• vivan_mac 34w

    तिश्नगी जम गई पत्थर की तरह होंठों पर, 
    डूब कर भी तेरे दरिया से मैं प्यासा निकला।
    @विवान