pika________chu_

STAY संस्कारी ��

Grid View
List View
Reposts
  • pika________chu_ 10w



    काश ऐसी भी हवा चले
    कौन किसका है , पता चले ।

    ©pika________chu_

  • pika________chu_ 10w



    कैसे बताएं तुम्हे अपने हाल
    खंजर की नोक पर ,
    दिल को रखे बैठें है ।

    ©pika________chu_

  • pika________chu_ 10w



    मेरे इश्क़ से मिली है ,,
    तेरे हुस्न को ये शौहरत ,

    तेरा ज़िक्र ही कहाँ था
    मेरी दीवानगी से पहले ,,

    ©pika________chu_

  • pika________chu_ 11w



    “ज़िंदगी” की “तपिश” को
    “सहन” किजिए “जनाब”,

    अक्सर वे “पौधे” “मुरझा” जाते हैं,
    जिनकी “परवरिश” “छाया” में होती हैं…।


    ©pika________chu_

  • pika________chu_ 11w



    निराशा में आशा की झलक दिखा दे,
    दुखों में खुशी की बौछार करा दे,
    दर्द पर ऐसा मरहम लगा दे,
    एक गुरु ही है जो भगवान से साक्षात्कार करा दे!

    ©शुभम

  • pika________chu_ 12w



    लत तेरी ही लगी है, नशा सरेआम होगा,
    हर लम्हा जिंदगी का सिर्फ तेरे नाम होगा।

    ©pika________chu_

  • pika________chu_ 12w



    तलाश जिंदगी की थी
    दूर तक निकल पड़े


    जिंदगी मिली नही
    तज़ुर्बे बहुत मिले


    ©pika________chu_

  • pika________chu_ 12w



    कभी जो ख्वाब देखा तो
    मिली परछाईयाँ मुझ को
    मुझे महफ़िल की ख्वाहिश थी
    मिली तनहाईयाँ मुझको |

    ©pika________chu_

  • pika________chu_ 12w

    @d_shubh पंक्तियाँ अच्छी हो या न हो शब्दो का महत्व देखा जाता है ।। ✌�� I hope u like my feelings and thoughts also ....��

    Read More



    मीरा की जान हु में
    रुक्मणी की पहचान हु में

    इनके बिना नही चाहता जीना
    चाहे पड़ जाये जहर ही पीना ।

    ©pika________chu_

  • pika________chu_ 12w



    जला अस्थियाँ बारी-बारी
    चिटकाई जिनमें चिंगारी,
    जो चढ़ गये पुण्यवेदी पर
    लिए बिना गर्दन का मोल
    कलम, आज उनकी जय बोल।

    जो अगणित लघु दीप हमारे
    तूफानों में एक किनारे,
    जल-जलाकर बुझ गए किसी दिन
    माँगा नहीं स्नेह मुँह खोल
    कलम, आज उनकी जय बोल।

    पीकर जिनकी लाल शिखाएँ
    उगल रही सौ लपट दिशाएं,
    जिनके सिंहनाद से सहमी
    धरती रही अभी तक डोल
    कलम, आज उनकी जय बोल।

    अंधा चकाचौंध का मारा
    क्या जाने इतिहास बेचारा,
    साखी हैं उनकी महिमा के
    सूर्य चन्द्र भूगोल खगोल
    कलम, आज उनकी जय बोल।

    ©pika________chu_