Grid View
List View
Reposts
  • nishadevis 2h

    प्यार को भूला

    ईश्वर के हम सब संतान अनोखे,
    पुतले हाड़-माँस के अजब अनोखे, 
    भिन्न-भिन्न सब अलग अनोखे,
    स्वभाव रंग-रूप भी अलग अनोखे। 


    पर ओझल नहीं हम उसकी नजर से, 
    दृष्टि सब पर समान रूप से , 
    भेदभाव न कभी किसी से, 
    प्यार समान करते हम सब से। 


    पर इंसान तो जैसे प्यार ही भूला, 
    ईर्ष्या, द्वेष,घृणा को पोषा- पाला, 
    भेदभाव हर इंसान ने पाला, 
    परमपिता के प्यार को भूला। 

    _________________________
    ©nishadevis

  • nishadevis 2d

    Word Prompt:

    Write a 8 word short tale on Positive

    Read More

    सकारात्मकता लक्ष्य की तरफ शीघ्र पहुंचाती है

  • nishadevis 4d

    Word Prompt:

    Write a 6 word micro-tale on Triumph

    Read More

    सतत प्रयास से विजय हासिल की

  • nishadevis 4d

    Word Prompt:

    Write a 6 word micro-tale on Aroma

    Read More

    प्रातःकाल की भीनी सुगंध

  • nishadevis 4d

    Word Prompt:

    Write a 3 word one-liner on Aroma

    Read More

    फूलों की सुगंध

  • nishadevis 4d

    Word Prompt:

    Write a 6 word short tale on Remind

    Read More

    उसने खुशी से बचपन याद दिलाया

  • nishadevis 1w

    # Happy Makar Sankranti #

    Read More

    Happy Makar Sankranti

    हम सब अलग-अलग हैं तिल के जैसे,

    मिल जाए तो तिल गुड़ के जैसे,

    जोश आ जाय गरम खिचड़ी के जैसे,

    दिल उड़ने लगता पतंग के जैसे,
    ©nishadevis

  • nishadevis 1w

    Word Prompt:

    Write a 10 word one-liner on Plethora

    Read More

    लोगो ने मुद्रा व भोजन का दान बहुतायत मात्रा में किया

  • nishadevis 1w

    Word Prompt:

    Write a 3 word micro-tale on Trust

    Read More

    चरित्र पर विश्वास

  • nishadevis 1w

    Word Prompt:

    Write a 6 word micro-tale on Pain

    Read More

    अपनों की बेरुखी ने बड़ा दर्द दिया