#writersnote

533 posts
  • ishq_allahabadi 25m

    तोलूंगा

    अपने हर जख़्म को मैं तोलूंगा,
    बन्द इस मुंह से अब मैं बोलूंगा,
    तेरा सब झूठ और सभी फ़ितना,
    सर -ए- बाज़ार में मैं खोलूंगा।
    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 3h

    Affected

    Don't try to impress her else you will loose your respect in her eyes , but be the one she is AFFECTED BY.
    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 11h

    ग़ौर/غور

    غور کر کے قافیہ پر کیا کروں جو لکھ دیا،
    اس آخر پر کیا میں بیٹھوں جس شجر سے اڑ لیا۔

    ग़ौर कर के क़ाफिया पर क्या करूँ जो लिख दिया,
    उस शजर पर क्यों मैं बैठूं जिस शजर से उड़ लिया।
    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 11h

    ज़ात = ख़ासियत , शख़्सियत
    क़ासिर = किसी काम को ना कर पाने वाला।
    ज़ाहिर = खुला हुआ। काम
    मख़फ़ी = छुपा हुआ।

    #mirakee #writersnote #ishq #mirakeeworld #sher #ghazal #urdu #ashleywords

    Read More

    क़ासिर/قاصر

    ذات اس کی کیا لکھوں کہ شیر میں قاصر ہوں میں،
    ہوں نہیں مخفی کوئ شہ جو لکھو ظاہر ہوں میں۔

    ज़ात उसकी क्या लिखूं कि शेर में क़ासिर हूँ मैं,
    हूँ नहीं मख़फ़ी कोई शह जो लिखो ज़ाहिर हूँ मैं।
    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 15h

    रात/رات

    اترے جو تیرے زہن سے میں زات وہ نہیں،
    کٹ جائے شب غم جو اگر رات وه نہی،
    تیرا وجود میری رگوں میں جو نہ پھرے،
    لےنے میں رسم سانس ہے پھر بات وه نہی۔

    उतरे जो तेरे ज़ेहन से मैं ज़ात वो नहीं ,
    कट जाए शबे ग़म जो अगर रात वो नहीं,
    तेरा वजूद मेरी रगों में जो न फिरे,
    लेने में रस्म-ए-साँस है फिर बात वो नहीं।
    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 1d

    तब्बसुम = मुस्कुराहट
    एहसास-ए-पीरगी = बूढ़े होने का एहसास
    इश्तबाह = बिना शक
    शोला फ़िशानी = सख़्त बोलने का अंदाज।
    निहानी = छुपी हुई
    अश्क बयानी = दुख भरी कहानी।
    मसाएब = ग़म
    #mirakee #writersnote #ishq #mirakeeworld #mirakee #writersnote #ishq #shair #ghazal

    Read More

    लिए हुए

    दिल बेसुकून है ये निशानी लिए हुए,
    ख़ामोश तब्बसुम में कहानी लिए हुए।

    काँधों का बोझ आप हमारा न पूछिए,
    एहसास-ए-पीरगी है जवानी लिए हुए ।

    बे इश्तबाह अब भी मुहब्बत अज़ीज़ है,
    जीते हैं उनकी बात पुरानी लिए हुए।

    मेरी ज़बान काट दी जाएगी एक दिन,
    करती है वार शोला फ़िशानी लिए हुए।

    अपनी हयात काट दी हमने यूँ दर बदर,
    दिल बेक़रार आँख में पानी लिए हुए।

    फूल हमने एक भेजा था मुद्दत हुई जिसे,
    फिरती है उसको लेके दिवानी लिए हुए।

    आप अपने मसाएब न बयाँ हमसे किजिए,
    जीते हैं हम भी दाग़-ए- निहानी लिए हुए।

    क़िस्से जो पुराने हैं उन्हें दफ़्न भी करो,
    क्या फ़ायदा है अश्क बयानी लिए हुए।

    फिरता है बेवजह ही झूठों की बज्म़ में,
    तू "इश्क़"अपनी पाक ज़बानी लिए हुए।
    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 2d

    मुमकिन/ ممکن

    میں کیسے مان لوں ، ممکن ہو کس طرح
    تصویر جو یہ کہ رہی سچ بول رہی ہے ۔

    मैं कैसे मान लूं,मुमकिन हो किस तरह ,
    तस्वीर जो ये कह रही सच बोल रही है।
    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 2w

    मजनून= पागल
    अयाँ =ज़ाहिर करना
    क़फ़स= पिंजड़ा
    कुजा=कहाँ
    अहले दुनिया = दुनिया वाले

    #mirakeeworld #mirakee #writersnote #ishq #mirakeeworld #mirakee #writersnote #duniya #bayan #dil

    Read More

    बयाँ

    ना तो हम कहते हैं और ना ही अयाँ करते हैं,
    दिल के हालात को काग़ज़ पे लिखा करते हैं।

    मेरी ये बातों को सुनकर ये वो बोले हम से,
    तुमको अब हाल मेरा क्या है बयाँ करते हैं।

