Grid View
List View
Reposts
  • meri_ankahi_rachanayen 5d

    बस यूँ ही... ������

    Read More

    2 पंक्तियाँ...

    ©meri_ankahi_rachanayen

  • meri_ankahi_rachanayen 1w

    बस यूँ ही...������

    Read More

    2 पंक्तियाँ...

    जख़्म है कि दिखता नहीं,
    दर्द है कि रुकता नहीं!

    श्रीमती माधुरी मिश्रा 'मधु'
    27/02/21
    ©meri_ankahi_rachanayen

  • meri_ankahi_rachanayen 2w

    बस यूँ ही... ������

    Read More

    2 पंक्तियाँ...

    दर्द कुछ यूँ 'मधु' अपनी ताकत बताता है,
    देनेवाले के पास... एक दिन लौट आता है।

    श्रीमती माधुरी मिश्रा 'मधु'
    ©meri_ankahi_rachanayen

  • meri_ankahi_rachanayen 3w

    माँ सरस्वती के कर-कमलों में सादर वंदन।
    आप सभी को 'वसंत पंचमी' की ढेर सारी बधाइयाँ एवं शुभकामनाएँ।
    ������

    Read More

    वसंत पंचमी...

    माँ शारदे तेरी कृपा... 'मधु' आँगन सदा बरसती रहें,
    ज्ञान, बुद्धि, विवेक संग... मुस्कान हृदय बसती रहें।

    श्रीमती माधुरी मिश्रा 'मधु"
    ©meri_ankahi_rachanayen
    16/02/21

  • meri_ankahi_rachanayen 3w

    बस यूँ ही... ������

    Read More

    2 पंक्तियाँ...

    ज़िंदगी दर्द के सिवाए और कुछ नहीं 'मधु',
    मैंने देखें हैं मुस्कान के पीछे गहरे जख़्म छिपे!

    श्रीमती माधुरी मिश्रा 'मधु'
    ©meri_ankahi_rachanayen
    15/02/21

  • meri_ankahi_rachanayen 3w

    बस यूँ ही...������

    Read More

    2 पंक्तियाँ...

    ©meri_ankahi_rachanayen

  • meri_ankahi_rachanayen 3w

    बस यूँ ही... ��
    @hindiwriters #pappa_yaaden

    Read More

    पप्पा... ‍♂️✨

    मई माह,
    धूप तेज थी,
    सिर चकरा रहा था,
    माथे से पसीना बूँद की शक्ल में टपक रहा था।

    तभी...
    एक सघन पेड़ की छाया मिली,
    थके पैर थम गए,
    धधकती बूँद शीतल हवा के स्पर्श से सुस्ता उठी,
    अधर मुस्कुरा उठे।

    अचानक...
    यादों का कारवां चला,
    कांधे पर गमछे तले सिमटा बचपन लौट आया,
    और जिंदगी की हर धूप से बचाने वाले 'पप्पा'...
    आँखों की नमी संग स्मृति पटल पर लौट आए...!

    श्रीमती माधुरी मिश्रा 'मधु'
    10/02/21
    ©meri_ankahi_rachanayen

  • meri_ankahi_rachanayen 4w

    @hamsafar जी एक प्रयास...������

    Read More

    Clb...

    भागकर दुनिया से... कहो, कहाँ जाओगे,
    सबसे भाग लोगे... खुद से कैसे भाग पाओगे?
    निराशा के बादल हटा... थोड़ा दिल से मुस्कुराओ,
    बेवफ़ा से बचे आज... कल किसी अपने को पाओगे।

    श्रीमती माधुरी मिश्रा 'मधु'
    ©meri_ankahi_rachanayen

  • meri_ankahi_rachanayen 5w

    *'जन्मदिन'*

    मेरे दिल का एक टुकड़ा... दिल के बाहर धड़कता है,
    खुदा का नूर है नूरानी सूरत लिए आँखों में बसता है।

    जन्मदिन के तोहफों में मुझे मिला है कुछ यूँ,
    कोई ख़्वाहिश रही नहीं उसे गोदी में अपनी पा।

    शैतान है थोड़ा, वह जिद्दी भी है जरा,
    पर प्रेम और संस्कार रग-रग में है भरा।

    हर एक मुस्कान पर उसकी सभी का जा निसार है,
    सभी की मुस्कराहट है 'प्रांजल' सभी का प्यार है।

    *****

    मम्मी की अभिमान और डैडी का गुमान है,
    दादा-दादी का दुलारा, नाना-नानी का मान है।

    मासी-मौसा जी को जिसपर सदा ही आता प्यार है,
    भाई-बहनों का हीरो 'प्रांजल' 'प्रीत भैया' की जान है।
    *****

    मेरी जान को, अभिमान को,
    सम्मान को, पहचान को...☺
    मेरे जीत को, मेरी हार को,
    मेरे अंतकरण के प्यार को...��
    जन्मदिवस की ढेर सारी बधाइयाँ एवं शुभकामनाएँ... ������

    ईश्वरीय कृपा तुमपर सदा बनीं रहें। मेरे जन्मदिन पर तुमसे अच्छा कोई और उपहार मुझे मिल ही नहीं सकता था, इसके लिए मैं सदा 'परम-पिता परमेश्वर' की ऋणी रहूँगी। ������

    "ईश्वर तुम्हारी हर अच्छी इच्छा पूरी करें और तुम्हें एक स्वस्थ, संपन्न, सुखद जीवन का आशीर्वाद दें।" बस आज अपने जन्मदिन पर मैं भगवान जी से यहीं कामना करती हूँ।♥️��✨

    तुम्हारी माँ...��‍��‍��‍����✨
    03/02/21

    Read More

    'जन्मदिन...'

    ©meri_ankahi_rachanayen

  • meri_ankahi_rachanayen 5w

    *जन्मदिन* ������

    फूलों-सी नाजुक, पंखुडी-सी मखमली,
    सोलह साल पहले ऐसी बिटिया हमें मिली। ��

    कम ही बोलती लेकिन समझा जाती हर बात,
    लक्ष्य साधने को तत्पर, न देखें जो दिन-रात। ��

    छोटी-छोटी आँखों में... ख़्वाब सजाती बड़े-बड़े,
    सफलता जिसकी बाट जोहती, निराशा जिससे डरे। ��

    माता-पिता की चिंता हो जिसे, जो सोच-समझ हर कदम चलें।
    ऐसी बिटिया के बलिहारी हम, हर दिन दिल से बस दुआ निकले। ��

    नाना-नानी, दादा-दादी संग अभिमान हमारी हो,
    मासी-मौसा, भाई-बहनों को तुम दिलोजान से प्यारी हो। ☺️

    रखना बेटी आगे भी सदा तुम मस्तक हमारा ऊँचा,
    नित नई ऊँचाई पाना, कोई मंजिल न रहे अछूता। ��✨✨

    श्रीमती माधुरी मिश्रा 'मधु'
    (01/02/21)

    *****

    हमारी प्यारी बेटी के लिए हमारे मन की बात...������

    हम सभी की प्यारी 'राशि' बेटी को जन्मदिन की ढेर सारी बधाइयाँ एवं शुभकामनाएँ। ईश्वरीय कृपा आप पर सदा बनी रहें। आप नित नई ऊँचाईयों को पाओ और अपने छोटे-बड़े सभी के लिए एक प्रेरणा, आदर्श और सुखद उदाहरण बनो।

    तुम्हारी मासी...☺️��✨
    01/02/21

    Read More

    जन्मदिवस...