Grid View
List View
  • pihu_tripathi 7w



    मेरी फितरत में नहीं अपना
    गम बयां करना।।
    अगर तेरे वजूद का हिस्सा हूं
    तो महसूस कर तकलीफ मेरी।।
    Pihu

  • pihu_tripathi 8w



    कोई तो है मेरे अन्दर
    मुझे संभाले हुए।।
    मै बेकरार सी रहकर
    भी बरकरार हूं।।
    पीहू

  • pihu_tripathi 9w



    देखा जो इश्क़ आंखो में
    तो कहने लगा हकीम।।
    अफसोस की तुम इलाज
    के काबिल नहीं रहे।।
    Pihu

  • pihu_tripathi 9w



    मै तुझे ताउम्र
    याद आऊ।।
    भूलने वाले
    तेरी सजा हो
    ये ।
    Pihu❣️

  • pihu_tripathi 9w

    ❣️

    रंजिश है अगर दिल
    में तो खुलकर
    गिला करो।।
    मेरी फितरत ही
    ऐसी है।।
    मै फिर भी हंसकर
    ही बोलूंगी।।
    Pihu

  • pihu_tripathi 9w



    It's time to
    Let go now
    Said the future......
    But
    I don't know how*/,?
    There is an art to it
    ❣️replied grace❣️
    ,,Will uh show me,,
    Time smile down on me❣️
    Patience little one❣️
    I will teach uh..
    Pihu❣️

  • pihu_tripathi 9w



    कभी तुम साथ रहे,,कभी रहे तुम हमसे जुदा
    पर जितना किया इश्क़,बस तुम्हीं से किया।।

    अब साबित करने को ना कहो ए मेरे जा
    इस बात के है फकत दो ही गवाह।।

    एक मै और एक मेरा खुदा।।
    Pihu

  • pihu_tripathi 9w



    कुछ तो है जो बदल गया है
    शाख के पत्तों का रंग उतर गया है।।

    कैद था कोई को दिल के दरवाजों में
    आज लांघ कर देहलीज निकल गया है।।

    एक वक़्त था जब हर वक़्त साथ था वो मेरे
    शायद •••••••अब वक़्त बदल गया हैं।।

    अफसोस करना भी अब तो बेमानी सा लगता है
    खुद अपना ही कल एक कहानी सा लगता है।।
    बस कोई नींद से जगा दे अब हमे।।
    और बोले उठ सवेरा हो गया है।।
    Pihu

  • pihu_tripathi 9w



    हो सकता है कि मेरी
    कहीं बात
    तुम्हे समझ ना आए।।
    मेरे लिखे शब्द तुम में
    कोई जज्बात ना जगाए।।

    हो सकता है कि मेरी सोच
    तुमसे मेल ना खाए।।
    मेरे लिखे तर्क तुम्हे
    निर्थरक नजर आए

    तुमने यहां तक की मेरी कविता
    पढ़ ली मेरे लिए वहीं
    बहुत है।।
    Pihu

  • pihu_tripathi 9w



    ठहर जा
    तू
    मेरी बाहों की
    हिफाज़त में।
    सुकून ना मिले
    तो मोहब्बत
    कम कर देना।।
    Pihu