• prahlad_singh_shekhawat 6w

    कुछ कतल आँखों से भी किये जाते हैं
    खंजर की ही ज़रुरत हर दफा नहीं होती
    ©prahlad_singh_shekhawat