#mirakeepod

95 posts
  • mr_realitygram 5d

    SAPIOsavior

    Got a wealthy heart
    But scared to share
    What do you have in play
    Let's live and play
    #rr

  • mr_realitygram 1w

    Ferrari

    May be we stop making magic without no deals. Then we can think of making
    a good uturn.
    #rr

  • fadis_urbanpoetry 2w

    If you fail to see the tangible amount of strength that I'm trying to pull up in order to mask my weaknesses, then, maybe...Just maybe you were way weaker than me to start with.
    We've all always had weaknesses. You just failed to accept yours because you rendered them non-existent.
    Until you're ready to face your flaws, do not approach me on how to go about mine, coz I might have had greater encounters of positives and negatives that you're still a learner to...
    ©fadis_urbanpoetry

  • leokeemotions 3w

    #teachersdayacrostic#mirakeepod#pod

    Teacher is a person in everyone's life who actually created a good person of we to-be-carved .
    Teacher is a person who comes to support you in any disguise
    Mother is a teacher who's teachings are eternal.
    Father is a teaches to be brave
    Brother teaches to be resilient
    Sister teaches to be sensitive
    Happy teacher's day to all the teachers is different disguise!

    Read More

    Teacher

    Tentalizing they make our learning
    Enchanted their advices feels
    Acts like our next parents
    Charisma that is eternal
    Happy,they always taught to be
    Existing in many disguise
    Renders our character at every phase of life
    ©leokeemotions

  • khan_zoya 4w

    woh aankho se aawjhal hue toh kya hua?
    dil me aaj bhi dharkane unhi k naam ki dharakti hai!
    ©khan_zoya

  • khan_zoya 6w

    mujhe ghum nhi teri bewafayi ka,
    mai pareshaan apni wafa se hu!
    ©khan_zoya

  • _harsingar_ 6w

    #आज़ादी

    यूं नहीं इस प्यारी सी, आज़ादी को हमने पाया है
    वीर सपूतों ने कण-कण में, अपना खून बहाया है
    ऋणी रहेंगे उस माता के, जिसने लाल गंवाया है
    संघर्ष हजारों किए सभी ने तब तिरंगा लहराया है।

    चिंगारी जो भड़की थी सन् अट्ठारह सौ सत्तावन में,
    भड़क उठी वो बन के ज्वाला हर इक बच्चे के मन में।
    जाग उठा था वीर युवा तब, अलख जगाई जन जन में
    तब जा कर आज़ादी की, बयार बही थी घर आंगन में।

    संगीनों पर सोया था जो, हर इक मां का लाल था
    आज़ाद,भगत सिंह,राजगुरु,अब्दुल और इकबाल था।
    निजी विश्वास था जाति धर्म का, कोई नहीं बवाल था
    कौन है हिन्दू कौन है मुस्लिम ऐसा नहीं सवाल था ।

    सियासत के दो स्तंभ बने अब,विकास की ये राह कहां!
    भांति-भांति के फूल बिना, बगिया की कोई शान कहां
    तरह तरह के वाद्य बिना, होता मधुर संगीत कहां
    मंदिर की घंटी और अजान बिन हवाएं होती शुद्ध कहां!

    बच्ची सी थी जब आज़ादी देखभाल तब हुई थी,
    लाड़ लड़ाया था फिर सबने नौजवान जब हुई थी।
    लगता है अब भूले सब उसको बूढ़ी जबसे हुई थी,
    कद्र ना करता कोई भी अब जैसे यूं ही मिली थी।

    कहां गया वो जोश अब कहीं दिखता नहीं
    डूबा नौजवान रंगीनियों में अब वो जज़्बा कहीं नहीं
    देख लें वीर सपूत जो हाल देश का अगर कहीं
    बलिदान दिए जिसकी खातिर ये वो मंज़िल तो नहीं।
    धन्यवाद

    डॉ सीमा अधिकारी

    #mirakee #mirakeepod #writersnetwork #hatchegg_publication #hindiwriters #hindilekhan #hindiurduwriters #hindikavysangam #patriotism #sacrifice #hindi #betrayal #azadispecial

    Read More

    आज़ादी

    देश प्रेम की भावनाएं बहुत उमड़ीं पर रुप बहुत सुन्दर नहीं दे पाईं, अगली बार कोई बढ़िया रचना भेजने का प्रयास करूंगी इसे पढ़ ज़रूर लीजिएगा ।
    ©_harsingar_

