#mirakeelovequotq

1 posts
  • vish_shabd 13w

    Life

    नज़रों को अब हमारी कोई साहिल नज़र नहीं आता
    बेवफ़ाई के दौर में अब कोई खास नजर नहीं आता

    घूमकर जब नज़रे हमारी तलाशती किसी मंजर को है
    प्यासी पड़ी इस धरती पर कोई दरिया नजर नहीं आता

    हालें दिल बयां करते भी तो किस करते यारों
    लोगो की भीड़ में कोई अपना नजर नहीं आता

    बैठ कर कुछ देर सांस भी नही ले सकते यहां पर
    वीरान सी पड़ी सड़क पर एक पेड़ भी नजर नहीं आता

    डूबता सूरज तो रोज निहार लेते है हम
    उगते सूरज का दीदार रोज रोज नजर नहीं आता
    ©vish_shabd