• parveenmati 31w

    गले

    गाँव के लोग कहाँ समझेंगे शहर की जद्दोजहद
    कोई अकेला मिल जाये रस्ते में तो गले लगा लेते हैं

    प्रवीण माटी
    ©parveenmati