  • _harsingar_ 6w

    उम्मीद बदलाव की
    #Abhivyakti50
    #Prayas20 @misty2004

    बदलना है दुनिया को गर
    शुरुआत तू खुद से कर

    सुबह जगाना है गर सबको को
    तो खुद पहले उठना होगा
    रौशन करना है गर पथ को
    मशाल तुम्हीं को बनना होगा

    नई पत्तियां लानी हैं यदि तो
    खुद पतझड़ बनना होगा
    मौसम बदला है, वो बदलेगा
    सावन तो इक दिन बरसेगा

    बदलाव कुदरत का है दस्तूर
    इससे कौन कब बचा है
    चट्टान भी बन जाती मिट्टी
    इक दिन हो कर चूर चूर

    याद करो वह भी इक दिन था
    हम सबके सब ही पराधीन थे
    आज़ादी के परवानों ने ऐसी अलख जगाई थी
    धीरे धीरे सभी जनों ने ली ऐसी अंगड़ाई थी
    गए फिरंगी आज़ाद हुए हम घर घर खुशियां अाई थीं

    फिर रूढ़िवादियों से देश घिरा था
    बाल विवाह और सती प्रथा का
    हर गांव शहर में कहर बड़ा था
    यदि बच गई कोई विधवा
    उसका जीवन श्राप तुल्य था

    राजा राम मोहन रॉय जैसे पुरुष थे तब
    इन कुप्रथाओं को दूर किया था
    सती प्रथा भी कहां रही अब
    कुछ पुरुषों में भी बसता रब

    नारी हैं हम जननी हैं
    हमको आगे बढ़ना है
    पुत्र अरू पुत्री में भेद न करना
    समान भाव अब रखना है
    नारी को सम्मान दिलाना
    हमसे ही वो सीखेंगे
    मां ही तो प्रथम शिक्षक है सबकी
    नींव हमीं को रखनी है।

    उम्मीद की किरण : > )

    स्थितियां काफी बदल गई हैं
    क्योंकि जननी जाग गई है
    सही गलत में भेद बताती
    फिर दुनिया से परिचय करवाती
    बालिका हो या फिर बालक
    भेद न करता आज का पालक

    कई बेड़ियां टूटी हैं
    आगे और भी टूटेंगी
    समय कभी वो भी आएगा
    मुरझाएगी नहीं कली जब
    परचम अपना वाह फहराएगी।

    डॉ सीमा अधिकारी

    #rajarammohanroy #socialreformer
    #childmarriage #traditionofsati #shackles
    #mirakee #mirakeepod #hindiwriteup #writersnetwork

    Read More

    उम्मीद बदलाव की

    ©_harsingar_

  • _harsingar_ 8w

    कर्तव्य #abhivyakti36

    कर्तव्य पथ पर रहो अग्रसर,
    अडिग रहो पर रुको न पल भर।
    बादल पीछे रह कर भी सूरज,
    कभी चमक न अपनी खोए ।
    फसल खड़ी तब ही होगी,
    जो तू धरती पर बीज बोए।
    सुनो गृहण के बाद चन्द्रमा,
    चमक नई दिखलाता है,
    नई चांदनी पाकर वो तो
    निखर निखर सा जाता है।
    सुबह हुई तो उषा नवेली,
    हिम हो तम हो, अा जाती है
    पंछी कलरव करते हैं तब,
    फूल फूल तितली मंडराती है।
    नदियां बहना नहीं छोड़तीं
    चाहे मार्ग पथरीला हो,
    सीख प्रकृति बहुत देती है
    जो तुम थोड़ा गौर करो,
    कर्तव्य निभाए रुक ना जाए
    तुम भी इस पर अमल करो।
    आओ सब मिल, संकल्प करें,
    प्रकृति को अपना गुरु बनाएं
    निज कर्तव्य से ना कभी डरें ।

    डॉ सीमा अधिकारी

    #awetowardsduty #determination #stonypath #stormynight #respectnature
    #teachernature #sunshine #waningmoon
    #eclipse #mirakee #mirakeepod #hindikavita #writerstoli #hindipoets #writersnetwork

    Read More

    कर्तव्य

    कर्तव्य #abhivyakti36
    @scintillating_shikha
    आज केवल प्रकृति की बात होगी वो है भी खूबसूरत, निश्छल।उसे केवल निहारो छेड़ो मत फिर देखो वो
    क्या नहीं सिखाती। "कर्तव्य पालन भी"
    ©_harsingar_

