mayank8081

I just express feelings through my words��

Grid View
List View
Reposts
  • mayank8081 2w

    ज़ख्म भरा दिल

    ज़ख्म लगी ही ऐसी
    की न दवा न दुआ काम आए
    दर्द हुए ऐसा दिल में
    की चोट भी चोट देने से थक जाए
    शायद ये दर्द तुम्हारे लिए मज़ाक हो
    पर गुज़रे हुए उस दिल के चोट को
    तुम न समझोगी
    शायद इस दर्द से एक नाता जुड़ गया है मेरा
    की बिना आंसू गिरे मेरा दिन नहीं बीतता
    मगर मेरे उन आंसुओ को
    तुम न समझोगी
    दोष नहीं है मेरी किस्मत का
    दर्द मिला तो मिलता रहेगा
    तुम तो अब इस दर्द पर हंसती हो
    तुम्हे अपना हक तो मिलता रहेगा
    आज इसकी दवा तो मिली नहीं मुझे
    मगर हक में मेरे जो लिखा है वहीं मिलेगा
    जो दर्द मुझे तुम्हारी वजह से मिला
    वह चोट भी कोई दूसरा दूर करेगा
    बस इंतज़ार रहेगा उस मलहम का
    जो मेरे ज़ख्म पर अपना प्रेम भर दे
    इंतज़ार रहेगा उस सच्चा प्रेम का
    बिन मांगे जो मेरी इच्छा वो पूरी कर दे
    वैसे कहना पड़ेगा मुझे तुमसे
    की क्या खेल खेला तुमने
    ख़ामोश रहकर जो तुमने रुख मोड़ा
    किस जन्म का बदला लिया तुमने
    अब ज़िन्दगी की राह में रोशनी मिलेगी कहीं
    बस चलना मुझे तुम्हारे बिना है
    रास्ते में अगर मेरा अपना कोई मिल किया
    तो चलना आगे उसके साथ हैं
    मुझे मेरे अपनों से जितनी खुशी मिली
    उतनी तुमसे कभी नहीं मिली
    मुझे मेरे व्यतीत से को अनुभव हुआ
    उतनी तुमसे कभी नहीं मिली
    खुद को अकेला कभी कहता नहीं मैं
    क्यूंकि साथ खड़े मेरे साथ मेरे अपने है
    अगर एक आंसू भी निकल जाए
    तो उन आंसुओ को वो कभी गिरने नहीं देते है
    अपने उस ज़ख्म पर मै पर्दा ही डालूंगा
    क्यों दुनिया को मुझे खुशियां देनी है
    अगर अपने दर्द को लेकर बैठ गया मै
    तो बाकियों को मै कैसे खुश रखूंगा
    सबकी मुस्कान बाहर लानी है मुझे
    सबके दर्द को अपना दर्द समझना है
    मगर जिस सोच से तुमने मेरे दर्द को नहीं समझा
    अपनी खुद की सोच से सबके दर्द को दूर करना है
    ©mayank8081

  • mayank8081 2w

    बेवफ़ाई

    जहा नजर झुकती थी शर्म से
    आज वो उठाकर मुझे जवाब देती
    जहा प्यार और इज्जत थी इस प्रेम में
    आज उस प्यार को झूठा नाम देती
    जहा दुनिया वाले देखते रहते थे इस प्यार को
    आज इस टूटे दिल की कोई इज्जत नहीं
    जहा सुबह की पहली किरण
    रात की प्यारी चांदनी में
    तुम्हारे साथ मेरा बीतता था
    आज उसकी बातो में वह सिद्धत नहीं
    जिस जोड़े को दुनिया देखकर दंग रहती थी
    आज वो हंसो का जोड़ा नहीं
    याद आती तो बीते हुए पल तुम्हारे साथ
    न चाहकर भी उसे भुला नहीं पा रहा
    जहा साथ रहने की कसमें खाई थी
    वहीं मै तुमसे और दूर होता जा रहा
    हा अगर बदल गई तुम किसी और के लिए
    और बदलूंगा मै भी अपने लिए
    देखा है सिर्फ तुमने मेरा प्यार
    मगर मेरी नफरत होगी तो सिर्फ तेरे लिए
    किसी और के साथ खुद को तुम जोड़ती हो
    टूटे हुए दिल को और तुम तोड़ती हो
    तुम्हारी इस दिलासे से में अनजान था
    तुम्हारे इस धोखे से मै अनजान था
    मौन होकर सब सहता गया मै
    तुम्हारी इस हमदर्दी से मै बेगान था
    याद करके फिर मुझे भूल जाना
    तू बेवफा फिर भी दिल ये न माना
    लौटकर जाना चाहता अपने भूतकाल में
    जहा ज़िन्दगी भरी थी खुशियों से
    जो तुम्हारे आखिर सबसे मैंने नाता तोड़ दिया था
    उस नाते को पाना चाहता हूं अपनों से
    जिनका साथ छोड़ा मैंने तुम्हारे लिए
    उनके साथ रहना चाहता मै अपने लिए
    लौटकर फिर न तुम आना मेरी ज़िन्दगी में
    अपने रग रग से तुम्हे निकल दूंगा
    खुश हो तुम बहुत अपनी ज़िन्दगी में
    तुम्हारी उस खुशी से मै दूर रहूंगा ।

