jignaa

कृष्णार्पणमस्तु��

Grid View
List View
Reposts
  • jignaa 30w

    Good bye mirakee...It's been a wonderful journey I love mirakee.
    And all the writers who are near to my heart is family.
    I'll miss this place till my last breath..Take care..Keep inking.
    Jignaa
    ©jignaa

  • jignaa 30w

    Chori kyun??? Fed up @dikshant_raj_raj @mirakee do something for these kind of things..Well I've sent you a mail of account deletation now I'm sure delete my account asap.

    Read More

    Why??

  • jignaa 30w

    कभी आना,
    कभी जाना....
    लगा रहेगा..
    भूल न जाना।

    Logging out...Tb tk ye aaj wale posts padiye...Hm kbhi bhi aa skte h.
    Take care...Cya soon.

    (Jhelna to pdega aap sab ko)

  • jignaa 30w

    Kabir singh kehte h

    Life is love anything else is reaction of it.

    Read More

    पलछीनों में बीती थी,
    वो ही तो थी ज़िंदगी,
    तेरे इश्क़ की दिवानगी,
    वो ही तो थी बंदगी,
    सदियों में जो हैं बीते,
    क्या दिन, महिने, साल,
    वो बस समय ही बीता,
    क्या थी उसमें ज़िंदगी??
    jignaa
    ©jignaa

  • jignaa 30w

    @loveneetm bhaiya ek koshish����

    Read More

    मैं भयी प्रीत बावरी,
    बावरी कान्हा तोरी,
    तोरी मोहिनी सूरत,
    सूरत हृदयस्थ है मोरी।

    मोरी चंचल चितवन,
    चितवन है कजरारी,
    कजरारी नीशा कान्हा,
    कान्हा के संग मतवारी।

    मतवारी भयी सब गोपिका,
    गोपिका इत, उतते मोहन,
    मोहन रचाई रासलीला,
    रासलीला अति मनुहारी।
    jignaa
    ©jignaa

  • jignaa 30w

    @riya__ ������

    उधेड़बुन, टूटना बिखरना अज़ीज़ हैं यारा,
    महसूस होता है ज़िंदा हैं हम!!
    jignaa
    ©jignaa

    Read More

    उधेड़बुन, टूटना बिखरना अज़ीज़ हैं यारा,
    महसूस होता है ज़िंदा हैं हम!!
    jignaa
    ©jignaa

  • jignaa 30w

    ज़िंदगी जंग ही सही लड़ते रहेंगे या ख़ुदा,
    बशर्ते हर साँस के साथ मेरी कलम न छूटे मुझसे,
    दोस्तों ये दुआ करते रहना,
    कुछ भी छूटे बस लफ्जों का साथ न छूटे मुझसे,
    वैसे तो ज़िंदा मुर्दों को भी देखा हैं हमने,
    या रब किसी फनकार से उसके फन का साथ न छूटे।
    आमीन
    jignaa
    ©jignaa

  • jignaa 30w

    @shaktitherevolution baccha ����


    गुनाह-ए-इश्क़ भी कितना नासमझ है,
    वो तोड़ते रहे दिल,
    और हम उसे उनकी अमानत समझे जा रहे हैं।
    jignaa
    ©jignaa

    Read More

    गुनाह-ए-इश्क़ भी कितना नासमझ है,
    वो तोड़ते रहे दिल,
    और हम उसे उनकी अमानत समझे जा रहे हैं।
    jignaa
    ©jignaa

  • jignaa 30w

    #imwriterwhoiswritingherownfeelings

    हम झूठ नहीं कहेंगे,
    मेरे जो लफ़्ज़ आपको छू लेते हैं,
    वो पहले मुझे तोड़ चूके होते हैं।

    Read More

    वो क्या लिखता जो दिलों में नहीं चुभता,
    तपिश न हो तो मोम भी नहीं ही पिघलता,
    एहसास, टीस, हूक न उठे तो बेमानी सब,
    हर्फ़ लिखा तो जाता; रूहों को नहीं ढूंढता।
    jignaa
    ©jignaa

  • jignaa 30w

    #�� #�� #jignaa

    Read More

    धृतराष्ट्र के मोह ने युद्ध करवाया
    कृष्ण के प्रेम और सत्य ने एक पक्ष लिया
    प्रेम धर्म के पक्ष में था
    क्योंकि प्रेम सत्य और मोह क्षणिक।

    गोपीयों का मोह
    कृष्ण की दूरी सह नहीं पाता था
    राधा का प्रेम
    क्या पास क्या दूर सब समान था।

    मोह नाम का मोहताज है
    और प्रेम
    स्वयं भगवान है।

    jignaa
    ©jignaa