  • _harsingar_ 8w

    प्रकृति (२)

    तब आया इक शैतान
    प्यार से था बिल्कुल अनजान,
    उसको दुनिया नहीं सुहाती
    बहुत बड़ा था वो उत्पाती,
    तोड़े पौंधे , जीव सताए
    दुख देख सभी का वो मुस्काए,
    मालिक ने उसको देख लिया
    पल भर में उसको जान लिया,
    बहुत प्यार से उसे बुलाया
    फिर छड़ी घुमा के उसे सुलाया,
    जाने क्या फिर उसको बुझी
    इक प्यारी सी युक्ति सूझी,
    दिल नन्हा सा डाल दिया
    जिसे प्यार से सींच दिया,
    मस्तिष्क दिया फिर उसमें डाल
    सोचा कुछ ये करे कमाल,
    मानव तब उसको नाम दिया
    पृथ्वी ने उसको थाम लिया,
    मस्तिष्क प्रयोग कर मानव ने
    जीत लिया सब पल भर में,
    धीरे धीरे बढ़ी लालसा
    थमी नहीं उसकी अभिलाषा,
    फिर मानव ने इतिहास रचा
    अंबर, सागर,धरती पर धूम मचा,
    अभिलाषा बदली लालच में
    लगा रहा वो निज हित में,
    धरती को उसने कृत्रिम किया
    ग्रीष्म काल में ए.सी. आया,
    शीत काल में ग्रीष्म सामाया
    मौसम भी उसने बदल दिए,
    सरहद बांटी,पर्वत काटे
    नदियों के रुख मोड़ दिए,
    धरती, सागर और आसमान
    हर तरफ उसने तब भरी उड़ान।
    हुई अति जब मानव द्वारा,
    कई प्रजातियां लुप्त हुईं,
    दिखी नहीं फिर वो दोबारा।
    प्रकृति से सब कुछ सोख लिया,
    बदले में फिर कुछ कहां दिया।
    प्रेम सौहार्द सब भाग गया
    मानो शैतान फिर जाग गया,
    प्रकृति भी तांडव कर बैठी
    मानव करम पर वो ऐंठी,
    दरके पर्वत,उफनी नदियां
    जीवन पल में नरक बनाया,
    बनने में जिसको लगीं थीं, सदियां।
    कहीं कहीं जल सूख गया,
    विधाता मानो रुठ गया।
    अब भी जाग जा तू मानव,
    क्यूं तू बन बैठा है दानव।
    प्रेम पूर्वक रह ले पृथ्वी पे,
    पृथ्वी सबकी हम सब इसके।
    बहुत लिया है इस धरती से
    बाज़ अा अब ना कर नादानी,
    ये तेरी ही थाति नहीं अज्ञानी ।
    ये तो है नौनिहालों की धरोहर
    रखना जिसको तुझे संभाल कर।

    डॉ सीमा अधिकारी
    ©_harsingar_

  • _harsingar_ 8w

    प्रकृति संरक्षण दिवस

    आज विश्व प्रकृति संरक्षण दिवस (world nature conservation day) है। सभी को उसकी हार्दिक बधाई कोई भी दिवस तभी मनाया जाता है जब हम उसे भूल जाते हैं। अपने स्वार्थ में हम इतने लिप्त हो गए हैं कि हम भूल गए कि हम जिस प्रकृति से इतना कुछ लेते है बदले में उसे क्या देते हैं। हम पैसा बचाने के लिए एफ डी और भी ना जाने क्या क्या भविष्य निधि जोड़ते हैं। पर क्या हम अपनी प्रकृति को भी भविष्य निधि जैसी किसी व्यवस्था पर निवेश कर रहे हैैं। सोचिए क्या हम अपने बच्चों के लिए प्रकृति को संजो रहे हैं? प्रकृति के संरक्षण पर एक रचना सृजी है आशा है पसंद आएगी थोड़ा बड़ी है।

    #natureconservation #lovenature #monsterman #heritage #flood #drought #mountainrange
    #mirakee #mirakeepod #hindikavita #writersnetwork #hindiwriteup #writerstoli

    Read More

    प्रकृति (१)

