा कतई नहीं, कि, नारी जवाब नहीं दे सकती। मगर, पुरुष के पौरुषता नारी चरित्र पर ही क्यूँ आधारित है???
    "संस्कार भी बहुत मान्य है।" किसी भी नारी को वस्तु-विशिष्ठ समझना, उसके चरित्र पर बार-बार आक्रमण करना, यह आपके संस्कार और परवरिश को रूपित करता है। आपके घर में अगर आपकी माता, बहन से आपके बड़ों ने अगर ऐसा किया हो तो, यह उसके बाल-बच्चों में भी समानता देखी जाती है। फ़िर वह अपनी महिला मित्र, या पत्नी से भी वैसा ही व्यवहार करता देखा जाता है।

    बुराई को अच्छाई की ताक़त से ही हराया जा सकता है। न कि, और बुराई कर के। बुरा व्यवहार करना "आपके" चरित्र को दर्शाता है न कि, सामने वाले की। आपकी शक्ति किसी को शक्तिहीन करने से नहीं बल्कि, किसी निशक्त को शक्ति प्रदान करने से बढ़ती है।

    यही बात नारी पर भी निर्भर करती है। किसी एक को चुनना दूसरे के प्रति अन्याय को दर्शाता है। इसलिए एक-दूसरे के प्रति संवेदनशील रहें।"

    ©none_ever_thee

  • none_ever_thee 2w

    #हद्
    #selfego
    #attitude
    #आन
    #अपने_बेगा़ने
    #आईना
    #जीवन
    #mirakeelife
    #lifelesson
    #समाज

    Read More

    "हद् २"

    जब उसने ख़ुद को हारते देखा,
    शब्दों ने बांध तोड़ा,
    चौ दिशा रंगभूमि बनी थी।
    बात इतनी सी थी, हार माननी थी,
    झुककर, एक मुस्कान भरनी थी,
    और युद्ध की मात होनी थी।

    अहम् की बेड़ियों में बंधा था, मर्द!
    अकड़ कर खड़ा था, मर्द!
    मिला न कोय उपाए उसे,
    कर दिया नारी के चरित्र पर वार,
    शरीर का हनन ही होता नहीं हनन।
    रूह पर इस बार‌ किया था आक्रमण!

    नारी हार गई तिनके सी,
    जीत गया ज़ात से जो‌ था ब्राह्मण!
    हंस रहा था, व्यंग्य करे, मित्रों संग उपहास करे।
    समाज का था वह वीर बड़ा।
    मर्म को कर कलंकित,
    हवस का दे रहा था नाम बड़ा।

    चुन-चुनकर अपने चरित्र को,
    रूदन‌ करती, हे नारी!
    मान को‌ रौंद नारी का,
    अभिमान करे, नर बड़ा!
    समझ न पाया ज्ञान गूढ़ का,
    प्रेम, सम्मान, ही नारी गहन,
    जीत है‌ तेरी पक्की, नारी हारे जगन!
    न तलवार न भाले की बिसात है,
    जो नारी चाहे, बने काल है।

    यूँ न लूटो नारी को करके मर्यादा हनन!
    माँ तेरी, मान है करता,
    दूजी नारी, क्यों अपमान है करता?
    तू कैसा पुरुष,"ओस की बूंदों" से, टकराव है करता!
    नारी, जैसे पूजा की थाली,
    वीर तिलक, सी तेज़ बहुत!
    तुलसी सी आंगन में,
    शुभत्व की पहचान है।
    अपमानित क्यूँँ करते हो,
    जब जन्में तू नारी कोख़ से!
    हार गया तू, जीत कर भी,
    क्या वीर‌ तुम वीर हो????
    क्या वीर‌ तुम वीर हो????

    ©none_ever_thee

  • none_ever_thee 2w

    #हद्
    #selfego
    #attitude
    #आन
    #अपने_बेगा़ने
    #आईना
    #जीवन
    #mirakeelife
    #lifelesson
    #समाज

    Read More

    (दौराहे)
    "हद् १"


    हद् से गुज़र गई है बात, लफ़्ज़ों के दीवारों से,
    अब बात ठहरी है जिज़्या-ए-अना, न अपनों से न‌ परायों से।

    ©none_ever_thee

  • tehminbhat_ 3w

    Home alone.
    You break down.
    Letting out everything.
    Crying as loud as you can.

    Your family come home.
    And here you go.
    Fake smile, fake laugh.
    Pretend everything is okay.
    ©tehminbhat_

  • none_ever_thee 6w

    #जीवन
    #एहसास
    #त्रिवेणी
    #mirakeeworld
    #mirakeelife
    #mirakeenetwork
    #mirakeehindi

    Read More

    मैं...

    कुछ शब्द ही तो लिखती हूंँ...
    कभी दर्द, कभी जज़्बात,
    कभी जीवन के अनुभव लिखती हूंँ...

    ©none_ever_thee

  • none_ever_thee 7w

    #नफ़रत
    #ग़लतफ़हमी
    #loveandhatred
    #mirakeeworld
    #mirakeenetwork
    #mirakeelife

    Read More

    नफ़रत...

    बहुत दर्द होता है,
    किसी अपने के दिल में,
    ख़ुद के लिए नफ़रत देखकर...

    ©none_ever_thee

  • tehminbhat_ 13w

    Zabardasti ki nazdeekiyu se
    Sukoon ki dhoriya behtar hai
    ©tehminbhat_

  • tehminbhat_ 13w

    Khamosh baithe hu, ab thak chuki hu
    Ab toh bas intizaar hai, waqth ka
    Ab jo hoga, waqth khud faisla karega
    ©tehminbhat_

  • aayat_jaff 14w

    Suno
    Be'khauf Be'panha Be'inteha Be'matlab
    sa ishq hai mujhe tumse❤
    ©aayat_jaff

  • kelvin_mathew98 14w

    ചില തിരിഞ്ഞുനോട്ടങ്ങൾ ആണ് പലപ്പോഴും തിരിച്ചറിവുകളിലേക്ക് നയിക്കുന്നത് അതോടൊപ്പം കാമ്പുള്ള മനുഷ്യരാക്കി നമ്മെ മാറ്റുന്നതും
    ©kelvin_mathew98

  • tehminbhat_ 14w

    Zindagi udaas si hogayi h, na jane kyun
    Hasti hu toh doosru ko hasane k liye
    Har glti ki maafi hai, na jane fr itni badi saza kyun
    ©tehminbhat_

  • tehminbhat_ 14w

    Two Years Of Togetherness

    Today is our special day 2yrs ago our relationship started and last year we were not able to celebrate because of article370, and this year we were much excited to celebrate this day together but perhaps its my bad luck that we are not together Maybe we'll never be together again. It is the day when people who are apart get to see each other again
    Everything between them gets resolved but you have decided that we can no longer be together.I also did preparation but all got in vain Today has become a day of mourning for me
    I just pray that you will always be happy wherever you are
    ©tehminbhat_

  • aayat_jaff 16w

    kuch chutth raha hai
    kuch toot raha hai
    kuch ehsaas uski
    gairmojudgi ka horha hai.
    ©aayat_jaff

  • neerajtripathi 16w

    Yun udaas na raha karo
    Dil ki bate mujhse kaha karo
    ©neer.writes

  • pixiepia 21w

    When the storm breaks, each man acts in accordance with his own nature. Some are dumb with terror. Some flee. Some hide. And some spread their wings like eagles and soar on the wind.

  • shamay 21w

    May be you don't have to look back to wounds that hurt but when you do it may turn into scar that was healed with nidus of fertile memories and at times a badge of color to show.
    ©shamay