Grid View
List View
Reposts
  • piyush_rai_bhumihar 4h

    वादा

    अब बातें बंद कर चुका हूँ मैं,
    कर के वादा एक जुनून लिये चला हूँ मैं।
    अगर बन गया तो दुबारा तेरे पास लौट आऊँगा मैं,
    वरना यार! तुझे अपना शक्ल नही दिखाऊॅगा मैं।।
    ©piyush_rai_bhumihar

  • piyush_rai_bhumihar 5d

    बातें

    जब भी हम दोनों में बात होंती है,
    लड़ाई झगड़ा सरेआम होती हैं।
    मैं गलत तो तुम गलत बस ,
    इसी बातों में सुबह से शाम होती है।।

  • piyush_rai_bhumihar 1w

    शोहरत

    टुटकर गिरा हूँ हारा बहुत हूँ,
    उम्मीदों की पंखुडियों को संवारा बहुत हूँ।
    हौसल तोड़ कर जोड़ा हूँ, शिखर तक पहुँचने का।
    आज आधे में हूँ, पर
    शोहरत कमाया बहुत हूँ।।
    ©piyush_rai_bhumihar

  • piyush_rai_bhumihar 1w

    बातें

    आज भी अकेले में मैं उसे याद कर लेता हूँ,
    गुजरा कल समझ कर ही सही उससे बात कर लेता हूँ।
    वह आज भी time pass ही समझती है मुझे,
    और मै उसे पहले जैसे ही प्यार कर लेता हूँ।।
    ©piyush_rai_bhumihar

  • piyush_rai_bhumihar 2w

    Attitude

    मैं सिर्फ अपनी औकात लिखता हूँ
    किसी दुसरे कि हैसियत को बर्बाद लिखता हूँ
    किये होंगे वो भी मेहनत पर मैं उन्हें धुल के ही समान समझता हूँ
    ©piyush_rai_bhumihar

  • piyush_rai_bhumihar 2w

    मेरा गाँव

    घटा घिरी घनघोर हैं, चारों ओर खुशहाली है।
    अबकी बार गाँव आया हूँ, खेतों में हरियाली है।।
    कहीं लगे हैं पेड़ आम के, कहीं फुलों का उद्यान है।
    कही मघुमक्खियों का झुंड, तो अंगडाई लेता किसान है।।
    गाय जहाँ पर पाली जाती, पहरेदारी करता श्वान है।
    सुन लो ये शहर वालों, ऐसा प्यारा-सा मेरा गाँव हैं।।
    कहीं कोलाहल है नदियों का, तो बच्चों में भी रवानी हैं।
    अबकी बार गाँव आया हूँ, खेतों में हरियाली हैं।।
    धोती कुरता का परिधान यहाँ हैं,
    आत्मबल और सम्मान यहाँ हैं।
    शत्रुत्रा का मोल नहीं यहाँ पर, भाई चारे का संदेश भरा है।।
    खेतों की खुशबू मानो जैसे बोल रही हैं,
    आने वाले कल की खुशियाँ वह तौल रहीं हैं।
    इन सभी कलाकारों की हवा बड़ी मतवाली है,
    अबकी बार गाँव आया हूँ खेतों में हरियाली है।।
    ©piyush_rai_bhumihar

  • piyush_rai_bhumihar 2w

    Piyush rai bhumihar

    Read More

    .

  • piyush_rai_bhumihar 2w

    यादें

    याद आती हैं जब भी तुम्हारी कलम उठा लेता हूँ,
    कुछ लिखने कि उम्मीद में आँसू बहा देता हूँ।
    भिग जाते हैं पन्ने तेरी याद में मगर,
    तेरी यादों के सहारे ही जिंदगी गुजार लेता हूँ।।
    ©piyush_rai_bhumihar

  • piyush_rai_bhumihar 3w



    राह घनेरी जंगल की,
    मंजिल पथ की छाया है।
    उसी छाये के मध्य में ही,
    टुटा दिल का काया है।।
    ©piyush_rai_bhumihar

  • piyush_rai_bhumihar 3w

    Samjh nhi aata ki jindagi se dur bhagu ya phir uske sath rhu

    ©piyush_rai_bhumihar