ko1rabiya

I love writing and also bts��

Grid View
List View
  • ko1rabiya 1w

    Zindagi

    दर्द और गम की राह मै ज़िंदगी कट जाना आसान नहीं है
    यहां अपनी पहचान बनाना ज़रूरी है वक्त का कोई मेहमान नहीं हैं।

  • ko1rabiya 7w

    Mehboob

    मैं तुझे ए मेहबूब किस कद्र सोचू
    तेरे दिल कि धड़कन तक मेरे प्यार कि सरगम किस तरह पहुचाऊं
    मेरे ख्वाबों मै भी तेरा ही सुरूर है
    तेरी मुहब्बत पर हमे किस क़दर का गुरुर है।

  • ko1rabiya 7w

    हसफ़र

    कभी मिल जाओ आकर ए हमसफर
    हम बैठे हैं तुम्हारे इंतज़ार मै इस कद्र
    बेचैन हो गई हैं सांसे
    और खोल के बैठे हैं बाहे

  • ko1rabiya 8w

    फासला

    फासला बस ज़रा सा था
    मगर फिर भी वो हमसे खफा सा था
    दोनो दारिया को मिलना तो था
    मगर फिज़ाओं का रुख ज़रा बदला सा था

  • ko1rabiya 8w

    Khuwab

    Jo dekha tha wo khuwab reh gaya
    Muhobbat ka bs ek suaad reh gaya

  • ko1rabiya 8w

    Mohtaaj

    Maine zindagi ko khuddar hote hue dekha hai or khud ko uska mohtaaj hote hue dekha hai

  • ko1rabiya 13w

    Raaz

    Ye Raaz jo khulte nhi hai,whi to raaz hote hai,na jane kyu hum apni hi nind kai mohtaaj hote hai,kya khenge ye Raaz kisi se,ye to khud beaawaz hote h

  • ko1rabiya 16w

    Dil_Dmag

    Dil khi or hai or dmag khi or hai ,iss kash makash mai uljhi hui hamari manzil hi khi or hai

  • ko1rabiya 17w

    Lafz

    Unke lafzo ki pakad aesi thi,bus qalam unke hatho mai aaya hi tha kai lafzo ka khel khud ba khud shuru ho gaya

  • ko1rabiya 20w

    Labo

    Nazuk in labo per thi lakh shikayaten ,pta hme tb chla jb unhone muskurana chor diya