gumnam_shayar

instagram.com/azharshah_id

gumnam shayar..with gud voice✌Jaun EliA k deewano me..#22 Mai thik hu bas duwaye chahiye��

Grid View
List View
Reposts
  • gumnam_shayar 7w

    शेर

  • gumnam_shayar 14w

    गज़ल

  • gumnam_shayar 22w

    पूरी गज़ल

    हद से गुजरेंगे गम के जो अंबार अब
    छोड़ कर चल देंगे हम घर बार अब

    पहले करते थे मियाँ हम शायरी
    लब पे आते कोई ना अशआर अब

    कट गएँ जब मुफ़लिसी में रात दिन
    हो नवाज़िश आए हैं मिरे यार अब

    कर के तौबा चल दिएँ जाने कहाँ
    हो रहा था जीना यूँ दुशवार अब

    ख़ौफ़-ए-कुदरत का अजब ये मामला
    हो रहे सब चारागर बीमार अब

    तब मेरी हर बात पर हामी भरी
    कर रहे क्यूँ बात से इनकार अब

    ख़ुश मिज़ाजी से करो अब बात तुम
    बन रहे अज़हर कैसे फ़नकार अब
    @गुमनाम शायर

    #jaunfalsafa #gumnam_shayar #paki

    Read More

    हद से गुजरेंगे गम के जो अंबार अब
    छोड़ कर चल देंगे हम घर बार अब

    पहले करते थे मियाँ हम शायरी
    लब पे आते कोई ना अशआर अब

    कट गएँ जब मुफ़लिसी में रात दिन
    हो नवाज़िश आए हैं मिरे यार अब

    ख़ौफ़-ए-कुदरत का अजब ये मामला
    हो रहे सब चारागर बीमार अब

    तब मेरी हर बात पर हामी भरी
    कर रहे क्यूँ बात से इनकार अब
    ©gumnam_shayar

  • gumnam_shayar 23w

    खाली हाथों में बस्ते अच्छे
    सपने महँगे य सस्ते अच्छे

    सारी दुनियाँ बेगानी करके
    शहर-ए-जाना के रस्ते अच्छे

    तेरी खुशियाँ ज़रूरी पहले
    हम तो तबियत के खस्ते अच्छे

    लोगों ने मुझ से हरदम बोला
    लगते हो तुम जी हंसते अच्छे

    जीवन ने हमरी आँखे खोली
    पीड़ा में हम निखरते अच्छे

    यादों से कुछ लगाव है ऐसा
    संग जो होती बहलते अच्छे

    दोनों काधो पे काबिज़ रहते
    साथी मेरे फरिश्ते अच्छे
    ©gumnam_shayar

  • gumnam_shayar 25w

    आधे मन से तुमको पूरा प्यार करना
    ऐसे मुश्किल है खुद को तैयार करना

    काश तुमने भी कायद-ए-इश्क़ पढ़े होते
    आसान हो जाता ऐसे दरिया पार करना

    ©gumnam_shayar

  • gumnam_shayar 26w

    मुफ़्त में आशिकों को जुदाई मिलीं
    जैसे मरने लगे तो दवाई मिली

    उसकी यादो से कैसी शिक़ायत भला
    जिसके सदके में उम्र ए ख़लाई मिली

    खोए अंधेरों मे हम तो यूं उम्र भर
    मौत की आहटों पर बीनाई मिली

    मुद्दतो ख़्वाइशो का झमेला रहा
    ज़िन्दगी आदमो की सताई मिली

    ये तक़ाज़ा भी क़ैद-ए-वफ़ा का रहा
    ना सज़ा ही मिली ना रिहाई मिली
    ©gumnam_shayar

  • gumnam_shayar 26w

    मुफ़्त में आशिकों को जुदाई मिलीं
    जैसे मरने लगे तो दवाई मिली

    उसकी यादो से कैसी शिक़ायत भला
    जिसके सदके में उम्र ए ख़लाई मिली

    खोए अंधेरों मे हम तो यूं उम्र भर
    मौत की आहटों पर बीनाई मिली

    मुद्दतो ख़्वाइशो का झमेला रहा
    ज़िन्दगी आदमो की सताई मिली

    ये तक़ाज़ा भी क़ैद-ए-वफ़ा का रहा
    ना सज़ा ही मिली ना रिहाई मिली

    बैर क़ुदरत से हमने कुछ ऐसा किआ
    होश आया तो बे-दस्त-ओ-पाई मिली

    शायरी चुप खड़ी लब की दहलीज़ पर
    दर्द-ए-दिल बढ़ गया तो रसाई मिली

    वस्ल-ए-यारा में नींदे नदारत रही
    उनकी बाँहों में बस ख़ुश-नवाई मिली

    ©gumnam_shayar

  • gumnam_shayar 30w

    मैं मसरूफ रखता हूँ
    खुद को अक्सर फिज़ूल के कामों में
    बचने के लिए तुम्हारी यादों से
    जो पीछे दौड़ती हैं मेरे पीछे नंगे पाँव की पकड़ ले मुझे और ले जाएँ उस पुल पर जो जोड़ती हैं मुझे तुमसे
    जहाँ तुम्हारी यादों के हुजूम घात लगाए बैठे रहते हैं ठीक उसी शिकारी की तरह जो शिकार के हर चाल को समझा बैठा है
    तुम्हारी यादे वो शिकारी हैं जो कभी खाली हाथ नहीं लौटी

    ©gumnam_shayar

  • gumnam_shayar 33w

    हरी डंडी में लगा लाल महताब दूँगा उसे
    सोचा है मिलकर कई गुलाब दूँगा उसे

    उसकी आँखों से जो झांकते हैं सवाल कई
    वक्त ब वक्त मुकम्मल जवाब दूँगा उसे

    ©gumnam_shayar

  • gumnam_shayar 33w

    किसने रोका है आशिकी सर-ए-राह करो
    मज़े पलभर के हैं और उम्रभर आह करो

    सुना रहा हूँ एक शेर जो वज़न से है ख़ारिज़
    खुद पर बीती अगर तो शायरी पर वाह करो

    ©gumnam_shayar