• shekhuzz 10w

    समय अगर ख़राब चल रहा हो तो हाथों की लकीरों को दोश देने का कोई फ़ायदा नहीं...
    ख़ुद की क़िस्मत हाथों की लकीरों में नहीं, तुम्हारे ख़ुद के किए हुए कर्मों की है,,
    उसको सुधारो, सब अपने आप ठीक हो जाएगा

    “शुभ प्रभात”