    सच है हर बार ही तोड़ा है तुम्हारे दिल को,
    दिल को इस वास्ते लो हम ये फ़ना करते हैं।

    मुझको मजनून बुलाती है ये अहले दुनिया,
    उनकी तस्वीर से बातें जो किया करते हैं।

    क़ैद में उनकी मुहब्बत के क़फ़स में हूँ ख़ुदा,
    हम इस ही हाल में मर जाएँ दुआ करते हैं।

    अब तू कोई भी नहीं फ़र्क़ ज़रा"इश्क़"को है,
    उनकी हालत पे अब हम फिक्र कुजा करते हैं।
    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 2w

    बहर= दरिया
    ख़ुश्क =सूखा
    मकीं=रहने वाला

    #mirakee #writersnote #ishq #mirakeeworld #mirakee #writersnote #ishq #shair #ghazal #untoldmeera

    Read More

    शायर/شایر

    ہم وہ شایر نہیں جو ان پہ مرا کرتے ہیں
    ہم تو ہم ہیں ، خد ہی کو ہی جیا کرتے ہیں۔
    انکی گنتی نہی جو خشک بہر کے ہیں مکیں
    قصے انکے ہیں جو موجوں میں رہا کرتے ہیں

    हम वो शायर नहीं जो उन पे मरा करते हैं,
    हम तो हम हैं,ख़ुद ही को ही जिया करते हैं।
    उनकी गिनती नहीं जो ख़ुश्क बहर के हैं मकीं,
    क़िस्से उनके हैं जो मौजों में रहा करते हैं।

    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 2w

    बेतहाशा/بےتحاشہ

    بے تحاشہ وہ مرے پاس لپٹ کر روئ
    رکھ کے سینے پہ مرے سر وہ سکوں سے سوئ
    اسکے ہاتھوں میں مرے ہاتھ کو لے کر کہنا
    تم مرے پاس ہو گویا ہے نہی پھر کوئ

    बेतहाशा वो मेरे पास लिपट कर रोई,
    रख के सीने पे मेरे सर वो सुकूं से सोई,
    उसके हाँथों में मेरे हाँथ का लेकर कहना,
    तुम मेरे पास हो गोया है नहीं फिर कोई।

    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 2w

    .

  • ishq_allahabadi 2w

    साबित / ثابت

    ثابت کرنےکو اپنی محبت اے دوستوں
    بتاو گھوم کر کیا شکتیمان بن جاوں۔

    साबित करने को अपनी मुहब्ब ऐ दोस्तों,
    बताओ घूम कर क्या शक्तिमान बन जाऊँ ।

    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 2w

    Deewani
    Abhi bhi yaad hai mujhko tera mujhse lipat jana,
    Lipat kar meri bahoon me tera phir yun simat jana,
    Wo karna phir sitam boose ka mere narm gaalon per,
    Nigahe yaar ka jhukna wa bahaon me palat jana...

    Wo tere geele balon ka jhatak k pusht per girna,
    Unhi baalon me meri ungliyon ka pyaar se phirna,
    Wo phir saanso ka teri sharm se yu tez ho jana,
    K phir qaabo nahi tha dil ka un lamhon me khud herna...

    Wo tharthar kaanpna uska jo maine chu liya usko,
    Wo lamha khas tha ji bhar k dono ne jiya usko,
    Wo kaskar meenjhna ek dosre ko apni bahon me,
    Mohabbet tujhko na chorenge wada ye kiya usko...

    Tarap, shiddat, mohabbet, husn, qatil wo jawani thi,
    Sunaon uff k kya us raat ki Kya kya kahani thi,
    Meri khalwat ka wo ab bhi sahara ban k rehti hai,
    Mai uska ishq tha ,wo “ishq"ki behad deewani thi...

    #mirakee #writersnote #ishq #mirakeeworld #mirakee #writersnote #ishq #shair #ghazal

    Read More

    दिवानी

    अभी भी याद है मुझको तेरा मुझसे लिपट जाना,
    लिपट कर मेरी बाहों में तेरा फिर यूं सिमट जाना,
    वो करना फिर सितम बोसे का मेरा नर्म गालो पर,
    निगाहे यार का झुकना वो बाहों में पलट जाना ...

    वो तेरे गीले बालों का झटक कर पुश्त पर गिरना,
    उन्हीं बालो मे मेरी उंगलियों का प्यार से फिरना,
    वो फ़िर सांसो का तेरी शर्म से यू तेज़ हो जाना,
    के फ़िर क़ाबू नहीं था दिल का उन लम्हों में यूँ गिरना...

    वो थरथर काँपना उसका जो मैंनें छू लिया उसको,
    वो लम्हा ख़ास था जी भर के दोनो ने जिया उसको,
    वो कसकर मीन्झना एक दोसरे को अपनी बाहों में,
    मोहब्बत तुझको ना छोड़ेंगे वादा ये किया उसको ...