  • mayank8081 5w

    तेरे नाम

    तेरे नाम से मेरे नाम की पहचान बन जाए
    जो कुछ मेरा था अब तेरे नाम हो जाए
    मेरी रूह से आज से तेरी रूह जुड़ जाए
    जहा बीता बचपन मेरा
    अब वो आंगन भी तेरा हो जाए
    आज से मेरे नाम से तेरा नाम जुड़ जाए
    साथ अगर है हम दोनों हमेशा
    तो मुसीबतें बीच रास्ते से में अपना मुंह मोड़ जाए
    जब भी इन आंखों में मुझे तुम देखो
    तो तुम्हे तुम्हारा मुखड़ा दिख जाए
    जब भी मेरे दिल पर तुम अपना हाथ रखो
    तुम्हे अपने नाम की धड़कनें सुनाई दे
    जबसे मिली हो तुम मुझे
    शायद किस्मत भी तुम्हारे आने से बहुत खुश हुआ
    की अब जो चाहता हूं मै मिलता सब है मुझे
    जिस परिवार ने तुम्हे बेटी की तरह संभाला
    मगर मेरी मां को बहू नहीं, बेटी मिली है उन्हें
    जुड़े है साथ जन्मों के वादे एक दूसरे से
    मिलेंगे हर जन्म में हम दोनों
    साथ निभाने की कसमें खाई है एक दूसरे से हमने
    न छोड़ेंगे साथ एक दूसरे का हम दोनों
    शायद आएंगी बहुत सारी मुसीबतें ज़िन्दगी में
    मगर साथ हो अगर तुम तो उसे भी पार कर लेंगे हम
    जो अगर तुम न हो साथ हमारे तो न कुछ कर पाएंगे हम
    तेरे नाम में ही मेरी दुनिया बस जाए
    तेरे मेरे नाम की एक अलग कहानी बन जाए
    विश्वास रहेगा हमेशा तुम पर मेरा
    तोड़ोगी नहीं तुम उसे कभी
    विश्वास रखना मुझ पर तुम
    तोड़ूंगा नहीं उसे मै कभी
    साथ देने हमेशा मेरे तुम
    पास रहने मेरे हमेशा तुम
    सच्चे अर्थों में मेरी अर्धांगिनी हो तुम
    विश्वास मुझ पर हमेशा तुम ।
    ©mayank8081

  • mayank8081 6w

    प्रेम की कहानी

    रुख बदला ज़िन्दगी ने ऐसा
    की अब जैसा था वैसा कुछ रहा नहीं
    कभी एक दूसरे के लिए जीते थे
    मगर आज पहले जैसा कुछ रहा नहीं
    दूरियां समय के साथ बढ़ती गई
    सूरज उगने के बजाय ढलता गया
    रात की शीतलता भी छीन गई
    रास्ता जानकर भी मै भटकता गया
    जब बिना कहे समझते थे एक दूसरे को वे
    एक दूसरे के दुख सुख को बिना कहे समझते थे
    आज समय ने ऐसा मोड़ लाया
    की एक दूसरे को वो अब समझना चाहते नहीं
    गलती है किसकी ये बताया नहीं जा सकता
    सब अपनी जगह सही है गलत है
    मगर उस किस्मत ने भी तोड़ा दोनों को ऐसे
    की एक दूसरे की नज़रों के अब वो गलत है
    सच कहा किसी ने कभी
    की वक़्त हमेशा बदलता है
    मगर वो प्रेमी क्या जाने
    की वक़्त उन्हें करीब लाने के बजाय
    उन्हें एक दूसरे से अलग करता है
    अगर ज़िन्दगी में प्यार ही सबके लिए जरूरी है
    तो ऐसे प्यार में इतनी पीड़ा क्यों है??
    अगर ये गुनाह है तो सब ये गुनाह करते क्यों है??
    क्या ज़िन्दगी में प्रेम से बढ़कर कुछ नहीं
    क्या इसे पाना ही सब कुछ है, अगर हां तो क्यों है???
    ये एहसास तो बहुत अनोखा है
    मगर इसे पाना भी शायद धोखा है
    आकर्षण और प्रेम को सब नहीं समझते
    कहते सब इसे प्रेम ही है
    मगर प्रेम में किसी को हासिल करना नहीं
    किसी की खुशी के लिए उसका त्याग करना भी है
    गहराई से समझिए आप
    सब समझ जाएंगे
    अगर तन से नहीं मन से प्रेम हो किसी से
    तो आप भी प्रेमी कहलाएंगे ।
    ©mayank8081

  • mayank8081 6w

    आखिर क्यों??