    बहुत बड़ा इक जादूगर था,
    चित्रकार वह पेशेवर था।
    नाना रंगों से चित्र बनाया उसने
    वृक्ष, नदी, जंगल औ झरने,
    पर्वत, बादल, फूल और सागर
    अथक प्रयास कर रूका न पल भर,
    लगा अधूरा पन जब उसमें
    रच डालीं जीवों की किस्में,
    चिड़िया,भालू ,हाथी,चीता
    लोमड़, कछुआ, हिरण भी था,
    तरह तरह के दृश्य बनाए
    चांद औ सूरज तारे लटकाए,
    तब जादू की छड़ी घुमाई
    सब जीवों में जान समाई,
    बहुत प्रेम से रहते थे सब,
    ईर्ष्या ,नफरत थी कहां तब।
    क्रमशः
    डॉ सीमा अधिकारी

    ©_harsingar_

  • _harsingar_ 10w

    वक्त/समय #abhivyakti27
    @sanjay_kumr

    उससे मेरी,ना कभी फिर मुलाकात हुई
    ना मिजाज़ पुरसी हुई ना ही कोई बात हुई
    वो तो था एलानिया ही बेफिकर
    मैं भी उससे रूबरू फिर ना हुई,
    फिर? जनाब वो वक्त था, मैं बन गई उसकी सुई।

    समझाया उसने, मुझसे तुम डर कर रहना
    हूं वक्त मैं, मेरा न तुम ऐतबार करना
    हर पल को जी लो, फिर न तुम आहें भरना
    जो आज हूं तेरा तो जोश में न होश खोना
    बेवफा जो हो गया तो मुझको ना तू दोष देना।

    छाप मेरी हर जगह, पर मैं कहीं दिखता नहीं
    ज़ख्म जो मैंने दिया, मेरे सिवा भरता नहीं
    मोल मेरा कुछ नहीं, अनमोल हूं, बिकता नहीं
    कोई जगह मेरी नहीं, मैं कहीं टिकता नहीं
    झुका चुका हूं तख्तोताज पर मैं कभी झुकता नहीं।

    फितरतन मैं बेवफा हूं, आती नहीं मुझको वफा
    ज़ाहिर है सब पर, के मुझसे ही है हर मर्ज का शिफा
    मुझसे ही हर शै जवां है, मैं ही सबका खैरख्वाह
    आता नहीं है गर यकीं, तो आजमा लो इक दफा
    तासीर मेरी हर जगह, मैं ही जीवन का फलसफा।

    डॉ सीमा अधिकारी

    #hindikavita #writerstoli #writersnetwork #mirakee #mirakeepod #philosophy #attitude
    #reliable #medicine #wholesoul

    Read More

    वक्त/समय

    ©_harsingar_

  • _harsingar_ 10w

    कविता #abhivyakti25 @ru_malik जी

    थोड़ी अस्वस्थ्य हूं सोचा नहीं लिखूंगी किन्तु विषय देख कर खुद को रोक नहीं पाई। सभी की रचनाएं पढ़ कर स्तब्ध रह जाती हूं आखिर सबके पास एक से बढ़ कर भाव कैसे आ जाते हैं एक झिझक के साथ पेश कर रही हूं।

    ये जीवन इक कविता है
    मालिक इसके रचयिता हैं
    कहीं छंदों में बंधी
    कभी मात्राओं में सधी
    कहीं सुखों से सजी
    कभी वाद्यों सी बजी
    कहीं फूल फूल
    कभी शूल शूल
    कहीं घोर जटिल
    कभी सहज सरल
    कहीं श्रृंगार मिलन का
    कभी बिछोह स्वजन का
    कहीं हास्य रस
    कभी करुण रस
    कहीं वीर रस
    कभी रौद्र रस
    कहीं स्नेह सिक्त
    कभी रिक्त रिक्त
    कहीं पूर्ण व संचित
    कहीं जीवन वंचित
    दुनिया इक साहित्य है
    वो ही इसका आदित्य है
    जिसके भाग्य में जो भी रचना
    पढ़नी होगी हो सुख या वेदना

    डॉ सीमा अधिकारी

    #poetryoflife #world #rhythmic #comedy #meagre #literature #destiny #hindikavita #hindiwriteup #writerstoli #writersnetwork #mirakee #mirakeepod

    Read More

    कविता #abhivyakti25

    ©_harsingar_

  • thekhanparvez 11w

    Found and Lost

    I found
    the magic of words,
    the parole of phrases,
    and the potency of rhymes
    in the poetry
    I got so embroiled in it that

    I lost
    myself soulfully in
    the rhythm of the poetry!