    तड़प, शिद्दत, मुहब्बत, हुस्न, क़तील वो जवानी थी,
    सुनाऊँ उफ़ कि क्या उस रात की क्या क्या कहानी थी,
    मेरी ख़लवत का वो अब भी सहारा बन के रहती है,
    मैं उसका इश्क़ था, वो "इश्क" की बेहद दीवानी थी ...
    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 2w

    शहर-ए-शाद=ख़ुशियों का शहर
    बैत-ए-मुकस्सर = टूटा हुआ घर
    मेयार = आत्म सम्मान
    #mirakeeworld #mirakee #writersnote #ishq #shair #ghazal

    Read More

    मेयार

    मैं अपने ख़्वाब को लेकर कहाँ कहाँ जाऊँ,
    ये शहर-ए-शाद है मैं दर्द किसको दिखलाऊँ।

    ये जाहिलों कि है बस्ती मेरा भी इनमें शुमार,
    है आज उनका मिला ख़त मैं किस से पढ़वाऊँ।

    सुना है छत की हैं ज़ीनत और बाल हैं गीले,
    अगर मैं देख लूँ उनको कहीं न मर जाऊँ।

    हसीं की बात है ये पूछते हैं हाल मेरा,
    उन्हीं ने ज़ख्म दिए और उनको बतलाऊँ।

    अगर हो बैत-ए-मुकस्सर में कुछ बचा बोलो,
    तो अपने रहने का सामां मैं इसमें रखवाऊँ।

    नहीं है "इश्क़" का मेयार इतना नीचे गिरा,
    कि अपने जख़्म का ईलाज तुझसे करवाऊँ।
    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 2w

    Thanks

    What is THANKS?
    It is the reaction of the feeling when some one does or give you something without their own selfishness and benefits which in return make less of your work and effort and make you needless for the demand . The most important is satisfaction with the thing which is being done.
    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 2w

    Wo mere dil me har ek shab,sahar me rehta hai,
    Wo mere ghazal k har ek bahar me rehta hai...

    Sakhi na ban tu mere haal per taras khake,
    Abhi hai zer ye aksar, zabar me rehta hai...

    Dawai laakh he lakar hakeem mujhko de,
    Ye zakhm-e-hijr hai daaim jigar me rehta hai...

    Hamesha jeene ki khwahis liye hai phirta tu,
    Raha hai kaun jo abdan,dahar me rehta hai...

    Wo unki yaad me barbaad kyu kare khud ko,
    Suna hai "ishq" to apne shaher me rehta hai...

    दाएम=हमेशा
    अबदन=हमेशा हमेशा के लिए।
    ज़ेर = नीचे
    ज़बर=ऊपर
    जख़्म-ए-हिज्र = जुदा होने का दर्द।
    अश्क=आँसू
    चश्म-ए-तर= आँसू से भीगी आँख।
    सख़ी=दानवीर
    दहर=दुनिया

    #mirakeemembers #poet #mirakeeworld #mirakee #writersnote #ishq #mirakeeworld

    Read More

    सहर

    वो मेरे दिल में हर एक शब,सहर में रहता है,
    वो मेरी ग़ज़ल के हर एक बहर में रहता है ।

    सख़ी न बन तू मेरे हाल पर तरस खाके,
    अभी है ज़ेर ये, अकसर ज़बर में रहता है।

    दवाएं लाख ही लाकर हकीम मुझको दे,
    ये जख़्म-ए-हिज्र है दाएम जिगर में रहता है।

    हमेशा जीने की ख़्वाहिश लिए है फिरता तू,
    रहा है कौन जो अबदन दहर में रहता है।

    वो उनकी याद में बर्बाद क्यों करे ख़ुद को,
    सुना है " इश्क़ " तो अपने शहर में रहता है।
    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 3w

    ख़्वाब / جواب

    میرے اب خواب میرے ہیں
    مجھے اے چھوڑنے والے،
    مجھے اب فرق نہ کوئی
    کہیں پر بھی تو جاکر مر-

    मेरे अब ख़्वाब मेरे हैं
    मुझे ऐ छोड़ने वाले
    मुझे अब फ़र्क़ न कोई
    कहीं पर भी तू जाकर मर।

    Note# not being cruel but saying straight...
    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 3w

    Follow

    "Hey! Are you on Insta or Facebook pls follow me there , do you have an email pls send me".

    I read these types of comments on my fellow female members here...People who ask like this I wanna say to them , be a good writer and be a good personality person , you do not need to ask this, if any one will think that you have the capability for being followed you will be followed. So, behave well and focus on your writing rather then asking their Insta or email account. Asking this tells how filthy you are and reflects your personality.
    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 3w

    No Politics

    If few media persons are able to divide millions of Indian then I wonder why MILLIONS of Indian are not able to back off few media person...Don't watch them, don't help them. Be unite and stand together and kick them out who divides." Together we are, together we CAN.."
    ©ishq_allahabadi

  • ishq_allahabadi 3w

    कहानी / کہانی

    کہانی زندگی کی ہے
    مری بس دو ہی پنوں کی،
    ترے آباد ہونے سے
    مرے برباد ہونے تک -

    कहानी ज़िन्दगी कि है
    मेरी बस दो ही पन्नों की,
    तेरे आबाद होने से
    मेरे बर्बाद होने तक।

    ©ishq_allahabadi