#prem

787 posts
  • ashwinraja 2d

    ❤️

    There is lots and lots of love in the universe. Open your eyes, embrace it. Feel the warmth of intense feeling longing for intimacy. Love should not be begged, it should be cuddled. You’ll find it when you get it.
    ©ashwinraja

  • inoxorable 3d

    तेरे होंठ

    फ़िके है तेरे लबों के आगे हर एक मीठे व्यंजन
    जुबां को हर पहर तलब रहती हैं तेरे होंठ को जखने की
    ©inoxorable

  • kapilbohra86 1w

    Tujhse baat
    ho na ho meri,

    tera zikr kar lete
    hain yaaron sang


    ©kapilbohra86

  • kapilbohra86 1w

    Itna kareeb aa
    gayi thi wo mere,

    mujhe laga
    jaise meri hi ho.


    ©kapilbohra86

  • kapilbohra86 1w

    Taras gayi hain yeh aankhein Tujhe nihaarne ko,

    Kaash aakhri baar
    thoda aur dekh lia hota


    ©kapilbohra86

  • mahi_ghane 2w

    Happy valentine day❤️(थोड़ा लेट हो गया)
    But it's not too late because every day is valentine day❤️
    #love #prem #Mirakee #poems #poetry #writersnetwork #writersofinstagram #writersofig #stories #writing #words #marathi #prem #quote #ttt #quoteoftheday #writersofmirakee

    Read More

    प्यार छुपाएं नहीं छुपता
    फिर तुम दूर हो या पास हो
    अजनबी हो या खास हो
    बात सिर्फ इतनी हो कि
    तुम्हारी गैर मौजूदगी में भी तुम्हारा एहसास हो।
    ©mahi_ghane

  • life_with_pchandra 2w

    धनियों के तो धन हैं लाखों
    मुझ निर्धन के धन बस तुम हो!

    कोई पहने माणिक-माल,
    कोई लाल जड़ावे,
    कोई रचे महावर मेहँदी
    मुतियन माँग भरावे,

    सोने वाले, चाँदी वाले
    पानी वाले, पत्थर वाले,
    तन के तो लाखों सिंगार हैं
    मन के आभूषण बस तुम हो!

    धनियों के तो धन हैं लाखों
    मुझ निर्धन के धन बस तुम हो!

    ~नीरज

  • ammy21 2w

    Mahadev

    Ho koi aisa jo ho shiv sa bhola
    Jab tisri aankh vo khole
    Saara jag dola
    Hai chahat us prem ki jisme ho shakti
    As like as shiv ji love❤ shakti
    ©ammy21

  • thatimmaturepoet 2w

    Tere kaandhe pe rakhke sar
    Dil kare, ki rolu raat bhar
    Jo beeti hai mujhpe tere bigar,
    Tujhe batadu humsafar
    Jabse gaya tha tu chorkar
    Mushkil ho gayi thi ye dagar
    Ab na chorna mere saath ka safar
    Warna jaaunga main mar
    Tere kaandhe pe rakhke sar
    Dil kare, ki rolu raat bhar!
    Aankhein band karne se bhi lagta hai dar
    Kahi kho na de tujhe meri nazar
    Rehna saath mere tu har pehar
    Tu mera aadhyakshar
    Tere kaandhe pe rakhke sar
    Dil kare, ki rolu raat bhar!

    ©thatimmaturepoet

  • amiii_26 2w

    फक्त तू...

    स्वप्नांच्या दुनियेत
    भेट फक्त तुझ्याशीच होते
    असावे तू जवळ
    आस ही मनात असते

    ©amita

  • awakensleepingbeauty_ 3w

    Jo pakda usne haath
    Na girne diya
    Na hum sambhal paye


    ©sanghmitramani_
    ©awakensleepingbeauty_

  • amiii_26 3w

    प्रेम

    प्रेमाचं नातं जुळल आपलं
    बदललं माझ जग
    सहवास तुझा हवाहवासा वाटतो
    तुझ्या विचारात हरवून जाते मग

    आल जरी वादळ या प्रेमात
    तरी दूर नको जाऊस
    समजून एकमेकांना
    हात हातात धरून एकत्र राहू

    ©amita_26

  • soamdigvijaykavi 3w

    "गीत-मीरा"

    इनको तुम ही बतला दो ना,
    आकर इनको तुम ही समझा दो ना,
    मै विवाहिता हूँ तुम्हारी ये सब झुठला रहे है,
    आख़िर एक बार तुम इनको मोहन सच बतला दो ना,
    मेरा क्या तुम पर इतना भी अधिकार नही,
    बोलो कान्हा क्या मीरा तुमको स्वीकार नही।

    बालपन मे माँ ने ही तो समझाया था,
    सांवले श्याम को मेरा बतलाया था,
    तब से तुमको ही पुजा है तुमको ही माना है अपना,
    तब से मीरा ने खुद मे मीरा को नही तुमको है बसाया,
    मेरा क्या तुम पर इतना भी अधिकार नही,
    बोलो कान्हा क्या मीरा तुमको स्वीकार नही।