    ©thekhanparvez

  • rim__writes 11w

    झुठे रहो तो फुलो फलो ....����
    सच्चे बनो तो रूठे रहो ....����‍♀️
    ����������

    This is the reality of this era....��
    ������

    #mirakeepod #writerstoli #writersnetwork

    @jiya_khan @ankita79moonlight @happygirl_muski @ishanvisingh @milisha_mishra @rani_shri

    Read More

    सच्चाई का मुखौटा पहन ये दिल रूठा ही अच्छा है;
    क्या उम्मीद करना इस जमाने से ये जमाना झुठा ही अच्छा है !!
    ©rim__writes

  • _harsingar_ 11w

    #abhivyakti18 @_aahana_

    अज़ाब- ए- बेदिली : बेरुखी का दर्द
    #Bitterrelations #pain #selfishness #writersnetwork #mirakee #mirakeepod #hindikavita#hindiwriteup

    Read More

    रिश्ते

    खुदगर्ज़ी उनकी कोई देखे
    हमें अपना तो कह बैठे
    हमारे खुद न हो पाए
    औ बेबसी हमारी ये
    के खुद के भी ना रह पाए
    तल्ख हुए इस कदर रिश्ते
    के हम कुछ कर नहीं पाए
    खामोशी हमारी वो गुस्ताख़ी
    समझ बैठे
    अज़ाब-ए-बेदिली से उनकी हम
    वो रिश्ता ही गंवा बैठे

    - डा सीमा अधिकारी
    ©_harsingar_

  • _harsingar_ 11w

    #abhivyakti16 @chahat1samrat @vipin_bahar
    @saroj_gupta @malay_28 @flame_ @hamsafar

    इश्क पहले से फीलिंग्स बेस्ड होता था पर अब स्टेटस बेस्ड
    होता है जैसे डॉक्टर को डॉक्टर से इंजीनियर को इंजीनियर से। उसी के मद्देनजर कमजोर सी एक शायरी पेश है अगर अच्छी लगे तो दाद दीजियेगा अगर नहीं लगे ............... तो कमी कहां रही बताइएगा

    #statusbased #innoscentlove #feelings #mirakeepod #mirakee #writersnetwork #hindikavita #hindiwriters

    Read More

    इश्क बेरोज़गारी

    गुजर गए वो दिन जब इश्क दिल की इबारत थी
    है अब ये तिजारत तब ये मासूम सी इबादत थी
    ये इश्क नहीं अब दिल के अशआरों से वाबस्ता
    ये खुद एक रोजगार है इसका दिल से क्या वास्ता

    -डॉ सीमा अधिकारी

    ©_harsingar_

  • rim__writes 11w

    Just for fun haste rahiye .....��
    tiktok lovers u can ignore ...��
    Pta nahi ye kaise mere dimag mein aaya or bas likh diya kuch bhi ����
    Maaf karna mitro ����
    @chahat1samrat di bas try kiya hai..����
    if anything wrong then inform me..��
    ����

    #mirakeepod #writerstoli #writersnetwork

    @soniamaan @jiya_khan @happygirl_muski @ankita79moonlight @happygirl_muski @shiv__

    Read More

    Ishq or berozgari

    Humare yaha ishq mein barbad huye kuch berozgar..
    yuvak or yuvtiyan tiktok mein apni talent dikha kar khud ko super successful samjne lage the....
    or to or jab koi inse puch le karte
    kya ho aaj kal...??
    to inka reaction kuch ish tarh hote hai....
    fir inki antar aatma kehti h ja ke dekh meri tiktok account kitna famous hun kitna hard work karta hun...
    or fir achank tik tok band ho jata hai to inki antar aatma khud se hi khene lagti h tu to berozgar tha hi wo to tik tok ne tujhe kbhi ahsas na hone diya...
    Fir hota kuch yun hai ...
    ye tiktok jaisi dusri platform mein apni naukri talashne lagte hai...!!

    To ye thi humari टिकटोकीया berozgari



    ©rim__writes

  • aparnashipra 11w

    Love

    LOVE GIVE US HOPE✨
    ©aparnashipra

  • poetryexpress 60w

    .

    windows soul
    heart beat
    Fractured eyes
    Wet feet
    ©poetryexpress