meen26

doctor by profession�� write for satisfaction ��

Grid View
List View
Reposts
  • meen26 16h

    सबसे आगे निकलने की होड़ में कितना आगे निकल आये हम
    कि छूट गये पीछे रिश्ते- नाते, स्नेह व्यवहार और अपनापन

    शायद उस ऊपरवाले की यह मर्ज़ी है जो मौका मिला है मुडकर देखने का पीछे
    मिला है वक्त ही वक्त कि अब हम अपनों के साथ रहे मिलकर नातों को प्यार से सींचें

    कहाँ फुर्सत नहीं थी खुद के लिये जीने की भी अब इतना मिला है समय की कटता नहीं
    ये तो मिला है भागती जिन्दगी से एक अन्तराल सोचने को कहीं कुछ पीछे छूटा तो नहीं

    होंगे अगर परेशान इस करफू को लेकर तो होना कुछ भी नही हासिल
    आ बैठ करें कुछ यादें ताज़ा खो गये जो इस अन्धी दौड में
    वो पल करें हासिल
    ©meen26

  • meen26 1d

    प्रकृति का नियम है जो बोया वो काटना भी होगा
    बेजुबानों के जो बहे हैं आँसू उनका हिसाब देना ही होगा

    परमात्मा की सबसे बुद्धिमान रचना है आदमी
    मौके दिये उस रब ने तो भी इन्सान ना बन सका आदमी

    बर्बाद कर दिया जीव जंतुओं के अस्तित्व को
    अब कुदरत ले रही है बदला संतुलन पूरा करने को

    संयम रखना यह वक्त भी गुजर जायेगा एक रात की तरहा
    पर लेना है यह प्रण की होगा व्यवहार अब इन्सान की तरहा
    ©meen26

  • meen26 2d

    फिक्र तो झलकती है दूरियों में भी
    हमेशा नज़दीकी ही सुकून नही देती है
    हो गर कोई मुश्किल हल इन फासलों से
    तो यह गैर हज़िरि भी राहत देती है
    ©meen26

  • meen26 1w

    तुम और तुम्हारे ख्याल काफ़ी हैं
    रातों की नीन्द चुराने को,
    अब आंखें बन्द होती कहाँ हैं सोने को
    बन्द होती हैं बस तुम्हे ख्वाबों में बुलाने को
    ©meen26

  • meen26 2w

    यूँ तो कोई वादा ना किया ना ही ली कोई कसम
    फिर भी एक अन्जानी डोर से बन्ध गये हैं तुम हम
    ©meen26

  • meen26 2w

    काश कि तेरी रूह में इस कदर उतर जाऊँ मैं
    तुझको पाकर तुझ में ही कहीं खो जाऊँ मैं
    ©meen26

  • meen26 2w

    सुनो ,
    रंग दिया इस कदर इश्क़ ने तेरे मेरी रूह को
    हर रंग अब लगता है फीका और बेरंग सा
    ©meen26

  • meen26 2w

    महक तेरे वजूद की इत्र सी उतर गयी जहन में
    जितना जानती तुमको उतना ही खो जाती तुम में
    ©meen26

  • meen26 3w

    काश कि तेरी मोहब्बत यूँ मुझ पर अपना रंग दिखाये
    ना दुनिया मुझे तुझसे ना तुझे मुझसे अलग पहचान पाये
    ©meen26

  • meen26 3w

    तुझ पर शक करना तो यूँ खुद पर ही सितम जैसे होता है
    पर तू साथ है मेरे हमदम किस्मत पर यकीन कम होता है

    रश्क़ होता है कभी तो अपने ही नसीब पर यूँ भी होता है
    ना पाने की है तमन्ना पर जाने क्यूँ खो देने का ड़र होता है
    ©meen26