    आखिर क्यों तेरे बिना नहीं जिया जाता मुझसे
    आखिर क्यों तुझे देखे बिना रहा नहीं जाता मुझसे
    तुझे भुलाना नहीं चाहता ये दिल
    मगर तेरी याद में वह तड़प कर मारना है चाहता
    आखिर क्यों बिन तुझे देखे सवेरा नहीं होता
    आखिर क्यों तुझसे बातें किए बिना दिन न गुजरता

    उस मुलाकात को वापस पाने की चाहत
    तुझसे मिलकर मीठी मीठी बातें करने की चाहत
    जब बिन मांगे सब मिल जाता मुझे कभी
    मगर अब तुझको पाने की मांग पूरी न होगी कभी
    जिंदगी के ऐसे पड़ाव पर अब आ गया मै
    की न कुछ खोने को है न कुछ पाने को
    अब जीना है तो बस जीना है
    अपनी यादों को बस मिटाना है

    क्या इश्क़ करना गुनाह है??
    उसको पाने की खुशी बेपनाह है
    दर्द देने वाला नहीं उसको समझता
    मगर दर्द सहने वाला इंसान
    ज़िन्दगी की सच्चाई को है समझता
    किया जिसने मुझपर ये एहसान
    कुछ पल के लिए सही
    मगर थी तो वो मेरे पास
    सिखा गई ज़िन्दगी की एहमियत को
    सिखा गई प्रेम की उस परम आनन्द को

    आखिर क्यों याद करता मै हर उस पल को
    आखिर क्यों भुला नहीं पा रहा तुझे मै
    क्यों मेरी नज़रों के सामने हर पल तुम आती
    क्यों तुम्हे देखने की चाहत हर पल मुझे होती
    आखिर कौन सी दुनिया में तुम चले गए
    जहा तक पहुंचना मुमकिन नहीं
    आखिर क्यों तुम मुझसे दूर चले गए
    जहा पर तुझसे मिलना मुमकिन नहीं
    ©mayank8081

  • mayank8081 7w

    चलते रहना

    काटो से भरे मार्ग पर
    कदम तुझे ही है रखना
    अतीत के पन्नों को याद मत कर
    बस चलते रहना तुम चलते रहना
    आसमान को चीर के रख देना
    बिना थके चलते रहना
    जिस मंज़िल को पाने की चाह है तुझमें
    उस मुकाम को तुझे है हासिल करना
    जाता कहा है मुंह मोड़ के
    हारता वो है जो प्रयास नहीं करता
    अगर ठाना है मन में कुछ पाना है तुझे
    बिना किसी के सहायता के युद्ध लड़ना है तुझे
    ये ज़िन्दगी को एक जंग समझो तुम
    जहा विजय तुझे प्राप्त है करना
    अपनी आत्मा से पूछ तू
    की भीख के सहारे ज़िन्दगी तुझे है जीना
    या अपने बल बूते जहान तुझे है बनाना
    बस अपनी राह पर चलते रहना
    तेरी नींद तेरा सबसे बड़ा शत्रु है
    तुझे अपने आप को संयम रखना है
    हारता वही है जो
    शुरवात करके को बीच में रुक जाता है
    जीतता वही है जो
    मन में ठानकर प्रयास करता रहता है
    अपने अंदर की प्यास को बढ़ाओ
    अपने मंज़िल को पाने की इच्छा रखो
    उस पाने के लिए सफल प्रयास करते रहो
    फल के डर से खुद को मत भटकाओ
    असीम धैर्य से सफलता का इंतज़ार करो
    ©mayank8081

