• soulful_remedy 30w

    मेरे हर दर्द की दवा है मेरी माँ,
    कभी फटकारती है, तो कभी गले लगा लेती है माँ।

    मेरी आँखोँ के आंसू को अपनी आँखोँ मेँ समेटा है तुमने,
    अपने होठोँ की हँसी को मुझ पर लुटाया है तुमने।

    मेरी छोटी छोटी खुशियोँ मेँ शामिल होकर, अपने बड़े बड़े गम भुलाये है तुमने,
    जब भी कभी ठोकर लगी या कभी थम गया कहीं तो तुरंत याद किया है तुम्हे।

    दुनिया की बढ़ती गर्मी में, अपने आँचल की ठंडक और छाया देती है माँ ।
    खुद चाहे कितनी थकी हो, हमें देखकर अपनी थकान भूल जाती है माँ।

    प्यार भरे हाथोँ से, हमेशा मेरी थकान मिटाती है माँ,
    बात जब भी हो लज़ीज़ खाने की, तो हमें याद आती है माँ।

    रिश्तों को खूबसूरती से निभाना सिखाया है तुमने,
    लब्ज़ों मेँ जिसे बयाँ नहीँ किया जा सके ऐसी है मेरी माँ।

    भगवान भी जिसकी ममता के आगे झुक जाते हैँ,
    वही है जन्म देनी वाली माँ।

    ©soulful_remedy