    माना मै तुम्हारी रुकमणी-राधा तो नही,
    मग़र मै उनसे से तनिक भी कम-ज्यादा तो नही,
    क्या मै तुम्हारी सखी-गोपियों मे से कोई नही,
    ये माखन चोर क्या मेरा प्रेम तुम्हारे लिये प्रेम नही,
    मेरा क्या तुम पर इतना भी अधिकार नही,
    बोलो कान्हा क्या मीरा तुमको स्वीकार नही।

    ऐ मुरलीधर बंधे हो तुम मुझसे ऐसे,
    दिल और धड़कन बंधे हो जैसे,
    रात से दिन बंधा है जैसे,
    फिर क्योँ मेरे जीवन के अँधियार मे भोर नही,
    मेरे क्या तुम पर इतना भी अधिकार नही,
    बोलो कान्हा क्या मीरा तुमको स्वीकार नही।

    मै ना जाणु तुम्हें बुलाना राग-विराग मे,
    तुम दौड़े चले आना जब मै बुलाऊँ तुम्हे अनुराग मे,
    आकर तुम केवल इनको इतना समझा देना,
    तुम ही हो मेरे मोहन-माधव एक बार इनको बतला देना,
    मेरा क्या तुम पर इतना भी अधिकार नही,
    बोलो कान्हा क्या मीरा तुमको स्वीकार नही।
    ©soamdigvijaykavi

  • thelovejedi 3w

    Yeh Waada..!

    Main Tumhara Hu Aur Tumhara Hi Rahunga,
    Yeh Waada Main Nibhake Hi Rahunga
    ©thelovejedi

  • pathak01 4w



    प्रेम दो, माँगो मत
    और एक दिन जब तुम
    खो चुके होगे यकीन
    या फिर हार चुके होगे
    वह तुम तक ख़ुद ही लौट आएगा।

    तुम्हें हर तरह से आश्चर्यचकित करते हुए
    प्रेम लौट आने की सारी कल्पनाएं जनता है...!

  • hindikibindi 4w

    प्रेम और वासना में भेद है, केवल इतना कि वासना पागलपन है, जो क्षणिक है और इसलिए वासना पागलपन के साथ ही दूर हो जाती है, और प्रेम गंभीर है। उसका अस्तित्व शीघ्र नहीं गिरता।

    -भगवतीचरण वर्मा

  • kritikakiran 5w

    पिंजरे में क़ैद
    परिंदे
    के कदम सलाखों को
    पार नहीं कर सकते
    पर इस भय से
    अपनी क्षमता की
    आख़िरी रेखा तक ना पहुँचना
    ख़ुदग़रज़ी मानी जायेगी
    और पीछे हटना...
    कायरता..

    प्रेम में
    बढ़ाया गया हर एक कदम
    प्रतीक है - जुनूनियत का
    जिसे अपनी सहूलियत के हिसाब से
    पीछे खींच लिया जाना
    कोई समझदार विकल्प नहीं
    बल्कि
    क्रूरता है!

    ©kritikakiran

  • ankit_the_writer 6w

    #love #mirakee #compliments #pyaar #loveyou #jaan #ishq #english #poet #poetry #prem #lovely #heart #sad #loveme #writer #writing
    ��������������������������������������������������������������������������������

    Read More

    COMPLIMENTS

    For me,
    Your smile is medicine.
    Your eyes are deep ocean.

    Your absence makes heaven
    And
    You are my beautiful angel.


    ©ankit_the_writer

  • bharatbhati 8w

    शिवप्रेम

    कृष्ण का प्रेम तो देखा होगा
    मैने शिव का प्रेम देखा है
    विष भरे उस प्याले मै
    सबका जीवन देखा है ।

    मीरा की तड़प तो देखी होगी
    मैने शिव की तड़प देखी है
    जलती हुई सती को ले कर
    शिव को जलते देखा है ।

    राम का वनवास तो देखा होगा
    मैने शिव का वनवास देखा है
    सदियों से इस कैलाश पर
    शिव को अकेले देखा है ।

    सबरी का इंतज़ार तो देखा होगा
    मैने शिव का इंतज़ार देखा है
    समेटते हुवे सती के अंगो की
    भटकते शिव को देखा है ।

    परशुराम का क्रोध तो देखा होगा
    मैने शिव का क्रोध देखा है
    जलते हुवे कामदेव के साथ
    धरती को हिलते देखा है ।

    काली का रूप तो देखा होगा
    मैने शिव का स्वरूप देखा है
    पैरों के नीचे रह कर भी
    दिल में रहना सीख है

    हां मैने शिव का प्रेम देख है ।
    ©bharatbhati

  • kaustubh_jumle 8w

    जला बैठे

    अँधेरे की आहट लगी, हम चराग़ जला बैठे।
    रक़्स-ए-बेदारी में हम सारे, सुराग़ जला बैठे।
    फना हूए अश्क़, लपटें तलफ़्फ़ुज़ भुला बैठी।
    बैठे बैठे ही हम सारी, शराब जला बैठे।
    अँधेरे की आहट लगी, हम चराग़ जला बैठे।
    रक़्स-ए-बेदारी में हम सारे, सुराग़ जला बैठे।

    ©kaustubh_jumle