  • mayank8081 8w

    प्रकृति की लीला

    ये बदलते मौसम की आवाज़
    जो मुझसे गुफ्तगू करती
    अपने दिलबर के इंतज़ार में
    वो बरसने को तरसती
    ये फूल भी तुम्हारी राह देखते
    जिसकी सुंदरता फीकी पड़ती
    ये उड़ती चिड़िया भी गाती
    तो तुम्हारे आने के इंतज़ार में
    अब किसी तरह बीत रहा समय मेरा
    इंतज़ार है तुम्हारी प्रेम की छाया में
    जिस पल ईश्वर ने मुझे तुमसे मिलाया
    आज उस पल को पाने को हम तरसते
    जिस प्रेम को संसार ने बचपना कहा था
    उस प्रेम को प्यार करने वाले ही समझते
    आज मिलने के लिए हम बहुत तड़पते
    मगर मिलन को हुए एक अरसा होगया
    जिसने हम दो जिस्म एक जान को बनाया
    आज उसने न जाने क्यों अकेला कर दिया
    तुम्हारी याद में अब सिर्फ आंसू बहते है
    ये गुजरती हवाएं भी कुछ कहती है
    शायद रूठ गया है मुझसे कोई
    की उसकी मुस्कान भी न देखने को मिलती है
    क्या ये गलती थी मेरी या मेरा कसूर था
    अब अपने प्यार को साबित करने की बारी आ गई
    तुम्हे पाने का हर पल मेरा वो फितूर था
    मगर अब उसे भुलाने की बारी आ गई
    तुम्हे पाने का पागलपन मुझ पर सवार था
    मगर अब सूनेपन की ज़िन्दगी हो गई
    तुमसे मिलने को दिल जो इकरार था
    मगर अब अकेलेपन की ज़िन्दगी हो गई

  • mayank8081 8w

    गलत है

    किसी को चाहना गलत नहीं
    मगर किसी को एक मकसद के लिए चाहना
    गलत है

    प्यार में गलती करना गलत नहीं
    मगर प्यार में गलती को दोहराना
    गलत है

    प्रेम में आंसू बहाना गलत नहीं
    मगर किसी के आंसू का कारण बन जाना
    गलत है

    किसी के प्यार को ठुकराना गलत नहीं
    मगर किसी को धोखा देकर ठुकराना
    गलत है

    प्यार में शक करना गलत नहीं
    मगर अपने प्यार पर विश्वास ना करना
    गलत है

    प्यार में गुस्सा करना जायज है
    मगर गुस्से में अपशब्द कहना
    गलत है

    रात भर एक दूसरे से बात करना गलत नहीं
    मगर एक दूसरे को समय न देना
    गलत है

    प्यार में किसी को भूलना गलत नहीं
    मगर उसकी गलती पर उसे बार बार टोकना
    गलत है

    किसी को अपना बनाना गलत नहीं
    मगर उसके कारण अपनो से बिछड़ना
    गलत है

    प्यार में कुर्बानी देना गलत नहीं
    मगर उसके लिए अपनी कुर्बानी ना दे पाना
    गलत है

    बेइंतहा प्यार करना गलत नहीं
    मगर प्यार करते करते अपनी हदें भूल जाना
    गलत है

    जरूरी नहीं जिसे तुम प्यार करो
    वह भी तुमसे प्यार करे
    मगर किसी के साथ ज़बरदस्ती करना
    गलत है
    ©mayank8081

  • mayank8081 8w

    प्यार को पाने की खुशी
    सबसे ज्यादा होती है मगर
    प्यार को खोने का दुख उससे भी गहरा होता है ।

  • mayank8081 9w

    लम्हे

    वो लम्हे, वो यादें, वो बातें
    तेरे साथ गुजारने को दिल बेकरार है
    वो आहटें, वो धड़कने, वो भोर की किरणें
    आज भी कहती कि तुझे मुझसे प्यार है
    हर पल बिताए लम्हों की तलाश रहती है
    तुझसे दूर होने जाने की याद सताती है
    सिर्फ एक दौर चला था हमारे बीच का प्यार
    मेरे उस प्रस्ताव को किया था तुमने इंकार
    सांझ के उस किनारे पर था हमारा एक बसेरा
    तेरी यादों में पूरी रात गुजर जाती थी
    न जाने कब हो जाता था सवेरा
    अब तलब है मेरी सिर्फ तुझे पाने की
    चाह है तो बस उस मकाम को पाने की
    ताउम्र तेरी तलाश जारी रखूंगा
    मौत को गले लगाकर ही तुझे अलविदा कहूंगा
    सफर तुझे पाने का भी शुरु हुआ है
    चाह कर भी तुझे भुला नहीं पा रहा हूं
    ख्वाबों के सहारे जिंदगी गुजार रहा हूं
    कैसा नाता जुड़ गया है तुझसे
    फसलों को मै कम न कर पा रहा हूं
    अपने एहसास को कविता का रूप दे रहा हूं
    नाराज़ पड़ा है कबसे ये दिल तुमसे
    ज़िद पर अकड़कर अब तू न मानेगी
    जिस प्यार को मेरे तू न समझ सकी
    अब उस प्यार को पूरी दुनिया समझेगी
    आखरी मोड़ पर तुमने अपना फैसला बदला था
    अपनी आज़ादी छोड़कर तुम्हारे लिए बदला था
    मगर तुमने तो इस प्यार को सहारा न दिया
    अपने इस आशिक़ को तुमने बंजारा बना दिया
    ©mayank8081