• abdulramiz 5w

    तारीकियाँ कुबूल थी मुझको तमाम उम्र,
    ,,
    ,,
    लेकिन मैं जुगनुओं की खुशामद न कर सका
    ©abdulramiz