Grid View
List View
  • mildreveries 22w

    By unknown writer

    Read More

    जितनी बटनी थी बट चुकी ये ज़मीं
    अब तो बस आसमान बाक़ी है

  • mildreveries 22w

    इश्क पर किसका ज़ोर है ज़ालिमात
    हम‌ तो सहारा ढ़ूढ़ रहे थे
    हमें किसी की‌ पनाह़ मिल गयी

    ©mildreveries

  • mildreveries 23w

    Why does life keep giving lemons
    Why is the world always so glum
    For bad things happen to those 
    Who carry the strength to overcome 

    ©mildreveries

  • mildreveries 24w

    क्या कुछ नया कहा मैंने

    क्या कुछ नया सोचा मैंने

    इस लम्हे को देकर वो कदर

    क्या कुछ नया सीखा मैंने

    ©mildreveries

  • mildreveries 27w

    ढुंढता रहा किताबों में दुनिया जहां के फलसफे़ 

    चाहत है अब उस‌ इश्क़-ए-म़ान की एक‌ झलक की

    ©mildreveries

  • mildreveries 28w

    रंग दो रंग के मिजाज़ है दुनिया के,

    कभी‌ नकद तो कभी उधार 

    ©mildreveries

  • mildreveries 28w

    Dream out loud and make no sound
    Find your cloud and ride it 'round

  • mildreveries 28w

    तेरी फ़ुरक़त का सदमा ना झेला जाए

    क्या बुरा और क्या भला ना समझा जाए 

    ©mildreveries

  • mildreveries 28w

    दिलकशी इस तरह महरूम हुई जानशीं से

    पतझड़ के पत्ते भी मुरझाने से ख़फा हुए 

    ©mildreveries

  • mildreveries 29w

    कल ख्वाब में आई एक परछाई
    बड़ी सहज बड़ी सरल
    प्रतीति सूरज की भांति उज्जवल
    आवेग देवी समान प्रगाढ़ 

    खूबसूरती की इंतहा देखी
    जब परछाई में अपनी मां देखी
    सोचा ऊपरवाले तू भी गज़ब करता है
    ख्वाब में भी आंसू गिरवा देता है

    मां से कहा एक मसला हल कर
    कब तक देगी कंधा मेरे सर के लिए
    मां मुस्कराई और कहा
    जब तक लोग मुझे अपने कंधों पर ना उठा ले

    प्रत्यक्ष पर होता है ख़ेद मुझे
    नहीं दिखता कोइ विकल्प यहां
    ख्वाब कितना भी हो विनीत 
    सवेरे की पहर कर देती उसे चित्त 

    जब थी खुशी की पवन प्रचलित
    तुझसे ही तो बांटे सभी पल
    इस ग़म के आगोश में सारी खुशी कब जल गई
    मां तू इस वक्त मुझे अकेला छोड़के कहा चली गई

    मानता हू के हर रात के बाद
    आती है एक सुबह नई
    फिर भी आशा करता हूं कि
    इस सुबह की पहर से पहले
    ख्वाब में दिखे फिर वही परछाई
    ©mildreveries